google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

CM योगी को आखिरी खत... दर्द और मौत की दास्तां, पढ़कर कांप जाएगा कलेजा


लखनऊ, 10 सितंबर 2023 : चकेरी में एक किसान ने मुख्यमंत्री के नाम सुसाइड नोट लिखकर ट्रेन के आगे लेटकर जान दे दी। सुसाइड नोट में लिखा है कि भाजपा नेता और उसके साथियों ने धोखाधड़ी करके उनकी साढ़े 6.20 करोड़ रुपये की जमीन हड़प ली, जिसकी वजह से वह आत्महत्या कर रहा है।

स्वजन ने आरोपितों पर कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा किया। चकेरी गांव निवासी 50 वर्षीय बाबू सिंह यादव किसान थे। परिवार में पत्नी बिट्टन और दो बेटी रूबी और काजल हैं। बाबू सिंह के भतीजे धर्मेंद्र ने बताया कि उनके चाचा के पास अहिरवां में साढ़े छह बीघा जमीन है, जिसकी कीमत करीब साढ़े छह करोड़ रुपये है।

आरोप है कि बीती 18 मार्च को एक भाजपा नेता ने चाचा को एक होटल में बुलाकर धोखाधड़ी से जमीन अपने नाम करवा ली, जिसके एवज में उन्हें दी गई 6.20 करोड़ का चेक भी छीन लिया। आरोपितों ने उन्हें मात्र सात लाख रुपये दिए। वह छह माह से रुपये के लिए चक्कर काट रहे थे, जबकि आरोपितों ने वहां प्लाटिंग कर जमीन बेचना भी शुरू कर दिया है।

इसी बात को लेकर वह तनाव में चल रहे थे। धमेंद्र ने बताया कि चाचा के घर के पास से रेलवे ट्रैक गुजरा है। शनिवार सुबह साढ़े पांच बजे रेलवे ट्रैक के किनारे टहलने वालों ने शव देखा तो स्वजन को सूचना दी। संभावना है कि रात के समय वह घर से निकले होंगे और ट्रैक पर पहुंचकर ट्रेन के आगे लेटकर आत्महत्या कर ली।

सूचना पर पहुंची पुलिस ने बाबू सिंह के पास से एक सुसाइड नोट बरामद किया, जो उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम लिखा था। इसमें उन्होंने आरोपितों पर जमीन कब्जाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन देकर स्वजन को शांत कराया। थाना प्रभारी अशोक कुमार दुबे ने बताया कि पीड़ित की शिकायत पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

सुसाइड नोट में ये लिखा

बाबू सिंह ने मुख्यमंत्री के नाम लिखे खत में अपना दर्द बयां किया है। आरोपितों के नाम के साथ उन्होंने लिखा...

मुख्यमंत्री योगी जी, सरकार आपसे मेरी शिकायत है कि आपके राज्य में आप की ही पार्टी के सदस्य ने आपका ही कानून तोड़ डाला। मुझे छह करोड़ 20 लाख का चेक देकर मेरी छह बीघा जमीन ले ली गई। चेक लोकल था (माना जा रहा है कि वह यह कहना चाहते हों कि चेक फर्जी हो)। और क्या लिखूं, लिखना तो बहुत कुछ है। जीने का कुछ मतलब नहीं बनता। सारी फोटो फोन में हैं। सुसाइड नोट में बल्लू यादव और प्रियरंजन का नाम दिया गया है।

1 view0 comments

Comments


bottom of page