google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

कैबिनेट मंत्री स्वतंत्र देव सिंह बने भाजपा विधान परिषद के नेता सदन


लखनऊ, 20 मई 2022 : योगी आदित्यनाथ सरकार में जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह उत्तर प्रदेश विधानमंडल में विधान परिषद में भारतीय जनता पार्टी के नेता मनोनीत हुए हैं। भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने बड़ी जिम्मेदारी दी है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के दौरान बेहद सक्रिय रहे स्वतंत्र देव सिंह के पास संगठन के साथ सरकार के काम संभालने का काफी अनुभव है। पार्टी सदन में भी उनका लाभ लेने के प्रयास में है। भारतीय जनता पार्टी के नीचे स्तर के कार्यकर्ता में भी जोश भरने का काम करने वाले स्वतंत्र देव सिंह ने विधानसभा चुनाव में पराजय झेलने वाले सभी प्रत्याशियों को पत्र भेजकर उनको पिछली बात भूलने की सलाह देकर आगे कदम बढ़ाने की राह भी सुझाई थी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बेहद विश्वास पात्र स्वतंत्र देव सिंह विधान परिषद में नेता सदन बने हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विधान परिषद में भाजपा विधायक दल के नेता हैं। दोनों ही सदन में भाजपा के पास बहुमत है और भाजपा 23 मई से शुरू होने वाले विधान मंडल के बजट सत्र में विपक्ष पर हर स्तर पर हावी रहने के प्रयास में रहेगी।

योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले कार्यकाल में परिवहन मंत्री रहे स्वतंत्र देव सिंह को 16 जुलाई 2019 को भाजपा उत्तर प्रदेश का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। स्वतंत्र देव सिंह उर्फ कांग्रेस सिंह मिर्जापुर में जन्मे हैं, लेकिन कार्य क्षेत्र बुंदेलखंड है। बिना किसी राजनीतिक पृष्ठभूमि वाले परिवार में जन्मे स्वतंत्र देव अपने परिवार में पहले व्यक्ति हैं जो आरएसएस से जुडऩे के बाद नई ऊंचाई प्राप्त करते रहे। स्वतंत्र देव सिंह ने अपनी राजनीति की शुरुआत छात्र संघ चुनाव से की थी।

उन्होने जालौन के उरई मुख्यालय के डीवीसी कालेज से छात्र संघ अध्यक्ष का चुनाव लडा लेकिन वह हार गये। उसके बाद 1986 में आरएसएस से जुड़कर स्वयंसेवक के रूप में संघ का प्रचारक का कार्य करना प्रारम्भ कर दिया। 1988-89 तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) में संगठन मंत्री के रूप में काम किया। 1991 में भाजपा कानपुर के युवा शाखा के मोर्चा प्रभारी बने। उन्हें 1994 में बुन्देलखण्ड के युवा मोर्चा के प्रभारी के रूप में विशुद्ध राजनीतिज्ञ के रूप में राजनीति में पदापर्ण किया।

1996 में युवा मोर्चा का महामंत्री बनने के बाद 1998 में दोबारा भाजपा प्रदेश युवा मोर्चा के महामंत्री बने। 2001 में भाजपा के युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष भी बने। 2004 में स्वतंत्र देव सिंह बुन्देलखंड से झांसी-जालौन-ललितपुर विधान परिषद के सदस्य चुने गये व प्रदेश महामंत्री भी बनाये गये। 2004 से 2014 तक दो बार प्रदेश महामंत्री बने। 2010 में भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष बनाये गए बाद में 2012 में फिर महामंत्री बने और इसी पद पर रहकर 2017 में भाजपा को बुन्देलखंड क्षेत्र में भारी जीत दिलाई। इसके बाद इनको 2013 में पश्चिम उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया था।

स्वतंत्र देव सिंह 2014 में प्रदेश में भाजपा सदस्यता अभियान के प्रभारी बनाए गए थे। जिसमें प्रदेश भर से एक करोड़ से ज्यादा नये सदस्य बनाकर स्वतंत्र देव सिंह ने अपनी नेतृत्व क्षमता का लोहा मनवाया था। उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव से लेकर विधान सभा चुनाव में पीएम मोदी की जितनी भी रैली हुयी है उसे सफल बनाने में स्वतंत्रदेव का बहुत बडा हाथ माना जाता है। स्वतंत्र देव सिंह पीएम मोदी की रैली होने के एक सप्ताह पहले की उस स्थान पर डेरा डाल देते है जिससे छोटे कार्यकर्ताओं में उत्साह और ऊर्जा का संचार करते हुए रैली को किसी भी तरह सफल करा सकें।

1 view0 comments