google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

राहु का गोचर , हमारे देश और पीएम मोदी पर डालेगा कुछ ऐसा प्रभाव की जानकार हैरान रह जाएंगे

Updated: Jun 17, 2020



ज्योतिषाचार्य मृत्युंजय ओझा -

जैसा की हम सभी लोग कोरोना और आर्थिक स्थिति से संघर्ष कर रहे हैं। आने वाले समय में शनि , गुरु और राहू का गोचर भारत और मोदी जी की कुंडली के लिए कैसा रहेगा, ये हम ज्योतिषीय आंकलन के द्वारा जानने की कोशिश करेंगे।


ज्योतिषाचार्य मृत्युंजय ओझा के मुताबिक भारत की जन्म कुंडली वृषभ लग्न की है और राहु लग्न में ही बैठा हुआ है। अभी की स्थिति में राहु का गोचर भारत की कुंडली के दूसरे भाव में हो रहा है। दूसरा भाव धन और वाणी का भाव माना गया है। हम देख रहे हैं की देश की आर्थिक ख़राब जरुर है लेकिंग अष्टम भाव में गुरु का गोचर, जिसकी दृष्टि धन भाव पर है, वो थोडी राहत जरुर दे रही है।


सितम्बर में राहु का गोचर भारत की कुंडली के लग्न भाव में होगा और नवम्बर से गुरु का गोचर भाग्य स्थान में होगा। ये गोचर आर्थिक रूप से भारत की स्थिति बेहतर करेगा लेकिन ज्यादा बेहतर स्थिति 2021 के बाद होगी।

अभी चीन और नेपाल के साथ जो सीमा विवाद चल रहा है , वो सितम्बर के बाद थोड़ा शांत जरुर होगा लेकिन ये फिर शुरू हो सकता है, क्योंकि मार्च 2022 तक राहु का गोचर भारत के लग्न में रहेगा जो पड़ोसियों के साथ विवाद खड़ा करता रहेगा।


भारत को अपने पडोसी देशो से काफी सतर्क रहने की जरुरत है क्योकि आतंकवाद और युद्ध जैसा माहौल बनता रहेगा। भारत के आतंरिक मामले जैसे सम्प्रदायिक दंगे और विरोध भी काफी हद तक हो सकते हैं।

शनि का गोचर भारत की अर्थव्यस्था के लिए काफी धीरे साथ देगा। व्यापार को लेकर नए नियम कानून बन सकते हैं जो छोटे व्यापारियों और विदेशी इन्वेस्टमेंट को प्रोत्साहित करेंगे।


आने वाला समय में मार्च 2022 तक भारत की आर्थिक स्थिति में उतार चढाव होंगे लेकिन इस समय किये गए संघर्ष, मेहनत और नियम में सुधार आने वाले समय में देश को काफी प्रगति देंगे।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की कुंडली तुला लग्न की है। राहु का गोचर नवम भाव में हो रहा है और सितम्बर के बाद अष्टम भाव में होगा। ये गोचर मार्च 2022 तक रहेगा जो मोदी जी के लिए अच्छा नहीं लग रहा है। स्वास्थ्य को लेकर काफी ध्यान रखना होगा। एक्सीडेंट्स, पेट या यूरिनल इन्फेक्सन जैसी बीमारियों से पीएम को सचेत रहना होगा। अष्टम का राहु मानसिक तौर पर परेशान करता है।


शनि को गोचर कुंडली के चौथे घर में हो रहा है, जो जनता का साथ आगे भी देगा। जनवरी 2023 तक , लेकिन मार्च 2022 तक राहू का गोचर अष्टम भाव से होने से मोदी जी को अपने कर्म स्थान में भी कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। जिसकी वज़ह से कुछ राज्य भाजपा के हाथ से निकल सकते हैं। सितम्बर 2020 से मार्च 2022 तक , मोदी जी को अपने स्वास्थ्य और करियर , दोनों में सतर्क रहने की जरुरत है क्योंकि ये समय अच्छा नहीं लग रहा है।


हम यही प्रार्थना करेंगे की भगवान मोदी जी पर अपना आशीर्वाद आगे भी बनाये रखें।

(लेखक ज्योतिषशास्त्र के प्रख्यात जानकार हैं और टीवी और डिजिटल मीडिया के ज्योतिष आधारित कार्यक्रमों में पैनलिस्ट के रूप में अक्सर ही शामिल होते रहते हैं)


1,733 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0