google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

हर महीने रीडिंग देने के साथ बिल के नियमित वसूली का आदेश


पश्चिमांचल डिस्काम एवं केस्को की ऊर्जा मंत्री ने परखी व्यवस्था

फीडरों, सब स्टेशनों व ट्रांसफार्मर्स के लोड बैलेंसिंग की मॉनिटरिंग के निर्देश

गर्मी में बिजली संकट न हो इसके लिए मेन्टिनेंस कार्य में तेजी लाने के निर्देश

शत-प्रतिशत मीटर रिडिंग एवं बिलिंग हो, ऑनलाइन बिलिंग पर दिया जोर

लखनऊ, 27 अप्रैल, 2022 : सूबे में बिजली व्यवस्था को ठीक रखने के लिए ऊर्जा मंत्री एके शर्मा पूरे एक्शन मोड में है। ऊर्जामंत्री लगातार बैठक कर अधिकारियों से फीडबैक लेने के साथ ही उन्हें दिशा निर्देश भी दे रहे है। इसीक्रमं में आज पश्चिमांचल डिस्काम एवं केस्को की विद्युत व्यवस्था की समीक्षा के दौरान ऊर्जा मंत्री ने कहा कि राज्य में भीषण गर्मी के प्रकोप के कारण बिजली की मांग बढ़ रही है। लोगों को बिजली संकट का सामना न करना पड़े, इसके लिए मेन्टिनेंस कार्य में तेजी लायी जाए। सभी फीडरों, सब स्टेशनों व ट्रांसफार्मर्स के लोड बैलेंसिंग की नियमित मॉनिटरिंग की जाए, ओवरलोड की स्थिति में समय पर आवश्यक सुधार किया जाए। विद्युत व्यवस्था बेपटरी हो, इससे पहले ही स्थित सुधार के लिये सभी अधिकारी अपना योगदान देकर ईमानदारीपूर्ण ढंग से कार्य दायित्वों को निभाएं।



ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री एके शर्मा आज शक्ति भवन में पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम की तथा केस्को, कानपुर से जुड़े जनपदों की विद्युत व्यवस्था की वर्चुअल समीक्षा कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने प्रबंध निदेशक, पश्चिमांचल डिस्कॉम अरविन्द मालप्पा बंगारी एवं केस्को के प्रबंध निदेशक अनिल ढीगरा, निदेशक, मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता, तथा अधिशासी अभियंता को अपने-अपने क्षेत्रों में तय शिड्यूल के अनुसार विद्युत की निर्बाध आपूर्ति करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी टीम भावना के साथ कार्य करें और विद्युत व्यवस्था की मानीटरिंग के लिए अपने-अपने क्षेत्रों का दौरा करें।



अपने अधीनस्थ कर्मचारियों/अधिकारियों के कार्यों का मूल्यांकन करें तथा लोंगो की समस्याओं का समाधान कराये। सभी अधिकारी/कर्मचारी 24×7अपना सीयूजी नम्बर चालू रखें तथा शिकायतकर्ता की काल को गंभीरता से लें। उन्होंने अपने क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेने और उनके सुझाओं पर अमल करने की बात कहीं। उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में हवा, पानी की तरह बिजली भी आवश्यक सेवाओं व सुविधाओं में आ गयी है, इसके बिना अब जीवन संभव नहीं है, इसको ध्यान में रखकर कार्य किया जाय।



ऊर्जा मंत्री ने कम बिलिंग एवं राजस्व वसूली की कमी पर सभी अधीक्षण अभियंता को फटकार लगाई और एक सप्ताह के अंदर बिलिंग में सुधार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शत-प्रतिशत मीटर रिडिंग एवं बिलिंग हो, ऑनलाइन बिलिंग पर जोर दिया जाय, इसके साथ उपभोक्ताओं को समय से सही बिल मिले, इसकी चिंता हो। कहा कि बिजली का बिल प्रत्येक महीने दिया जाय और हर महीने वसूली भी हो। अनमीटर्ड उपभोक्ताओं के यहां मीटर लगाए जाएं तथा बड़े बकायेदारों से बिजली बिल वसूलने के लिए कठोर कार्रवाई की जाए। उन्होंने बताया कि करोड़ो रूपये से लेकर लाखों रूपये तक के बकायेदार हैं, इनसे वसूली के लिए सख्त कार्यवाही आवश्यक है। उन्होंने जर्जर तारों व पोल के साथ खराब ट्रांसफार्मर को योजनाबद्ध तरीके से हटाने के भी निर्देश दिए। कहा कि बिजली के झूलते/लटकते तार किसी आपदा से कम नहीं है, जिसको शीघ्र ही ठीक किया जाए, जिससे कि निर्बाध विद्युत आपूर्ति को गुणवत्तापूर्ण ढंग से सभी उपभोक्ताओं एवं उद्योगों को सुलभ हो।



ऊर्जा मंत्री ने इस माह के अन्त में सेवानिवृत्त होने वाले कृषि उत्पादन आयुक्त/अपर मुख्य सचिव ऊर्जा आलोक सिन्हा को आज शक्ति भवन में बुकें देकर सम्मानित किया और शुभकामनाएं दी कि सेवानिवृत्ति के बाद भी जीवन में सामाजिक कार्यों से जुड़े रहें और हमेशा स्वस्थ रहें, ऐसी कामना की है। इस दौरान यूपीपीसीएल के चेयरमैन एम देवराज, डीजी विजिलेंस एसएन सावत, प्रबंध निदेशक पंकज कुमार तथा विशेष सचिव एवं डायरेक्टर नेडा भवानी सिंह खंगरौत के साथ विभाग के निदेशक स्तर के तथा अन्य उच्चाधिकारियों ने भी अपर मुख्य सचिव ऊर्जा का स्वागत किया और शुभाशीष दी।

97 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0