google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

दिल्ली में गिरफ्तार आतंकी का लखनऊ से कनेक्शन, अयोध्या समेत बड़े नेता निशाने पर, दो आतंकियों की तलाश



दिल्ली में पकड़े गए आईएसआईएस के आतंकवादी ने पुलिस की पूछताछ में सनसनीखेज खुलासे किए हैं। आतंकवादियों की अयोध्या में राम मंदिर शिलान्यास के एक महीने के भीतर बड़ा आतंकी हमला करने की योजना थी। पकड़े गए आतंकवादी ने बताया है कि संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ यूपी में पिछले साल हुई हिंसा में उपद्रवियों से वसूली, संपत्तियों की कुर्की के नए कानून बनाने को लेकर भी बदला लेने की तैयारी थी। इसके अलावा यूपी पुलिस के एनकाउंटर में मारे गए अल्पसंख्यक समुदाय के 47 अपराधियों का भी बदला लेने की आतंकवादियों ने तैयारी की थी।


गिरफ्तार आतंकवादी अबू यूसुफ ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को बताया कि अगर वह दिल्ली को दहलाने के प्लान में सफल हो जाता तो उसका अगला कदम फिदायीन हमला करने का था। पुलिस पूछताछ में अबू यूसुफ ने कबूल किया कि उसने आत्मघाती हमले के लिए शरीर में विस्फोटकों को बांधने वाला बेल्ट भी तैयार कर रखा है। यह जानकारी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डीएसपी ने मीडिया को दी। अबू यूसुफ दिल्ली के किसी बेहद भीड़भाड़ वाले इलाके में बड़ा धमाका करना चाहता था। यह सोशल मीडिया के जरिए आईएसआईएस हैंडलरों के संपर्क में आया था और 2010 से पहले सऊदी अरब काम करने के लिए गया था।


दिल्ली के धौला कुआं इलाके से गिरफ्तार आतंकी अबू यूसुफ इस्लामिक स्टेट्स ऑफ सीरिया एंड इराक का ऑपरेटिव है। अबू यूसुफ ISIS के कमांडर के संपर्क में था। उसके पास पासपोर्ट भी था, जिसके तहत उसकी पत्नी और 4 बच्चे हैं। अबू यूसुफ को हाल ही में सीरिया में मारा गया यूसुफ अलहिंदी गाइड कर रहा था। इसके बाद वह पाकिस्तान के अबू हुफ्जा के संर्पक में था। हुफ्जा अफगानिस्ता में ड्रोन हमले में मारा गया था। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने यह भी बताया कि वह आतंक की दुनिया में अबू यूसुफ कई नामों से जाना जाता था।



इससे पहले शनिवार सुबह एनएसजी कमांडो ने दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के सहयोग से यूसुफ उर्फ अबू यूसुफ की निशादेही पर 2 प्रेशर कुकर में 15 केजी आईईडी को डिफ्यूज किया। दिल्ली में मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार आतंकी की पहचान यूसुफ उर्फ अबू यूसुफ के रूप में हुई है। बताया जा रहा है कि अबू यूसुफ उत्तर प्रदेश के बलरामपुर का निवासी है और लखनऊ में भी काफी दिनों रहा है। ऐसे में लखनऊ के साथ ही बलरामपुर जिले में भी उसके साथियों की तलाश की जा रही है। इस तलाशी अभियान में दिल्ली पुलिस के साथ उत्तर प्रदेश की एटीएस की टीम को भी लगाया गया है। इन फरार आतंकियों का कनेक्शन लखनऊ से भी मिल रहा है।


बलरामपुर में सात से आठ स्थान पर छापेमारी चल रही है। वहीं, दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने गिरफ्तार मुस्तकीम को अदालत में पेश किया, जहां से उसे 8 दिन की रिमांड पर भेज दिया गया।


दिल्ली में आतंकी हमले के अलर्ट के बीच शुक्रवार रात को धौला कुआं इलाके में दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल और आतंकियों के बीच एनकाउंटर हुआ। इसमें एक आतंकी गिरफ्तार हुआ है, जबकि कई अन्य के छिपे होने की आशंका जताई जा रही है, इसलिए सर्च ऑपरेशन रात भर चला और अब भी जारी है।


इसके साथ ही ये आतंकी कश्मीर के आतंकियों के संपर्क में भी था। उसके पास 40 पिस्टल और जिंदा कारतूस भी बरामद किए हैं।



आपको याद दिला दें कि पहले ही अलर्ट जारी हो चुका है कि आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के 3 खूंखार आतंकी पाकिस्तान के रास्ते भारत में दाखिल हो चुके हैं। ये तीनों आतंकी दिल्ली में कोई बड़ा आतंकी हमला कर सकते हैं और इनके निशाने पर दिल्ली में रहने वाले वीवीआइपी हैं। जैश-ए-मुहम्मद के इन आतंकियों के नाम गुलजान, जुमान खान और शकील अहमद बताए हैं।


तीनों जैश के मुखिया मुफ्ती अब्दुल रऊफ असगर के करीबी हैं। ये तीनों आतंकी जम्मू कश्मीर के सियालकोट सेक्टर के रास्ते भारत में घुसे हैं। इनके पास पाकिस्तान के अलावा अफगानिस्तान के पहचान पत्र भी हैं। बताया जा रहा है कि दो कश्मीरी युवक तीनों आतंकियों का मार्गदर्शन कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक ये बस, कार और टैक्सी से दिल्ली में घुस सकते हैं।



सुरक्षा एजेंसियों को यह इनपुट भी मिला है कि त्योहार के मौसम में आतंकी बड़ा हमला कर सकते हैं। इस अलर्ट के बाद दिल्ली में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। हालांकि, इसकी पुष्टि पुलिस के आलाधिकारी नहीं कर रहे हैं। बता दें कि अगले कुछ महीने में दिवाली समेत कई त्योहार पड़ेंगे, ऐसे में आतंकी भीड़ को निशाना बना सकते हैं। इसे देखते हुए दिल्ली में सुरक्षा एक बार फिर कड़ी कर दी गई है। पुलिस आयुक्त ने सभी थानाध्यक्षों को निर्देश जारी कर कहा है कि वे अपने-अपने इलाके में लगातार गश्त करते रहें। सुरक्षा में ढिलाई कतई बर्दास्त नहीं की जाएगी।

टीम स्टेट टुडे



50 views0 comments