google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

कामन सिविल कोड की वकालत करने वाले शिवपाल ने भंग कीं प्रसपा की राज्य व राष्ट्रीय इकाइयां


लखनऊ, 15 अप्रैल 2022 : प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव इन दिनों उत्तर प्रदेश के राजनीतिक गलियारे में काफी चर्चा का विषय हैं। राजनीतिक पंडित इन दिनों इटावा के जसवंतनगर से समाजवादी पार्टी के विधायक शिवपाल सिंह यादव के हर कदम को परखने में लगे हैं कि उनका रुख किस ओर है।

शिवपाल सिंह यादव ने शुक्रवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया की बैठक के अपनी सभी राज्य कार्य समितियों, राष्ट्रीय और राज्य कार्य प्रकोष्ठों और प्रवकतओं को भंग कर दिया है। उनके इस कदम को काफी गंभीरता से लिया जा रहा है। इसके साथ ही शिवपाल सिंह यादव का सियासी यू टर्न भी देखने को मिल रहा है। अब शिवपाल सिंह यादव प्रदेश में कामन सिविल कोड के लिए लड़ेंगे। शिवपाल सिंह यादव कभी इसके विरोधी हुआ करते थे। अब वह कामन सिविल कोड की वकालत कर रहे हैं। शिवपाल सिंह यादव ने इससे पहले उत्तर प्रदेश में समान नागरिक संहिता लागू करने की मांग की थी। गुरुवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) ने बाबा साहब भीमराव आंबेडकर की जयंती व महापंडित राहुल सांकृत्यायन की पुण्यतिथि के मौके पर ''राष्ट्रीयता व समाजवाद" विषयक कार्यशाला का आयोजन किया था।

इस कार्यशाला में पर प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि डा. आंबेडकर, राहुल सांकृत्यायन व राममनोहर लोहिया के सपनों का भारत बनाने की जिम्मेदारी हमारी है। उन्होंने एक बार फिर समान नागरिक संहिता की वकालत करते हुए इसे लागू करने की मांग की। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि आंबेडकर व लोहिया दोनों ही समान विचारधारा के महापुरुष थे। यही कारण है कि बाबा साहब ने समाजवाद की खुली पैरवी की थी। उन्होंने संविधान सभा में समान नागरिक संहिता की वकालत की थी जिसे लोहिया ने 1967 के चुनाव में जन-मुद्दा भी बनाया था।

2 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0