google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

राममंदिर की नींव होगी 200 फीट गहरी, 1992 में 12 फुट नीचे निकला था खजाना



अयोध्या में राममंदिर निर्माण का काम शनिवार से शुरु हो जाएगा। विकास प्राधिकरण से पूरे सत्तर एकड़ के लिए नक्शा पास कराया जाएगा। नक्शा पास कराने में कोई छूट ना लेते हुए पूरा शुल्क अदा किया जाएगा।

राममंदिर निर्माण के लिए अभी जो प्रस्तावित माडल है उसकी नींव करीब 200 फीट गहरी खोदी जाएगी। उम्मीद की जा रीह है कि जमीन के नीचे से खजाना भी निकलेगा और बहुत सारे ऐसे अवशेष जो देश की धरोहर होंगे। 1992 में खड़े विवादित ढांचे के 12 फुट नीचे ही खजाना निकला था।

ट्रस्ट का कहना है कि भूमि पूजन के गड्ढे में 3 से 4 घंटे में 49 हजार रुपए चढ़ावा आया था। नींव में पहला फावड़ा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथ से ही लगा है। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय ने मीडिया से बातचीत में कहा कि अयोध्या में मंदिर के भूमि पूजन में के सहयोग करने वाले सभी लोगों का धन्यवाद। हम यहां पधारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के व्यवहार तथा विनम्रता का अभिनंदन करते हैं। मंदिर निर्माण में अब आगे की प्रक्रिया शुरू हो गई है। मंदिर निर्माण में कुछ तकनीकी काम बाकी है।


चंपत राय ने कहा कि इसका इंतजाम है कि मंदिर एक हजार वर्ष तक सुरक्षित रहे। फिलहाल रामलला के नीव की ड्राइंग बनकर तैयार है। इसके निर्माण के लिए एलएनटी कंपनी तैयार है। इस कंपनी ने अभी तक ट्रस्ट के सामने ड्राइंग पेश नहीं की है। राम मंदिर के नींव के काम पर चंपत राय ने कहा कि ड्राइंग देखने के बाद नींव खोदाई और उसको भरने का कार्य शुरू होगा। इस मंदिर की नींव दो सौ फीट नीचे होगी।

चंपत राय ने कहा कि इसके साथ ही आप को जानकारी दे दें कि इस मंदिर की नींव में लोहे का प्रयोग नहीं होगा। इसकी नींव की खुदाई में जो भी कुछ मिलेगा उसके लिए ट्रस्ट सतर्क रहेगा। ट्रस्ट अब विकास प्राधिकरण से यहां के संपूर्ण 70 एकड़ क्षेत्र का नक्शा पास कराएगा। चंपत राय ने कहा रामलला की जन्मभूमि पर बड़ी संख्या में प्राचीन अवशेष मिलने की उम्मीद है। हम उसको सहेज के रखेंगे।

उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए बड़ी संख्या में दानदाता सामने आ रहे हैं। जब राम जन्मभूमि परिसर की जिम्मेदारी ट्रस्ट को सौंपी गई ती तो रामलला के पास 12 करोड़ की जमा पूंजी थी मौजूद। अब यह 30 करोड़ के करीब पहुंच गई है। शिला पूजन के दिन में रामलला को 49,000 रुपया का दान मिला था। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि हम अभी विदेशों से दान नहीं लेंगे।


टीम स्टेट टुडे



46 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0