google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

4 दिवसीय रामायण मेला 27 से, सीएम योगी ने किया पोस्टर का लोकार्पण


अयोध्या, 13 नवंबर 2022 : रामनगरी अयोध्या में दीपोत्सवकी तरह ही 41वां रामायण मेलाकी भव्य तरीकेसे मनाने कीतैयारी की जारही है। अयोध्यामें 41वां रामायणमेला 27 से 30 नवंबर तकआयोजित किया जाएगा।

अयोध्या में रामायणमेला करीब दोवर्ष बाद काफीधूमधाम से आयोजितकराने की तैयारीकी जा रहीहै। रविवार कोमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथअयोध्या में परंपरागततरीके से होनेवाले 41 वें रामायणमेले के द्वितीयदिवस के कार्यक्रमपोस्टर (आवरण छवि) का लोकार्पण किया।मुख्यमंत्री के सरकारीआवास पर सम्पन्नइस कार्यक्रम मेंरामायण मेला समितिके सदस्य भीथे।

रामायण मेला समितिके संयोजक आशीषकुमार मिश्र नेबताया कि आजसीएम योगी आदित्यनाथने जिस पोस्टरका लोकार्पण कियाहै, उसमें रामायणमेला में होनेवाले द्वितीय दिवसके कार्यक्रम केक्रम में रामबारात आगमन, पांवपूजन की रस्म, चारों भाइयों काअग्नि का फेराऔर सभी वरवधु का ऋषियोंसे आशीर्वाद प्राप्तकरने की लीलाको दर्शाया गयाहै। इस आवरणछवि को उकेरनेका कार्य वैष्णवीगुप्ता एवं प्रियागुप्ता ने किया।उन्होंने बताया कि आवरणछवि में भारतीयलोक कला परआधारित अवध कीलोककला को प्रदर्शितकिया गया है।इससे पहले कलपहला पोस्टर श्रीराम जन्मभूमि केगर्भगृह से लोकार्पितकिया गया था।

रामनगरी अयोध्या मेंचार दिवसीय 41वांरामायण मेला 27 से शुरूहो कर 30 नवंबरतक चलेगा। इसवर्ष इसको औरभव्य स्वरूप प्रदानकिया जा रहाहै। इस बारसीएम योगी आदित्यनाथको मेला केउद्घाटन समारोह के मुख्यअतिथि के रूपमें आमंत्रित कियागया है। रामायणमेला समिति केपदाधिकारियों में किएगए परिवर्तन केसाथ नए सिरेसे रामायण मेलाके बेहतरीन आयोजनकी पहल शुरूकी गई है।

रामायण मेला मेंइस वर्ष देशके प्रमुख स्थानोंसे विद्वान संतोंको आमंत्रित कियागया है। जोराम कथा केविविध पहलुओं परस्तरीय प्रवचन करेंगे। अयोध्यामें दीपोत्सव, फिल्मीकलाकारों की रामलीला, अनवरत रामलीला वअन्य कार्यक्रमों केसाथ राम विवाहके अवसर परवर्षों से आयोजितहो रहा रामायणमेला भी आकर्षकका केंद्र बने, इसके लिए काफीतैयारी की गईहै।

पूर्व सीएम श्रीपतिमिश्र ने 1982 मेंशुरू किया थारामायण मेला

अयोध्या में रामायणमेला की शुरुआत 1982 में यूपी केतत्कालीन सीएम स्वर्गीयश्रीपति मिश्र ने कीथी। उन्होंने उद्घाटनसत्र में हीराम की पैड़ीप्राजेक्ट की घोषणाकी। पहले रामायणमेला में लगातारचार दिन मंत्रियोंने अलग-अलगविकास योजनाओं काऐलान किया जोइस समय कीविकास योजनाओं मेंप्रमुख हैं। रामायणमेला में हीपरिक्रमा मार्ग को पक्काकरवाने, सरयू तटका नया घाटसे लेकर गुप्तारघाटतक विस्तार वसांस्कृतिक विकास के लिएराम कथा पार्कके निर्माण कीघोषणा कर उनपर काम शुरूकिया गया था। 1980 के दशक मेंरामायण मेला काआकर्षण चरम पररहा। इसी मेलामें श्रीलंका, कोरिया, मलेशिया सहित कईदेशों की रामलीलाका मंचन कियागया जो विशेषआकर्षण का केन्द्ररहीं।

4 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0