google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

केंद्र सरकार देने जा रही है 50 हजार करोड़, लेकिन करना पड़ेगा ये काम


केंद्र सरकार ने तय किया है कि जो मजदूर अलग अलग प्रदेशों से अपने गांव लौटे हैं उन्हें रोजगार उनके गांव में दिया जाएगा। कोरोना संक्रमण काल में अपने गांव लौटने वाले श्रमिकों की संख्या लाखों में है।

प्रवासियों को रोजगार देने के मकसद से मोदी सरकार ने 'गरीब कल्याण रोजगार अभियान' शुरू करने का फैसला किया। 20 जून को खुद प्रधानमंत्री मोदी इस मिशन की शुरुआत बिहार से करेंगे। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि पूरे देश में 116 जिलों की पहचान की गई है जहां बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर घर वापस हुए हैं।

मनरेगा का बजट बढ़ाया गया


वित्त मंत्री ने कहा कि बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, ओडिशा और राजस्थान में प्रवासी मजदूर बड़ी संख्या में घर लौटे हैं। उनके लिए रोजगार उपलब्ध करवाना सरकार की पहली प्राथमिकता है। आत्मनिर्भरत भारत पैकेज में भी इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए सरकार ने मनरेगा का बजट 40 हजार करोड़ से बढ़ाकर एक लाख एक हजार करोड़ कर दिया है।

125 दिनों रोजगार अभियान


प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने के मकसद से 'गरीब कल्याण रोजगार अभियान' को 125 दिनों के लिए लागू किया जाएगा। इसमें सरकार की 25 स्कीमें शामिल की जाएंगी। प्रवासी मजदूरों की मदद से सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करेगी।

67 लाख प्रवासी मजदूर वापस लौटे हैं गांव


छह राज्यों के 116 जिलों में करीब 67 लाख प्रवासी मजदूर वापस हुए हैं। इन 116 जिलों में बिहार में 32, उत्तर प्रदेश में 31, मध्य प्रदेश में 24, राजस्थान में 22, ओडिशा में 4 और झारखंड में 3 जिले शामिल हैं।

रोजगार अभियान का बजट 50 हजार करोड़


सरकार ने 'गरीब कल्याण रोजगार अभियान' का बजट 50 हजार करोड़ रुपये रखा है। कामगारों को स्किल के हिसाब से 25 सरकारी स्कीम के काम दिए जाएंगे। इस अभियान को लागू करने से पहले सरकार ने स्किल मैपिंग की है। उस आधार पर इससे कम से कम 25 हजार मजदूरों को जरूर लाभ मिलेगा।

जानिए कौन से काम मिलेंगे प्रवासियों को


इस अभियान के तहत कम्युनिटी सैनिटाइजेशन कॉम्पलेक्स, ग्राम पंचायत भवन, वित्त आयोग के फंड के अंतर्गत आने वाले काम, नैशनल हाइवे वर्क्स, जल संरक्षण और सिंचाई, कुएं की खुदाई. पौधारोपण, हॉर्टिकल्चर, आंगनवाड़ी केंद्र, पीएमआवास योजना (ग्रामीण), पीएम ग्राम संड़क योजना, रेलवे, श्यामा प्रसाद मुखर्जी RURBAN मिशन, पीएम KUSUM, भारत नेट के फाइबर ऑप्टिक बिछाने, जल जीवन मिशन आदि के काम कराए जाएंगे। यूपी की योगी सरकार ने प्रवासी श्रमिकों को गांव में काम उपलब्ध कराना शुरु भी कर दिया है। मुख्यमंत्री ने सभी विभागों से एक करोड़ कार्यदिवस सृजित करने को कहा है।


टीम स्टेट टुडे




51 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0