google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

भारत ने सिर्फ दो सिपाहियों की पैनी नजर के भरोसे छोड़ी है चीन की सरहद



चीन अपनी हरकतों से बाज आने को तैयार नहीं। पिछले हफ्ते दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़पों के बाद उसने माइंड गेम खेलना शुरू कर दिया है। लद्दाख में लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) के बेहद पास चीनी हेलिकॉप्टर्स चक्‍कर काटते मिले। यह घटना उसी समय की है जब उत्‍तरी सिक्किम में भारत और चीन के सैनिकों में टकराव हुआ था। भारतीय वायुसेना के सूत्रों ने उन खबरों को खारिज किया है जिसमें कहा जा रहा कि भारतीय जेट्स ने चीनी हेलिकॉप्टर को खदेड़ा। वायुसेना के सूत्रों के मुताबिक भातीय फाइटर जेट्स ने अपनी सीमा में उड़ान जरूर भरी थी, लेकिन यह एक ट्रेनिंग का हिस्सा था।


अब ऐसे पकड़ में आ जाती है चीन की चाल


चीनी सेना के हेलिकॉप्‍टर्स कई बार भारतीय एयरस्‍पेस में घुस चुके हैं। वे जानबूझकर ऐसे निशान छोड़ते हैं जिससे भारत के इलाके पर दावा ठोंक सकें। LAC के अलावा भारत-चीन सीमा के कई हिस्से ऐसे हैं जहां कोई निश्‍चित बॉर्डर नहीं है। मगर अब चीन की हवा में किसी भी हरकत का पता हमारे रेडार लगा लेते हैं। डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ने दो लोल लेवल लाइटवेट रेडार बनाए हैं। इन्‍हें बॉर्डर के पास तैनात किया गया है ताकि निगरानी रखी जा सके। इन रेडार्स के नाम 'भरणी' और 'अश्‍लेषा' हैं। Bharani जहां 2D रडार हैं वहीं, Aslesha 3D है।

खास पहाड़ों के लिए बना है 'भरणी'


दोनों रेडार के नाम भारतीय नक्षत्रों के नाम पर रखे गए हैं। 'भरणी' को खासतौर से पहाड़ी इलाकों में UAVs, RPVs, हेलिकॉप्‍टर्स और फिक्‍स्‍ड विंग एयरक्राफ्ट ट्रेस करने के लिए बनाया गया है। यह एयर डिफेंस वेपन सिस्‍टम्‍स को पहले से वॉर्निंग दे देता है।



'अश्‍लेषा' है ऑलराउंडर


'अश्‍लेषा' 3D रेडार है। इसे मैदानी इलाकों से लेकर रेगिस्‍ताना, पहाड़ की चोटियों तक पर तैनात किया जा सकता है। यह हर तरह के एयर टारगेट्स को डिटेक्‍ट करता है। यह स्‍टैंडअलोन और नेटवर्क, दोनों मोड में काम करता है।


इसी महीने भिड़े हैं दोनों देशों के सैनिक


5 मई को पांगोंग झील के उत्‍तरी तट पर भारत और चीन के सैनिक भ‍िड़ गए थे। हाथापाई के साथ-साथ पत्‍थरबाजी भी हुई। दोनों तरफ के जवान घायल हुए। वहीं, शनिवार को सिक्किम से सटे बॉर्डर पर नाकू ला पास के नजदीक भारत-चीन के करीब 150 सैनिकों में झड़प हुई। दोनों ओर के करीब 10 सैनिकों के घायल होने की जानकारी है। पांगोंग में आखिरी बार अगस्‍त 2017 में सैनिक आमने-सामने आए थे।


डोकलाम ने दी थी सबसे बड़ी टेंशन


भारत और चीन के बीच बॉर्डर पर तनातनी नई नहीं है। 2017 में डोकलाम में दोनों सेनाएं 73 दिनों तक अड़ी रही थीं। डर इस बात का था कि कहीं युद्ध शुरू ना हो जाए। दोनों देशों के बीच सीमा विवाद में 3,488 किलोमीटर लंबी LAC है। दोनों देश शांति बनाए रखने की बात करते हैं। मगर चीन अरुणाचल प्रदेश को दक्षिणी तिब्‍बत का हिस्‍सा बताकर उसपर कब्‍जा चाहता है। सिक्किम में भी कई जगह उसने भारतीय जमीन कब्‍जाने की कोशिश की है। लद्दाख में भी चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आता है।


टीम स्टेट टुडे

21 views0 comments