google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

अखिलेश से नाराज पूर्व विधायक इरशाद खां ने उनकी तस्वीर को जमीन पर रखा


लखनऊ, 19 अप्रैल 2022 : विधानसभा चुनाव 2022 में समाजवादीपार्टी की हारका जख्म अभीभरा भी नहींहै कि पार्टीके राष्ट्रीय अध्यक्षअखिलेश यादव केखिलाफ मोर्चा लगातारखुलता ही जारहा है। आजमखां के करीबियोंके बाद संभलव मुरादाबाद केसांसद भी मुसलमानोंके मामले मेंएक हो गएहैं। इसके बादबारी लखनऊ केसरोजनीनगर से विधायकरहे इरशाद खांकी है। इरशादखां तो आजमखां के मामलेमें अखिलेश यादवसे इतना नाराजहैं कि उन्होंनेअपने घर मेंलगी उनकी फोटोको उतारकर जमीनपर रख दियाहै।

इरशाद खां कातो साफ कहनाहै कि मुलायमसिंह यादव तथाआजम खां केसाथ शिवपाल सिंहयादव ही समाजवादीपार्टी के संस्थापकसदस्य है। अखिलेशयादव पार्टी कोअपनी बपौती मानकर बड़ी गलतफहमीमें हैं। आजभी समाजवादी पार्टीका सच्चा सदस्यमुलायम सिंह यादव, आजम खां तथाशिवपाल सिंह यादवके साथ है।इरशाद ने कहाकि आजम खांदो वर्ष सेलम्बे समय सेसीतापुर की जेलमें बंद है, लेकिन अखिलेश यादवको इतनी फुर्सतनहीं है किउनका हाल लेसकें। आजम खांकी बदौलत हीवह मुख्यमंत्री बनेथे, लेकिन जबसे आजम खांसंकट में हैं, अखिलेश यादव उनसेमिलने से भीकतरा रहे हैं।इरशाद खान नेअखिलेश यादव परअब मुसलमानों कीउपेक्षा का आरोपलगाते हुए कहाकि मुसलमानों नेउनको जमकर वोटदिया, लेकिन आजअखिलेश यादव मुसलमानोंके लिए खड़ेनहीं हैं। बरेलीमें समाजवादी पार्टीके विधायक शाहजिलइस्लाम अंसारी के पेट्रोलपंप पर जिलाप्रशासन ने कार्रवाईकी तो भीअखिलेश यादव चुपबैठे रहे। मुसलमानोंके खिलाफ दमनके ऐसे कईमामले सामने आचुके हैं, लेकिनअखिलेश यादव काएक भी बयाननहीं आया है।

इरशाद खां नेकहा कि अबतो उनके लिएपार्टी में मुलायमसिंह यादव औरआजम खां हीमुख्य हैं, जिनकीतस्वीरें दीवार पर लगीहुई हैं। समाजवादीपार्टी कोई अखिलेशयादव की बपौतीनहीं है। सभीमुसलमान अखिलेश यादव कीबेरुखी से काफीआहत हैं। उन्होंनेकहा कि हमनेभी अपने हरकमरे से अखिलेशयादव की तस्वीरका उतार करनीचे रख दियाहै। वह इसीकाबिल ही हैं।उन्होंने कहा किअखिलेश यादव मेंउन्हें समाजवादी पार्टी सेनिकालने की हिम्मतनहीं है। समाजवादीपार्टी अखिलेश यादव कीबपौती नहीं है।उनको ही अबपीछे हटना चाहिए।मुलायम सिंह यादवऔर आजम खांइस पार्टी केसंस्थापक हैं। इसकेअलावा इरशाद खानने कहा किशिवपाल यादव केसाथ गलत हुआ।उनसे मजबूत नेतासमाजवादी पार्टी के लिएनहीं हो सकता, अखिलेश यादव कोआज इस स्थितिको समझना चाहिए।अखिलेश यादव नेशिवपाल सिंह यादवको टिकट देकरउनका अपमान किया।

इरशाद खां नेकहा कि हमारीतो अब यहमांग है किमुलायम सिंह यादवही अखिलेश यादवको कुछ सबकसिखाएं। अगर मुलायमसिंह यादव मैनपुरीके करहल मेंअखिलेश यादव केलिए वोट मांगनेजा सकते हैं, तो क्या वहआजम खां सेमिलने नहीं आसकते हैं। उन्होंनेकहा कि अबतो आजम खांजब जेल सेनिकल कर पहलाकदम बाहर रखेंगेतो उत्तर प्रदेशके लगभग सभीमुसलमान उनकी तरफहोंगे।

सारे पदअखिलेश के पास : इरशाद खां नेकहा कि अखिलेशयादव को तोबस पद चाहिए।पार्टी के राष्ट्रीयअध्यक्ष के साथनेता विरोधी दलभी बने हैं।पहले ऐसा नहींहोता था किसमाजवादी पार्टी में राष्ट्रीयअध्यक्ष भी वहीहोता था जोकि अन्य पदभी संभाले। अखिलेशयादव तो मुख्यमंत्रीभी बने औरअब नेता प्रतिपक्षभी बने हैं।उसके पास तोसब है, तोऔर उनको क्याचाहिए। इरशाद खां नेकहा कि मुसलमानोंको सत्ता औरसंगठन में कभीबड़ी भागीदारी नहींमिली। अब तोमुसलमानों पर होरहे अत्याचारों केखिलाफ अखिलेश यादवआवाज भी नहींउठा रहे। समाजवादीपार्टी की हारके बाद हालातखराब हो रहेहैं।

18 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0