google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

बसपा की सरकार होगी सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय की नीतियों के आधार पर – सतीश चंद्र मिश्र



सहारनपुर जिले की आरक्षित विधानसभा सीटों पर विशाल जनसभा का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम के दौरान सहारनपुर के कांग्रेस पार्टी के दर्जनों कार्यकर्ता पार्टी छोड़कर बसपा सुप्रीमो मायवती के नीतियों,कार्यों एवं विचारों से प्रेरित होकर बहुजन समाज पार्टी में सम्मलित हुए । इस कार्यक्रम में रामपुर विधानसभा रविन्द्र मोल्हू , सहारनपुर देहात विधानसभा अजब सिंह, पुरका जी विधानसभा सुरेंद्र मौलुवाल, जिला अध्यक्ष जनेश्वर प्रसाद, उत्तराखण्ड प्रभारी नरेश गौतम,रंजीता सिंह जिला पंचायत सदस्य,मुख्य सेक्टर प्रभारी सहारनपुर बृजेन्द्र कश्यप,हाजी फजलुर रहमान संसद सहारनपुर,एमएलसी सुरेश कश्यप,महमूद एमएलसी, मंच पर मौजूद रहे।



इस मौके पर जुटी भारी जनसमूह को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव औऱ राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि भाई-बहन भटक गए थे अन्य पार्टियां जैसे की भीम आर्मी पार्टी के बहकावे में वो खुद ही छोड़कर वापस बहुजन पार्टी में आ रहे हैं क्योंकि उनको पता है की अगली सरकार बहन जी की ही है।

सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव की घटना कोई भी नहीं भूल सकता किस तरह वहां उत्पात मचाया गया था सरकारी तंत्र द्वारा।



बहन जी के दिल में सहारनपुर है। यहां के हर गांव का नाम बहन जी को मालूम है।


जैसे ही उन्हें पता चला कि शब्बीरपुर में इतनी बड़ी घटना हो गई उन्होंने सारे काम छोड़ कर शब्बीरपुर जाने का फैसला लिया था ।


बहन जी को सहारनपुर आने से रोकने के लिए सरकार ने सारे साम-दाम-दंड-भेद अपना लिए थे लेकिन वो रोक नहीं सके।


बहन जी दिल्ली में थी और वो तुरंत शब्बीरपुर आने के लिए हेलीकॉप्टर का प्रबंध किया लेकिन सरकार और प्रशासन ने बहन जी के हेलीकॉप्टर को उतरने का आदेश ही नहीं दिया। लेकिन बहन जी के दिल में प्रदेश की

जनता बस्ती है उन्होंने तुरंत राज्य मार्ग से आने का फैसला लिया।


बहन जी यहाँ आकर जब पीड़ित परिवार से मिली तो सत्ता में ना होते हुए भी प्रशासन को सख्त आदेश दिया कि अगर हमारे दलित भाई-बहनों के साथ हुए नाइंसाफी के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं की गई तो एक भी दोषी और लापरवाही करने वाले अधिकारी को बख्शा नहीं जाएगा।


जब बहन जी सहारनपुर से लौट कर के वापस जा रही थी तब रास्ते में हादसा हुआ।कुछ लोगों ने षड्यंत्र रचा था उनके कुछ गलत इरादे थे। लेकिन तब तक हमने ऊपर बात करके हेलीकॉप्टर से जाने का परमिशन ले लिया था। लेकिन जो लोग लौट रहे थे उस समय रास्ते में हादसा हुआ और कुछ लोग मार दिए गए।


सदन में बहन जी ने सब रोक कर और सारे काम रुकवा कर शब्बीरपुर घटना का मुद्दा उठाया।


सदन में बहन जी को इस मुद्दे पर बात करने के लिए रोका जा रहा था। बहन जी ने एक ही शब्द का अगर हम अपने लोगों की बात नहीं कर सकते इस सदन में मैं बैठना भी नहीं चाहूंगी। और उन्होंने तुरंत इस्तीफा सौंप दिया। भाजपा वालों की तरह नहीं की गृह राज्य मंत्री के बेटे किसानों को रौंद दिया इतनी बड़ी घटना हो गई और गृह राज्य मंत्री का इस्तीफा तक नहीं माँगा गया।


भारतीय जनता पार्टी ने दहशत का माहौल फैलाया था आप यह कभी मत भूलियेगा।



रिजर्वेशन इन प्रमोशन संविधान संशोधन बिल को पास कराने के लिए बहन जी ने सदन में लड़ाई लड़ी । और समाजवादी पार्टी के लोग सदन में हंगामा मचा दिए थे कि बिल पास ना हो पाए एक समाजवादी नेता तो सदन में ही गिलास तोड़ दिया था जिसके वजह से मेरे हाथ में चोट लग गई थी।


सदन में बहन जी ने जैसे ही रिजर्वेशन इन प्रमोशन संविधान संशोधन बिल का नाम लिया वैसे ही भाजपा, सपा और कांग्रेस पार्टी के नेता खड़े होकर विरोध करने लगे।


रिजर्वेशन इन प्रमोशन संविधान संशोधन बिल का नाम सुनकर समाजवादी पार्टी के एक दलित सांसद ने तो इस तरह गुंडागर्दी करके बिल फाड़ा कि मैं आपको बता नहीं सकता।


दलित भाई-बहनों जो भी समाजवादी पार्टी के साथ खड़ा होना चाहते है उन्हें यह सोचना चाहिए कि समाजवादी पार्टी हमेशा उनका हक छीनना चाहती है।


सपा और भाजपा मिलकर ही काम करती है।समाजवादी पार्टी ने प्रदेश में सैकड़ों की संख्या में दंगे कराने का काम किया।


पूरे प्रदेश में एक सिरे से दूसरे सिरे तक ब्राह्मणों की हत्या की जा रही है। हर दिन दलितों की हत्याओं की खबर छप रही है।


सरकार ने ऐसे कृषि काले कानून बनाए थे कि अगर किसानों की जमीन पट्टे पर चली जाती तो वह जिंदगी भर किसान उसे वापस नहीं ले पाते।


गन्ना किसानों की आय सवा सौ से ढाई सौ बढ़ाने का काम बहन जी ने किया था।


किसानों की आय समाजवादी पार्टी ने 15 और भाजपा ने ₹25 बढ़ाई थी और यह किस हक से किसानों के हित की बात करते हैं।


भाजपा किसानों को सबक सिखाना चाहती थी लेकिन किसानों ने भाजपा को सबक सिखा दिया।


चुनावी स्टंट के कारण इन तीन काले कानूनों को वापस लेने की घोषणा की गई है।


भाजपा वाले उसको प्रताड़ित कर रहे हैं, उसको ना समझ कर रहे हैं जो हमारा अन्नदाता है जो आपको रोटी, रोजी देता है।


टीम स्टेट टुडे

5 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0