google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

प्रशासनिक और साहित्यिक कौशल के धनी हैं आईएएस नीतीश्वर



कहते हैं कि आईएएस जैसी प्रतिष्ठित परीक्षा को उत्तीर्ण करना जितना कठिन होता है उसके बाद मिली जिम्मेदारियों को निभाना भी बेहद चुनौतीपूर्ण होता है। उन्हीं चुनौतीपूर्ण जिम्मेदारियों के बीच अगर कोई अधिकारी कला और साहित्य के प्रति भी सामंजस्य बनाये तो ये बात व्यक्तित्व का एक ऐसा शानदार पहलू होता है जिसकी तारीफ बरबस ही निकलना स्वाभाविक होता है।


आज हम आपका परिचय कराने जा रहे हैं एक ऐसे ही आईएएस अधिकारी से जो न केवल अपनी प्राशासनिक कुशलता के लिए जाने जाते हैं बल्कि उन पर स्वयं मां सरस्वती की ऐसी कृपा विद्यमान है कि उन्हें मां के आशीष ने कलम और स्वर की अद्भुत शक्ति प्रदान की है।



बिहार के बेतिया के रहने वाले नीतीश्वर कुमार उत्तर प्रदेश कैडर के 1996 बेच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं। उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में जिलाधिकारी जैसे महत्वपूर्ण पद पर जिम्मेदारी निभाते हुए नीतीश्वर जी की छवि एक कुशल और कर्त्तव्यनिष्ठ प्रशासक की रही है। वर्तमान में केंद्र सरकार में संयुक्त सचिव की जिम्मेदारी निभा रहे नीतीश्वर जी अपनी प्रोफेशनल जिम्मेदारियों के साथ ही साहित्य साधना में लीन रहते हैं।

बीते दिनों उनकी पुस्तक"" कह दो ना'' के विमोचन में मौजूद वरिष्ठ पत्रकार शशि शेखर और उत्तर प्रदेश के पूर्व अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक विभूति नारायण राय ने नीतीश्वर जी की साहित्यिक तपस्या की खुले कंठ से प्रशंसा की। उनके फैंस में तमाम शिक्षाविद, पत्रकार,नौकरशाह और राजनीति जगत से जुड़ी बड़ी हस्तियां हैं। लॉकडाउन के दौरान एक निजी समाचार चैनल पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दी गई उनकी प्रस्तुति को दर्शकों ने खूब सराहा।


उनके भजन "आये हम तेरी शरण में हे प्रभु कल्याण कर"" और ""कर दे थोड़ी और कर दे किरपा प्रभु थोड़ी और कर दे"" सरल और सहज भाषा में ईश्वर की आराधना का वो सशक्त माध्यम हैं जिन्हें सुनने के बाद मानसिक और आध्यात्मिक शांति का एहसास स्वयं ही होने लगता है। सरल और भावुक किरदार से भरपुर नीतीश्वर जी अक्सर ही सोशल मीडिया के माध्यम से मित्रों और प्रशंसकों से रूबरू होते हैं। उनसे जुड़े लोगों का कहना है कि इतने बड़े पद पर होने के बावजूद उनका डाउन टू अर्थ नेचर उनके सरल स्वभाव का एक विशेष गुण है।

स्टेट टुडे भी नीतीश्वर जी की साहित्यिक साधना को शुभकामना देते हुए उनके और अधिक उज्जवल भविष्य की कामना करता है।


टीम स्टेट टुडे


147 views0 comments

Comments


bottom of page