google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

सीएम योगी ने प्रियंका के प्रस्ताव को दी हरी झंडी - कांग्रेस से मांगी बसों और चालकों की डिटेल



कोरोनाकाल में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री ने दलगत राजनीति से ऊपर उठकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। घर लौटने के इच्छुक प्रवासी मजदूरों के लिए 1 हजार बस चलाने की कांग्रेस की पेशकश को योगी सरकार ने स्वीकार कर लिया है। प्रियंका गांधी की ओर से प्रवासी मजदूरों के लिए बसों का इंतजाम करने की पेशकश करने के बाद अब यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के अफसरों ने उनसे बसों की लिस्ट मांगी है।



इस संबंध में सरकार के अपर मुख्य सचिव ने प्रियंका गांधी को चिट्ठी लिखते हुए सरकार की सहमति की जानकारी दी है। सोमवार को यूपी सरकार के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने प्रियंका को चिट्ठी लिखकर बताया है कि सरकार ने प्रवासी मजदूरों के संबंध में उनके प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है।

Advt.

1000 बसों की लिस्ट और ड्राइवर का नाम मांगा


पत्र में आगे लिखा गया है कि प्रियंका अविलंब 1000 बसों की सूची और उनके चालक/परिचालक की डिटेल्स को सरकार को उपलब्ध कराएं, जिससे कि इनका उपयोग प्रवासी मजदूरों के लिए हो सके। इस चिट्ठी से कुछ वक्त पहले ही प्रियंका गांधी ने सीएम योगी पर यह आरोप लगाया था कि वह बसों की व्यवस्था करने की उनकी पेशकश को स्वीकार नहीं कर रहे हैं।

Advt.

नोएडा और गाजीपुर बार्डर से बसें चलाने की इच्छा


16 मई को प्रियंका गांधी ने कांग्रेस पार्टी की ओर से योगी सरकार को चिट्ठी लिखकर कहा था कि पलायन कर रहे मजदूरों के लिए सरकार की ओर से घर पहुंचाने की कोई खास व्यवस्था नहीं हो सकी है। ऐसे में कांग्रेस पार्टी गाजीपुर बॉर्डर गाजियाबाद और नोएडा बॉर्डर से 500-500 बसों को चलाना चाहती है। इन बसों का पूरा खर्च कांग्रेस पार्टी वहन करेगी। ऐसे में कांग्रेस बसों के परिचालन के लिए सरकार की अनुमति चाहती है। स्टेट टुडे ने इस खबर को प्रमुखता से जगह भी दी थी।

टीम स्टेट टुडे



Advt.

Advt.

Advt.


24 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0