google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

करोड़ों की एक्सपायर्ड दवाएं बरामद, डिप्‍टी सीएम ने 3 दिन में मांगी रिपोर्ट


लखनऊ, 21 मई, 2022 : उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने शुक्रवार को राजधानी में उप्र मेडिकल सप्लाइज कारपोरेशन लिमिटेड के वेयर हाउस में छापा मारा तो 16.40 करोड़ रुपये की एक्सपायर्ड दवाएं पाईं गईं। इसमें दिल की दवा टेलीमीसार्टन, आइ ड्राप, ग्लूकोज की बोतलें और कोरोना की दवाएं कूड़े की तरह पड़ी मिलीं। वेयर हाउस जहां पर मरीजों के लिए दवाएं रखी जाती हैं, वहां धूल और गंदगी देखकर उप मुख्यमंत्री भड़क गए।

उन्होंने कहा कि मरीजों के लिए खरीदी गईं दवाएं यहां कूड़े के ढेर की तरह पड़ी हैं। उन्होंने तत्काल मामले की जांच के लिए समिति के गठन का निर्देश दिया और तीन दिन के अंदर मामले की प्रारंभिक रिपोर्ट देने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

उप्र मेडिकल सप्लाइज कारपोरेशन लिमिटेड के द्वारा प्रदेश भर के अस्पतालों में मरीजों को निश्शुल्क दवाएं बांटने के लिए भेजी जाती हैं। उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने मौके पर मौजूद अधिकारियों व कर्मियों को फटकार लगाते हुए कहा कि आखिर यह दवाएं अस्पतालों को क्यों नहीं भेजी गईं। अगर दवाएं एक्सपायर्ड हो रही थी तो समझौते के अनुसार इन्हे कंपनियों को क्यों नहीं वापस किया गया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान की गई कार्यवाही की वीडियोग्राफी कराई। मौके पर मौजूद सभी साक्ष्यों को एकत्र किया और कागजात जब्त किए। उनके साथ स्वास्थ्य विभाग के सचिव प्रांजल यादव भी मौके पर मौजूद थे।

गोदाम में उपलब्ध दवाओं का कराया जाएगा आडिट : उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने गोदाम में उपलब्ध दवाओं का आडिट कराए जाने के निर्देश दिए। उन्हें जिस तरह दवाओं के पैकेट बिखरे मिले और दवाइयां इत्यादि अस्त-व्यस्त मिली, उससे आशंका जताई जा रही है कि जितने मूल्य की दवाएं कारपोरेशन द्वारा खरीदी दिखाई जा रही हैं, उसमें भी खेल किया गया है। फिलहाल आडिट रिपोर्ट में सब सामने आ जाएगा।

गुणवत्ता चेक के लिए आई दवाएं भी फांक रही धूल : उप मुख्यमंत्री की नजर दवाओं के गत्तों के बीच रखे एक बड़े पैकेट पर पड़ी। उन्होंने पूछा कि यह क्या है? कर्मचारियों ने बताया कि पार्सल है। यह वेयर हाउस में ऊपर गुणवत्ता चेक करने के लिए बनीं इकाई के लिए डाक के माध्यम से आया था। उन्होंने इस पर भी कड़ी नाराजगी जताई कि आखिर यह गोदाम में धूल खाएंगी तो जांच किन दवाओं का होगा। कर्मियों ने बताया कि गुणवत्ता चेक करने वाले विभाग में ताला बंद था इसलिए पार्सल यहीं रख दिया गया।

दवा के खुले पैकेट पर क्यों रखा प्रयोग किया मास्क : लोगों को संक्रमण से बचाने का पाठ पढ़ाने वाले स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी किस तरह लापरवाह हैं, यह भी उप मुख्यमंत्री की चेकिंग के दौरान सामने आया। दवाओं के खुले हुए पैकेट पर एक कर्मचारी का प्रयोग किया हुआ मास्क रखा था। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि क्या आप लोगों की जान से खिलवाड़ करेंगे? अगर कहीं आपको संक्रमण हुआ तो दवा के माध्यम से कितनों तक पहुंच जाएगा। कर्मचारी सिर झुकाए डांट सुनता रहा।

2 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0