google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

रंग लाई सीएम योगी की अपील, पहली बार नहीं हुई सड़कों पर ईद की नमाज


लखनऊ, 3 मई 2022 : ईद-उल-फित्रके पाक मौकेपर उत्तर प्रदेशने एक नयाइतिहास रचा है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथके आह्वान परइस बार पूरेप्रदेश में कहींभी यातायात बाधितकर सड़कों परईद की नमाजनहीं अदा कीगई। मुस्लिम धर्मगुरुओंने भी सीएमयोगी के अपीलका समर्थन कियाथा, नतीजतन, ईदकी नमाज ईदगाहअथवा अन्य तयशुदापारंपरिक स्थान पर हीहुई। हापुड़ औरलोनी (गाजियाबाद) सहितकई क्षेत्रों मेंजहां मस्जिद औरईदगाहों में जगहकम थी वहांतो अलग-अलगशिफ्ट में लोगोंने नमाड पढ़ी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथने ईद, अक्षयतृतीया और परशुरामजयंती के सौहार्दके बीच शांतिपूर्णढंग से सम्पन्नहोने पर सभीका अभिनंदन कियाहै। सीएम योगीने कहा 'ईदके मौके परपूरे प्रदेश मेंकहीं भी सड़कोंपर नमाज नहींपढ़ी गई। जहांस्थान का अभावरहा वहां, शिफ्टवारनमाज हुई। एकअच्छी पहल कोप्रदेशवासियों ने सहर्षस्वीकार किया। धर्मगुरुओं नेआगे आकर लोगोंका मार्गदर्शन किया।इसके लिए सभीका अभिनन्दन।'

पिछले वर्षों तकजहां 50 हजार सेएक लाख लोगसड़कों व अन्यस्थानों पर नमाजपढ़ते थे, वहांप्रदेश के इतिहासमें ऐसा पहलीबार हो रहाहै ईद कीनमाज सडकों परनहीं हुई। इससेपहले, अलविदा कीनमाज के समयभी ऐसी हीअभूतपूर्व स्थिति देखी गईथी, जब मुख्यमंत्रीकी अपील परलोगों ने मस्जिदोंमें ही नमाजअदा की थी।

यही नहीं, ईद, अक्षय तृतीयाऔर परशुराम जयंतीके एक हीदिन होने सेयूपी में जताईजा रही विवादकी आशंका भीनिर्मूल साबित हुई। लोगोंने ईदगाहों मेंनमाज पढ़ी तोपरशुराम जयंती पर विविधसंगठनों ने शांतिपूर्णआयोजन भी किए।प्रदेश के सभी 75 जिलों से हर्षऔर उल्लास केसाथ त्योहार मनाएजाने की सूचनाहै। वहीं राजस्थानके जोधपुर सहितदेश के कुछप्रान्तों में ईदपर दो समुदायोंके बीच हिंसाव तनाव कीखबरें आई हैं।

बीते दिनों, सीएम योगी नेअधिकारियों को ईद, अक्षय तृतीया औरपरशुराम जयंती के एकही दिन होनेपर पुलिस औरप्रशासन को अतिरिक्तसंवेदनशील रहने कोकहा था। साथही, सड़क परयातायात रोक करनमाज पढ़ने सेसामान्य जन कोहोने वाली परेशानीका हवाला देतेहुए इस बावतधर्मगुरुओं से संवादबनाने के निर्देशभी दिए थे।

मुख्यमंत्री के प्रयासका सकारात्मक असरदेखने को मिलाऔर कहीं भीसड़क पर नमाजनहीं हुई। सीएमके निर्देश परएहतियातन यूपी पुलिसने सुरक्षा चाकचौबंद की थी।अनुमान के मुताबिकइस वर्ष प्रदेशमें करीब 33 हजारजगहों पर नमाजअदा की गई, इसमें 2,800 स्थानों को चिन्हितकर सुरक्षा व्यवस्थाके इंतजाम किएगए थे।

बुलडोजर माडल औरधार्मिक स्थलों पर लगेअनावश्यक लाउडस्पीकर की समस्याके सौहार्दपूर्ण निदानके बाद अबसड़क पर नमाजपढ़ने की समस्याका आम सहमतिसे हल पेशकरने वाले योगीआदित्यनाथ के लाएंड आर्डर माडलकी सराहना होरही है। इनदिनों देश केविभिन्न प्रान्तों में चलरहे लाउडस्‍पीकरविवाद के बीचयूपी में सीएमयोगी ने मंदिर-मस्जिद सहित सभीधर्मस्‍थलों परतय मानकों केमुताबिक लाउडस्पीकर को कमआवाज में बजानेको कहा।

मथुरा स्थित श्रीकृष्णजन्मभूमि मंदिर और गोरखपुरस्थित गोरखनाथ मंदिरने आगे बढ़करइस आह्वान कासमर्थन करते हुएलाउडस्पीकर की आवाजको कम कियाअथवा उतारा तोस्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों नेभी सभी धर्मगुरुओंसे संवाद कियाऔर स्वप्रेरणा सेमस्जिदों से भीअनावश्यक लगे लाउडस्पीकरउतरने लगे। मंदिरहो या किमस्जिद, नियम विरुद्धलगे लाउडस्पीकर उतरनेके दृश्य यूपीमें आम होचले हैं। सबसेखास बात कियह पूरी प्रक्रियाआम सहमति सेहो रही है, कहीं से भीहिंसा, विवाद जैसी अप्रियघटनाओं की कोईखबर नहीं आई।

यूपी मेंबन रही शांतिऔर सौहार्द कीनई परंपरा सामाजिकसौहार्द और कानून-व्यवस्था को शीर्षप्राथमिकता मानने वाले यूपीके मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ की कोशिशेंरंग लाने लगीहैं। शांति औरसौहार्द के साथधार्मिक आयोजन होना यूपीमें एक परंपराबनती जा रहीहै, तो योगीके कानून व्यवस्थाने अन्य राज्योंके सामने नजीरभी पेश कियाहै।

बीती रामनवमीपर देश केकई राज्यों सेहिंसा और उत्पातकी अनेक घटनाएंहुईं। रामनवमी केअवसर पर शोभायात्रा निकली, तो शहर-शहर बलवाऔर बवाल हुआ, लेकिन उत्तर प्रदेशमें 800 से अधिकशोभायात्राएं निकलीं और विवादकी एक भीघटना नहीं हुई।
21 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0