google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

Anamika Amber ने 'का बा' संग्राम के बीच 'UP में बाबा पार्ट-3 किया रिलीज'


मेरठ, 7 मार्च 2023 : अंतरराष्ट्रीय कवयित्री डा.अनामिका अंबर ने होली के मौके पर 'यूपी में बाबा हैं...' गीत का पार्ट-3 रिलीज कर दिया है। इंटरनेट मीडिया पर रिलीज होते ही यह गीत काफी पंसद किया जा रहा है। यूपी विधानसभा चुनाव- 2022 से ही अनामिका अंबर ने गायिका नेहा सिंह राठौर के गीत यूपी में का बा का जवाब देते हुए यूपी में बाबा है गीत से खूब नाम कमाया। हाल में नेहा सिंह राठौर ने यूपी में का बा का नया पार्ट रिलीज किया। जिसके जवाब में अनामिका अंबर ने नया वर्जन यूपी में बाबा का पार्ट-3 इंटरनेट मीडिया पर जारी किया।

ये है गीत का अर्थ

जागरण से बातचीत में मेरठ की बहू व ललितपुर निवासी अनामिका अंबर कहती हैं कि भारत मां की सेवा करने के लिए हर कोई राष्टभक्ति और राष्ट्रप्रेम की बात करेगा। देशहित के लिए जो भी कार्य करेगा, मेरी लेखनी उसके पक्ष में लिखती रहेगी। होली पर्व पर पंक्ति सुनाते हुए कहती हैं यारों छोड़ो दुनियादारी, होली खेलो मिलके, लाओ रंग भरी पिचकारी होली खेलो मिलके। बुरा बुरे को कहा है हमने भला भले को बोला सुन ले देश पर दांव लगाकर कभी न खुद को तोला। जिनको लगते हम सरकारी होली खेलें मिलके यारो छोड़ो दुनिया दारी... होली खेलें मिलके..फागुन का मौसम आया है मिलकर रंग लगाना..नफरत में जो प्यार घोल दे ऐसा रंग ढूंढकर लाना, मीठी गूंजिया न हो खारी, होली खेलो मिलके..यारों छोड़ो दुनियादारी......।

'हमने यूपी में बाबा का कह दई, लोग तो हमपे ताने ई मारन लगे तो अब सुन लो

कि ताने हमपे ताने ठाणे, दुस्मन सब भन्नाने ठाणे,

लेकिन हम बाबा के संगे, भारत मां के लाने ठाणे

बे भारत की सेवा करबे, हमे नी चाने कछु चढ़ाबा

काएकी यूपी में बाबा हैं यूपी में बाबा

अपन ने देखई लई

कि दहशतगर्दी कंप कंप जा रए, गोली मारी गोली खा रए

मन में इनने जो जो ठानी, करके दिखादओ सबने मानी

मिट्‌टी में मिल जेहे अब सबरे, बुलडोजर को बुल गओ धाबा

काएकी यूपी में बाबा हैं यूपी में बाबा

ना खाओ न खान दओ है, सबको पूरो मान दओ है

जीजी ने गिनबाए दाने, इक इक करके लगे ठिकाने

न तो बिल्कुल देर हुई है, और न हुइए कछु छलाबा

काएकी यूपी में बाबा हैं यूपी में बाबा

अंतिम बात कहती हैं

कासी न्यारी न्यारी कर दई, दुनिया भर पे भारी कर दई

जो श्रद्धा पे कर्ज चढ़ो थो, चुकता सबई उधारी कर दई

झूम रही है ज्ञानवापी, खुस हैं अपने नंदी बाबा

काएकी यूपी में बाबा हैं यूपी में बाबा'

35 views0 comments

Commentaires


bottom of page