google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

कांग्रेस के चिंतन शिविर की तारीख पर सस्पेंस, असंतुष्ट नेताओं में बढ़ रही बेचैनी


नई दिल्ली, 13 अप्रैल 2022 : कांग्रेस को मौजूदा राजनीतिक संकट के दौर से उबारने का रास्ता तलाशने के लिए प्रस्तावित चिंतन शिविर की तारीख को लेकर सस्पेंस अभी भी कायम है। चिंतन बैठक बुलाए जाने को लेकर पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों के बीच चर्चा का दौर भी पूरा हो गया है मगर इसके बावजूद तारीखों के एलान को लेकर अंदरूनी दुविधा जारी है। कांग्रेस की संगठनात्मक कमजोरियों के बीच संगठन में बड़े बदलाव की आवाज उठा रहे पार्टी के असंतुष्ट खेमे के नेता भी चिंतन बैठक के कार्यक्रम के ऐलान में हो रही देरी को लेकर बेचैनी शुरू हो गई है।

संसद के बजट सत्र के तत्काल बाद होना था चिंतन बैठक

उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब समेत पांच राज्यों में कांग्रेस की करारी हार के बाद पार्टी में उठे असंतोष के गंभीर स्वर को थामने के लिए पार्टी कार्यसमिति की बीते 14 मार्च को हुई समीक्षा बैठक में चिंतन शिविर बुलाने का फैसला हुआ था। पार्टी ने तभी ऐलान भी किया था कि संसद का बजट सत्र खत्म होने के तत्काल बाद चिंतन शिविर का आयोजन किया जाएगा। लेकिन संसद सत्र खत्म होने के हफ्ता बीत जाने के बाद अभी तक पार्टी चिंतन बैठक की तारीख तय नहीं कर पायी है और ऐसे में इसकी संभावना कम ही है कि यह बैठक अप्रैल में हो पाएगी।

अपने सबसे गहरे संकट के दौर में है कांग्रेस पार्टी

कांग्रेस के असंतुष्ट नेताओं के समूह जी 23 के एक सक्रिय सदस्य ने चिंतन बैठक की तारीख का अब तक ऐलान नहीं होने पर अपनी बेचैनी और झल्लाहट जाहिर करते हुए कहा कि अपने संकट का समाधान तलाशने की अपरिहार्य जरूरत को रूटीन मसले की तरह लेना यह दर्शाता है कि पार्टी संगठन का मौजूदा ढांचा कितना लचर और दिशाहीन हो चुका है। पार्टी अपने सबसे गहरे संकट के दौर में है, जहां त्वरित फैसले करते हुए लक्ष्य निर्धारित कर चुनौतियों का समाधान निकालना समय की मांग है, लेकिन पार्टी की रीति-नीति चलाने वाले अभी भी पुराने ढर्रे पर चलने से बाज नहीं आ रहे।

उनका यह भी कहना था कि केंद्र और कई राज्यों में सत्तासीन भाजपा ही नहीं आम आदमी पार्टी सरीखे नए दल भी राजनीतिक अपने सियासी लक्ष्य और महत्वाकांक्षा के लिए तेजी से कदम उठाते गतिशील दिख रहे हैं, मगर कांग्रेस में बदलाव के लिए नेतृत्व में कोई छटपटाहट नजर नहीं आ रही। जबकि अन्य पार्टियों की तुलना में कांग्रेस को कहीं ज्यादा गति और परिश्रम की जरूरत है। चिंतन शिविर से पहले इसमें चर्चा की रूपरेखा और एजेंडा तय करने के लिए कांग्रेस कार्यसमिति की एक बैठक भी बुलाई जानी है।

कार्यसमिति की इस बैठक की तारीख भी अभी घोषित नहीं हुई है। हालांकि यह जरूर बताया जा रहा कि चिंतन शिविर में चर्चा के विषयों का मसौदा वरिष्ठ कांग्रेस नेता जयराम रमेश तैयार कर रहे हैं। वैसे चिंतन शिविर के आयोजन के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और छत्तीसगढ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दोनों ने मेजबानी का प्रस्ताव दिया है और इसका आयोजन राजस्थान में होने की संभावना ज्यादा है

2 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0