google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

योगी सरकार ने छह महीने में ही दी बुनियादी विकास के ढांचे को गति


लखनऊ, 25 सितंबर 2022 : उत्तर प्रदेष की सत्तापर 25 मार्च 2022 कोदोबारा काबिज होने वालीयोगी आदित्यनाथ सरकार नेअपने दूसरे कार्यकालके छह महीनेमें बुनियादी विकासके ढांचे कोगति प्रदान करदी है।

छह महीनेका कार्यकाल पूराहोने पर सरकारने अपने कामका ब्यौरा रखाऔर सीएम योगीआदित्यनाथ ने कहाकि हमारी सरकारके छह महीनेके कार्यकाल मेंप्रदेश प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी केसरंक्षण में आधीआबादी का ड्रीमडेस्टिनेशन बन गयाहै।

साबित कर दियाहै कि वहजो कहती हैवही करती

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथके नेतृत्व वालीउत्तर प्रदेश सरकारने एक बारफिर साबित करदिया है किवह जो कहतीहै वही करतीहै। अपनी सरकारके दूसरे कार्यकालके पहले छहमहीनों में सरकारने विधानसभा चुनावसे पहले लोककल्याण संकल्प पत्र मेंकिए गए प्रस्तावोंको एक-एककरके पूरा करनेपर ध्यान केंद्रितकिया।

इसमें चाहे वहराज्य में युवाओंको रोजगार प्रदानकरना हो, राज्यके बुनियादी ढांचेको निवेश योग्यबनाना हो, याएक ट्रिलियन डॉलरकी अर्थव्यवस्था कोप्राप्त करने औरमाफिया व शातिरअपराधियों पर नकेलकसने के लक्ष्यकी ओर कामकरना हो, सरकारका प्रदर्शन इसदौरान सभी मामलोंमें प्रभावशाली रहाहै।

सरकार ने पेशकी नारी सशक्तिकरणकी मिसाल

योगी आदित्यनाथसरकार ने 18वींविधानसभा के दूसरेविधानमंडल सत्र यानीमानसून सत्र काएक दिन 22 सितंबरमहिला विधायकों केनाम किया। सरकारने इस तरहसे प्रदेश कीमातृशक्ति को उनकेअपने सदन सेसंवैधानिक सदन तकसम्मान, सुरक्षा, सहयोग वपूर्ण अवसर प्रदानकिया। यह सरकारके दूसरे कार्यकालके 180 दिन सुशासनका उत्कृष्ट मानकहैं। सीएम योगीआदित्यनाथ ने कहाकि प्रधानमंत्री केमार्गदर्शन में नयाउत्तर प्रदेश देशकी आधी आबादीका ड्रीम डेस्टिनेशनबनने की ओरबढ़ चला है।

छह महीनोंमें शिलान्यास तथाउद्घाटन

प्रदेश सरकार केदूसरे कार्यकाल केइन छह महीनोंमें मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ ने नकेवल योजनाओं काशिलान्यास और परियोजनाओंका उद्घाटन किया, बल्कि समय-समयपर चल रहीपरियोजना की प्रगतिकी समीक्षा भीकी। सरकार कीप्राथमिकता हर परियोजनाको धरातल परलाने की है।उनका लक्ष्य किसीभी परियोजना कोसिर्फ फाइल तकसीमित रखने कानहीं है। सरकारकी प्राथमिकता हरपरियोजना का लाभसभी लोगों कोदेने का है।वह भी पूरीपारदर्शिता के साथ।

बुनियादी ढांचे केविकास को गतिमिली

उत्तर प्रदेश सरकारके दूसरे कार्यकालके पहले 180 दिनमें बुनियादी ढांचेको गति मिलीहै। 1,225 किलोमीटर में फैलेएक्सप्रेसवे के नेटवर्कने न केवलयात्रा को आसानऔर तेज बनादिया है, बल्किराज्य के विकासको गति देतेहुए एक्सप्रेसवे केदोनों किनारों परऔद्योगिक केंद्रों के विकासकी ओर अग्रसरहै। सरकार भविष्यमें छह नएएक्सप्रेसवे बनाने पर भीकाम कर रहीहै। योगी आदित्यनाथसरकार ने इसकेसाथ ही पांचइंटरनेशनल एयरपोर्ट के साथहवाई संपर्क बढ़ानेऔर राज्य केसभी मंडलों कोहवाई मार्ग सेजोडऩे के अपनेप्रयासों को भीतेज कर दियाहै।

सभी कोस्वस्थ रखने कालक्ष्य

प्रदेश सरकार नेअपने दूसरे कार्यकालके पहले छहमहीने में हीस्वास्थ्य अधोसंरचना की दृष्टिसे प्रदेश केसभी 4600 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रोंमें हेल्थ एटीएमलगाना प्रारंभ करदिया है। 65 जिलोंमें मेडिकल कॉलेजचल रहे हैंजबकि गोरखपुर औररायबरेली में एम्सचल रहे हैं।आयुष्मान कार्ड के माध्यमसे राज्य केकुल 6.51 करोड़ लोगों कोपांच लाख रुपयेतक के स्वास्थ्यबीमा के तहतकवर किया गयाहै। अब छहऔर मेडिकल कालेजखोलने की तैयारीहै। सरकार काप्रयास हर जिलेमें एक मेडिकलकालेज खोलने काहै।

प्रदेश में 10 लाखकरोड़ रुपये केनिवेश का खाकातैयार

लखनऊ मेंजनवरी 2023 में होनेवाले ग्लोबल इन्वेस्टर्ससमिट-23 से पहलेदो दर्जन सेअधिक नीतियों कोअपग्रेड किया जारहा है। अबप्रदेश में नईऔद्योगिक नीति, वेयरहाउसिंग औरलाजिस्टिक्स नीति औरइलेक्ट्रानिक वाहन नीतिपर विचार कियाजा रहा है।ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-23 केलिए 17 देशों तथा देशके सात बड़ेशहरों रोड शोभी होंगे। इसमेंशामिल होने केलिए पिछले छहमहीने में 55 कंपनियोंको 45,000 करोड़ रुपये केनिवेश प्रस्ताव मिलेहैं।

पांच वर्षमें तेजी सेबढ़ा निवेश

उत्तर प्रदेश मेंपिछले पांच वर्षमें देश कीनामचीन आईटी औरइलेक्ट्रानिक्स कंपनियों ने सबसेअधिक 94,632 करोड़ रुपये कानिवेश किया है।योगी आदित्यनाथ सरकारके बीते साढ़ेपांच वर्ष केकार्यकाल में 4.68 लाख करोड़रुपये के एमओयूसाइन हुए हैं।जिनमें से 3.82 लाख करोड़रुपये के प्रोजेक्टपूरे हो चुकेहैं। ईज ऑफडूइंग बिजनेस केतहत बीते 21 अगस्ततक 205 सुधार लागू हुएऔर अन्य 142 सुधार 31 अक्टूबर तक लागूहोंगे।

युवाओं को मिलारोजगार

प्रदेश सरकार केदूसरे कार्यकाल मेंरोजगार मेलों के माध्यमसे 93,000 से अधिकयुवाओं को रोजगारमिला है। 1.42 लाखसे अधिक कोकरियर परामर्श केतहत मार्गदर्शन मिलाहै।

एक जिला, एक खेल

प्रदेश सरकार अपनेदूसरे कार्यकाल मेंएक जिला एकखेल योजना केतहत हर जिलेमें खेलो इंडियासेंटर स्थापित कररही है। प्रत्येककेंद्र को खेलोंको बढ़ावा देनेके लिए 7 लाखरुपये दिए जारहे हैं। राज्यमें खेलो इंडियाकी पंद्रह परियोजनाएंपहले ही पूरीहो चुकी हैं।इसके साथ हीसरकार ने अंतरराष्ट्रीयखेल प्रतियोगिताओं मेंपदक जीतने वालेऔर विभिन्न विभागोंमें 24 पदों कीपहचान करने वालेखिलाडिय़ों को राजपत्रितअधिकारी बनाने का भीफैसला किया।

शिक्षा का विकासभी प्राथमिकता

प्रदेश सरकार राज्यको साक्षरता मेंभी आगे लानेमें लगी है।प्राइमरी तथा बेसिकशिक्षा में पिछड़ेजिलों को सीएमयोगी आदित्यनाथ नेचिन्हित किया है।इनके साथ उच्चशिक्षा में 119 सरकारी कालेजोंमें ई-लर्निंगपाठ्यक्रम विकसित किए गए।जिनकी मदद सेयुवा नई चीजेंसीख रहे हैं।

87 सरकारी महाविद्यालयों मेंस्मार्ट कक्षाओं की व्यवस्थाकी गई, जबकिराज्य के 27 विश्वविद्यालयोंने राष्ट्रीय स्तरके संस्थानों केसाथ 111 अनुबंध पर हस्ताक्षरकिए हैं। इसकेअलावा, 26 नए सरकारीपॉलिटेक्निक स्वीकृत किए गएहैं और 24 निर्माणाधीनहैं। प्राइमरी केसाथ बेसिक, माध्यमिक, उच्च तथा तकनीकीका विकास भीशिक्षा सरकार की शीर्षवरीयता में है।

0 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0