google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

यूपी- एक दिन में ढाई गुना बढ़े कोरोना के मामले, 8 राज्यों में संक्रमण तेज, 7 में खतरा बरकरार



कोरोना का प्रभाव कम हुआ है लेकिन कोरोना का खतरा बरकरार है। ये लाइन आप जितनी बार जितनी बेहतर तरीके से समझें उतना अच्छा है। ऐसा इसलिए क्योंकि बीते 24 घंटे में उत्तर प्रदेश में कोरोना के मामले ढाई गुना बढ़ गए हैं।


सिर्फ एक दिन पहले पूरे प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कुल 25 मामले मिले थे। इसके बाद एक ही दिन में मरीजों की संख्या ढाई गुना तक बढ़ गई। एक हफ्ते पहले 28 जुलाई को 89 रोगी मिले थे। तब से लगातार रोगियों की संख्या कम हो रही थी। बीते चौबीस घंटे में कोरोना के 65 नए मामले मिलने से स्वास्थ्य विभाग के कान खड़े हो गए हैं।

कोरोना के नए मरीज 10 जिलों से सामने आए हैं। जबकि सिर्फ एक दिन पहले 58 जिलों में कोई रोगी नहीं मिला था। अब कोरोना मरीज मुक्त जिलों की संख्या 48 रह गई है।


कुशीनगर, रायबरेली, गौतमबुद्धनगर, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, देवरिया, जौनपुर, शाहजहांपुर, कासगंज, कौशांबी से नए मामले सामने आए हैं। मंगलवार को लखनऊ में कोरोना के 11 मरीज मिले जबकि इससे पहले कई दिनों तक कई जिलों में कोरोना मरीजों के मामले दहाई तक नहीं पहुंचे थे। कोरोना से दो मरीजों की मौत भी हुई है जबकि बीते तीन दिन से मौतों के मामले थमे हुए थे।


अब तक प्रदेश में कोरोना के मामले


उत्तर प्रदेश में अब तक कुल 17.08 लाख लोग कोरोना से संक्रमित हुए। जिसमें 16.85 लाख मरीज स्वस्थ हुए। कुल 22,765 रोगियों की मौत हुई है। वर्तमान में सक्रिय केस 672 हैं। पाजिटिविटी रेट 0.01 प्रतिशत और रिकवरी रेट 98.6 फीसद है।


प्रदेश के 11 जिले अलीगढ़, अमेठी, अमरोहा, बदायूं, एटा, फर्रुखाबाद, हाथरस, महोबा, पीलीभीत, प्रतापगढ़ और सीतापुर कोरोना मुक्त हो चुके हैं। पूरे प्रदेश में अब तक कुल 6.62 करोड़ लोगों की कोरोना जांच की जा चुकी है।


क्या है वैक्सीनेशन की रफ्तार


उत्तर प्रदेश में बीते चौबीस घंटे में 25.14 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई गई। ये देश में एक रिकार्ड है। इससे पहले मध्य प्रदेश में एक ही दिन में 16 लाख वैक्सीन लगाने का रिकार्ड था। अब तक प्रदेश में वैक्सीनेशन का आंकड़ा पांच करोड़ पार कर चुका है। देश में अब तक सबसे ज्यादा वैक्सीन यूपी में ही लगाई गई है।


आठ राज्यों में आर फैक्टर से बढ़ी चिंता


इस बीच देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते आर नाट ने तीसरी लहर को लेकर चिंता बढ़ा दी है। आर नाट को आर फैक्टर भी कहते हैं। इससे पता चलता है कि कोरोना वायरस से संक्रमित एक व्यक्ति आगे कितने व्यक्तियों को संक्रमित कर रहा है। आठ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में आर नाट बढ़ रहा है, वहीं सात में स्थिर बना हुआ है।


देश में जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में आर नाट सबसे अधिक 1.4 पर पहुंच गया है। इसमें बढ़ोतरी हो रही है। आपको याद दिला दें यही वो प्रदेश हैं जहां बीते दिनों पर्यटन और सैर-सपाटे के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंच गए थे। सरकार को लगातार लोगों को चेतावनी देनी पड़ी थी। खुद प्रधानमंत्री ने झरने में नहा रहे लोगों के वीडियो पर चिंता जाहिर की थी।


इन दोनों राज्यों में कोरोना संक्रमित 100 लोग दूसरे 140 लोगों में संक्रमण फैला रहे हैं। इसके अलावा लक्षद्वीप, तमिलनाडु, मिजोरम, कर्नाटक , केरल और पुडुचेरी में भी संक्रमण की रफ्तार बढ़ रही है।

बहुत संभव है कि इन प्रदेशों में काम करने गए लोग वापस अपने प्रदेशों को लौटें। ऐसे में जिन राज्यों या जिलों में कोरोना का प्रभाव नियंत्रित हुआ है उसमें इजाफा देखने को मिल सकता है।


नगालैंड, हरियाणा, मेघालय, गोवा, झारखंड, दिल्ली और बंगाल में भी संक्रमण का आर फैक्टर अपनी जगह प टिका हुआ है। यानी यहां यहां नए मरीजों की संख्या न तो बढ़ रही है और न कम हो रही है।


आपको बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर में नौ मार्च से 21 अप्रैल के बीच आर नाट 1.37 पहुंच गया था। लेकिन मई में इसके एक नीचे आते ही दूसरी लहर कमजोर पड़ने लगी और जून में यह 0.78 तक आ गया था। आर नाट के इसी आंकड़े पर अमेरिका तीसरी लहर से जूझ रहा है। देश में औसत आर नाट का 1.2 फीसद तक पहुंच जाना तीसरी लहर के लिए गंभीर माना जा रहा है। दुनिया में अमेरिका, कनाडा और आस्ट्रेलिया कोरोना की तीसरी लहर से जूझ रहे हैं। उधर जापान में भी ओलंपिक के बीच स्थितियां बिगड़ती जा रही हैं।


टीम स्टेट टुडे


विज्ञापन


143 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0