google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव साल भीतर तीसरी बार टला, सोनिया गांधी के पास ही रहेगी पार्टी की कमान



कांग्रेस पार्टी की कमान फिलहाल सोनिया गांधी के पास ही रहेगी। कोरोना संक्रमण को देखते हुए पार्टी ने अगले अध्यक्ष के चुनाव को फिलहाल टाल दिया है।


कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक की बैठक में अध्यक्ष पद का चुनाव स्थगित करने का फैसला लिया गया। पिछली बैठक में केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण ने 23 जून को मतदान की तिथि दी थी। ऐसी जानकारी मिली है कि कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव का अगला कार्यक्रम कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण द्वारा तय किया जाएगा।


पिछले साल अगस्त से अध्यक्ष पद के चुनाव 3 बार टल चुके हैं। आपको बता दें कि 2019 लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ दिया था. इसके बाद उन्हें कई बार मनाने की कोशिश की गई, लेकिन दोबारा कांग्रेस अध्यक्ष बनने के लिए तैयार नहीं हुए. इसके बाद सोनिया गांधी को कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष बना दिया गया था। अभी भी कांग्रेस की कमान सोनिया के हाथों में है।


क्या बोलीं कार्यसमिति की बैठक में सोनिया गांधी


कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में बोलते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि जब हम 22 जनवरी को मिले तो हमने तय किया कि कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया जून के अंत तक पूरी हो जाएगी। उन्होंने बताया कि चुनाव प्राधिकरण की अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री ने इसकी रूपरेखा तैयार की है। वेणुगोपाल इसे COVID19 और चुनाव परिणामों पर हमारी चर्चा के बाद पढ़ेंगे।



किसने और क्यों बुलाई थी बैठक


कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक बुलाई थी। इस बैठक में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार पर मंथन किया गया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि पार्टी को विधानसभा चुनावों में अपनी असफलताओं पर ध्यान देना होगा और सही सबक निकालने के लिए वास्तविकता का सामना करना होगा। सोनिया गांधी ने कहा कि वह ऐसे हर पहलू को देखने के लिए एक छोटा समूह गठित करने का इरादा रखती हैं, जो इस तरह के बदलाव का कारण बने। कांग्रेस की कार्यसमिति में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के अलावा एके एंटनी और पार्टी के असंतुष्ट गुट जी-23 के गुलाम नबी आजाद भी शामिल हुए।


चुनावी नतीजों से निराश हैं सोनिया


हालही में पांच राज्यों के चुनाव में कांग्रेस के प्रदर्शन से सोनिया गांधी काफी हताश और निराश हैं।

चुनावों में कांग्रेस की मंथन को लेकर बुलाई गई इस बैठक में सोनिया गांधी ने कहा कि जबकि हम सभी COVID19 के साथ व्यस्त हैं, यह बैठक चुनाव परिणामों पर चर्चा के लिए बुलाई गई है। यह कहने के लिए कि हम गहराई से निराश हैं, समझ बनाना है। मैं हर पहलू को देखने और बहुत जल्दी रिपोर्ट करने के लिए एक छोटा समूह स्थापित करने का इरादा रखती हूं। उन्होंने कहा कि हमें स्पष्ट रूप से यह समझने की आवश्यकता है कि केरल और असम में हम असंगत गुंडों को नापसंद करने में क्यों असफल रहे और पश्चिम बंगाल में हमारा खाता भी नहीं खुल सका। ये असहज सबक देंगे, लेकिन अगर हम वास्तविकता का सामना नहीं करते हैं, अगर हम तथ्यों को सामने नहीं रखते हैं, तो हम सही सबक नहीं लेंगे।


कोरोना महामारी और वैक्सीन को लेकर सरकार पर निशाना


इस बैठक में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने वैक्सीन को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। सोनिया गांधी ने कहा कि मोदी सरकार ने अपनी जिम्मेदारी को छोड़ दिया है और राज्यों पर ही टीकाकरण छोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि केंद्र द्वारा सभी राज्यों को नि: शुल्क वैक्सीन उपलब्ध कराना आर्थिक रूप से अधिक न्यायसंगत होगा।


टीम स्टेट टुडे


विज्ञापन
विज्ञापन