google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

अगर छू कर निकला "कोरोना" या संक्रमित कर रहा है तो इन "लक्षणों" पर गौर करिए



ये सच है कि कोरोना या कोविड -19 की वैक्सीन दुनिया में आ चुकी है। बहुतों के लग चुकी है। लेकिन अब तक इस बीमारी की सटीक दवा नहीं खोजी जा सकी है। भारत में होली के बाद जिस तरह से कोरोना का संक्रमण बढ़ा है उससे ना सिर्फ सरकारें हिल गई है बल्कि कई लोगों की दुनिया ही उजड़ गई ।


कुछ बात बहादुर ऐसे भी हैं जिन्हें लगता है कि उन्हें कोरोना छू भी नहीं सकता और ऐसे लोग ही अक्सर लापरवाही करते हैं और खुद के साथ साथ दूसरों को भी मुश्किल में डाल देते हैं।


जिन लोगों ने कोरोना महामारी के प्रभाव को पूरी गंभीरता से लिया और अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने और कोविड गाइडलाइंस का पालन किया वो इस बार भी इसके प्रकोप से बचे हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि अगर आपको 8 तरह के लक्षणों में से एक दो भी दिखें या महसूस हुए हों तो समझिए कि संक्रमण का खतरा या तो है या आपको

छू कर निकल गया-


लगातार खांसी


खांसी कोरोना वायरस के सबसे प्रमुख लक्षणों में से एक है। यदि आपको सूखी खांसी है, जो ठीक होने में समय लगा रही है, तो यह कोविड-19 का लक्षण हो सकता है। यह सर्दी की वजह से होने वाली खांसी से थोड़ी अलग है। हो सकता है शुरूआत में आपको हल्की खांसी हो, लेकिन अगर ये 5-7 दिनों तक बनी रहे, तो समझ लीजिए कि आप कोरोना से गुजर चुके हैं और आपको पता भी नहीं चला।


​ठंड लगना


सर्दियों में ठंड लगना असामान्य है। लेकिन अगर आपको 2019 के अंत में और 2020 की शुरूआत में यह लक्षण महसूस हुआ, तो संभव है आपको कोरोना हो चुका हो। ये जानने का सबसे अच्छा तरीका है कि कोविड लगभग दो सप्ताह या इससे ज्यादा समय तक रहता है। जबकि अगर आपको केवल ठंड लगी हो, तो आमतौर पर यह एक या दो दिन में ठीक हो जाती है। ठंड के विपरीत कोविड बुखार का कारण बन सकता है।


​आंखों का लाल होना


वैसे तो कई तरह के वायरल इंफेक्शन में आंखें लाल हो जाती हैं और इनमें दर्द भी होता है। लेकिन कोविड महामारी के दौरान अक्सर हमें अपने हाथ धोने और बार-बार आंखों को छूने से बचने की सलाह दी जाती थी। इसका एक कारण यह है कि कोविड-19 आपकी आंखों को प्रभावित कर सकता है। यदि आपको कंजेक्टिवाइटिस , आंखों में पानी आना और धुंधलापन लगे, तो संभावना है कि यह स्थिति वायरस के कारण बनी हो।


थकान


वास्तव में कोविड आपको पूरी तरह से थका सकता है। इसलिए यदि आप नींद लेने के बाद भी थका हुआ महसूस करते थे, तो यह वायरस का संकेत देता है। इस तरह की स्थिति आपके साथ दोबोरा बन सकती है, इसलिए कोविड के इस लक्षण को लेकर लापरवाही न बरतें।


गंध महसूस न होना


यदि कभी आपके मुंह का स्वाद बदल गया हो, अचानक से खाद्य या पेय पदार्थों की सुगंध आना बंद हो गई हो, तो इसका सीधा मतलब है कि आप वायरस से संक्रमित थे। कोरोना पॉजिटिव आने वाले 80 प्रतिशत लोगों में यह समस्या देखी गई है। यदि आपके साथ ऐसा हुआ हो, तो समझ लीजिए कि आपको कोरोना तो हुआ, लेकिन अच्छी इम्यूनिटी के कारण आप ज्यादा संक्रमित होने से बच गए।


शरीर का अधिक तापमान होना


केवल बुखार आना कोविड का प्रमुख संकेत नहीं है। बल्कि जो व्यक्ति संक्रमण के साथ बुखार से पीडि़त है या जिसके शरीर का तापमान 99-103 है,मान लीजिए वो कोरोना संक्रमित हो चुका है। यह तापमान तीन से चार दिन तक बना रह सकता है। हो सकता है यह आपको ठंड और कंपकपी के साथ आए। यदि किसी व्यक्ति को अपनी पीठ या छाती पर गर्माहट लगे, तो इसे कोविड का संकेत माना जा सकता है।



​सीने में दर्द


कोविड -19आपके दिल पर भी बुरा असर डाल सकता है। अगर आपको सीने में जकडऩ हुई हो, तो हो सकता है आप कोरोना की गिरफ्त में आए हो। इस तरह की स्थिति दो सप्ताह या ज्यादा गंभीर लोगों में 6 सप्ताह तक बनी रहे, तो ध्यान देने की जरूरत है।


​सांस लेने में कठिनाई


यदि आपको कभी भी किसी भी पल सांस लेने में कठिनाई आई हो, तो इसका मतलब है कि आप कोविड की गिरफ्त में हैं। सांस से जुड़ी तकलीफ वायरल संक्रमण से जुड़ी सामान्य जटिलता है। इससे पीडि़त होना भी कोविड-19 होने का संकेत है।


यदि आपको इस प्रकार के किसी भी लक्षण का सामना करना पड़ा हो तो समझिए कि आपकी इम्युनिटी बेहतर थी इसलिए आप ज्यादा संक्रमण से बच गए लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि आप कोविड गाइडलाइंस का पालन छोड़ दे या आप लापरवाही के बाद भी सुरक्षित रहेंगे।


टीम स्टेट टुडे


186 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0