google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

अखिलेश पर बढ़ा दबाव, आजम खां से मिलने सीतापुर जिला जेल पहुंचे शिवपाल


सीतापुर, 22 अप्रैल 2022 : समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर आजम खां को लेकर दबाव बढ़ता ही जा रहा है। समाजवादी पार्टी के संस्थापकों में से एक वरिष्ठ नेता आजम खां बीते दो वर्ष से सीतापुर जिला जेल में बंद हैं। उनके समर्थक समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर अनदेखी का आरोप लगाकर लगातार मुखर हैं। इसी बीच राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी तथा प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव के कदम से अखिलेश यादव पर दबाव बढ़ गया है।

अखिलेश यादव के खिलाफ बड़ा मोर्चा खोल चुके इटावा के जसवंत नगर से समाजवादी पार्टी के विधायक शिवपाल सिंह यादव अपने चार दर्जन से अधिक समर्थकों के साथ सीतापुर जेल पहुंचे हैं। शिवपाल सिंह यादव ने आजम खां के स्वास्थ्य को लेकर गुरुवार को ही गहरी चिंता जताई थी और कहा था कि वह सीतापुर जेल में जाकर उनसे मुलाकात करेंगे। शिवपाल सिंह यादव ने कहा था कि आजम खां से मिलने सीतापुर जेल में जाएंगे। भाजपा सरकार में उनका काफी उत्पीडऩ हो रहा है और उन पर लगातार कई झूठे केस लादे जा रहे हैं। आज प्रसपा प्रमुख शिवपाल सिंह यादव सीतापुर जेल में बंद जिला सपा के वरिष्ठ नेता आजम खां से भेंट करने पहुंचे। शिवपाल ने जेल के अंदर आजम खां से मुलाकात की। इन दोनों की मुलाकात के राजनीतिक मायने भी तलाशे जा रहे हैं।

शिवपाल सिंह यादव करीब दस बजे समर्थकों के साथ सीतापुर जिला जेल पहुंचे और जेल की बैरक में जाकर आजम खां से भेंट की। जेल में शिवपाल सिंह यादव और आजम खां की मुलाकात को लेकर कयास का दौर जारी है। शिवपाल सिंह यादव के साथ लखनऊ से बड़ी संख्या में समर्थक भी यहां पर पहुंचे हैं।

माना जा रहा है कि शिवपाल सिंह यादव के साथ ही आजम खां इन दिनों अखिलेश यादव से नाराज है। शिवपाल सिंह यादव तो कई बार सार्वजनिक तौर पर प्रतिक्रिया दे चुके हैं, जबकि आजम खां ने समर्थकों के माध्यम से अपनी नाराजगी का संदेश दिया है। रामपुर से समाजवादी पार्टी के विधायक और पार्टी के मुस्लिम चेहरा माने जाने वाले आजम खां से मिलने शिवपाल सिंह यादव सीतापुर जेल पहुंचे। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने जेल में आजम खां के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेने के साथ ही उनसे काफी देर बात की। इनके बीच यह मुलाकात ऐसे समय पर हुई जब आजम खां के खेमे से लगातार अखिलेश यादव के खिलाफ नाराजगी के सुर उठ रहे हैं।

शिवपाल सिंह यादव और आजम खां के समर्थकों ने अखिलेश यादव के खिलाफ मुहिम छेड़ रखी है। अखिलेश यादव दो वर्ष में सिर्फ एक बार ही आजम खां से मिलने जेल गए हैं। जिसके कारण आजम खां समर्थक समाजवादी पार्टी से नाराज हैं। इसी बीच औवैसी ने आजम खां को अपनी पार्टी में शामिल होने का न्यौता भी दिया है। कभी शिवपाल सिंह यादव का समाजवादी पार्टी में वर्चस्व कायम था और आजम खां ही सपा के मुस्लिम चेहरा हुआ करते थे। पार्टी में उनकी हैसियत नंबर दो की थी। शिवपाल और आजम खां दोनों ही सपा के कद्दावर नेता माने जाते थे। शिवपाल सिंह यादव ने सपा से अलग होकर अपनी पार्टी बनाई। वह 2022 में समाजवादी पार्टी के विधायक होने के बाद भी बागी रुख अपनाए हुए हैं।

इससे पहले बुधवार को राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी ने रामपुर जाकर आजम खां के परिवार के लोगों से मुलाकात की थी। जयंत ने आजम खां के परिवार से अपना परिवारिक रिश्ता बताया था। इस भेंट के बारे में अखिलेश यादव से पूछा गया तो उन्होंने साफ कहा कि हमने जयंत चौधरी को रामपुर नहीं भेजा है। कहीं पर भी आने-जाने और किसी से भी मिलने के लिए स्वतंत्र हैं। उनकी पार्टी से हमारी पार्टी का गठबंधन है।

फरवरी 2020 से सीतापुर जिला जेल में बंद आजम खां की बीच में कई बार तबीयत खराब हुई थी। कोरोना संक्रमित होने के बाद उनको लखनऊ के मेदांता अस्तपाल में भी भर्ती कराया गया था।

3 views0 comments

Comments


bottom of page