google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

जापान, सिंगापुर और इजराइल ने यूपी से व्यापारिक रिश्ते बढ़ाने में दिखाई रुचि


दिल्ली, 22 नवंबर 2022 : देश कीराजधानी दिल्ली में मंगलवारको आयोजित यूपीग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (यूपीजीआइएस 2023) की कर्टेन रेजिंग सेरेमनीमें विश्व केअनेक देशों कासकारात्मक फीडबैक मिला। कार्यक्रममें जापान, इजराइलऔर सिंगापुर समेतकई देशों केप्रतिनिधियों ने अपनीउपस्थिति दर्ज कराईऔर उत्तर प्रदेशको निवेश केलिए उत्कृष्ट गंतव्यबताया। इन देशोंने यूपी केसाथ मजबूत व्यापारिकसाझेदारी को लेकरभी अपनी प्रतिबद्धताजताई।

सिंगापुर और भारतपहले से हीव्यापार में भागीदार

भारत मेंसिंगापुर के उच्चायुक्तसाइमन वोंग नेकहा कि यहसमारोह उत्तर प्रदेश केलिए एक ट्रिलियनडालर की अर्थव्यवस्थाके अपने लक्ष्यको प्राप्त करनेकी दिशा मेंएक बड़ी शुरुआतहै। सिंगापुर औरभारत पहले सेही व्यापार मेंभागीदार हैं औरयूपी से अपनेजुड़ाव को लेकरहम बहुत आश्वस्तहैं। वहीं, भारतमें इजरायल केराजदूत नाओर गिलोनने कहा, हमउत्तर प्रदेश सरकारके साथ बुंदेलखंडमें पानी कोलेकर पहले सेही परियोजनाओं मेंभागीदार हैं। अबइंफ्रास्ट्रक्चर, आइटी, इनोवेशन, रक्षाऔर सुरक्षा जैसेक्षेत्रों में यूपीसरकार के साथएक मजबूत साझेदारीके लिए हमउत्साहित हैं।

जापान के लिएभारत बहुत हीमहत्वपूर्ण भागीदार

जापान के इकोनामिकसेक्शन के काउंसलरत्सुचिया ताकेहीरो ने कहाकि जापान केलिए भारत एकबहुत ही महत्वपूर्णभागीदार है। अभीयूपी में 300 विभिन्नकंपनियां हैं, जिनमेंमैन्युफैक्चरिंग इत्यादि शामिल हैं।लाजिस्टिक की दृष्टिसे यूपी बहुतअच्छी जगह है।जापान सरकार प्रदेशके विकास मेंहर आर्थिक सहयोगका समर्थन करतीहै। मुख्यमंत्री केशिक्षा सलाहकार प्रोफेसर डीपीसिंह ने कहाकि उत्तर प्रदेशने विभिन्न क्षेत्रोंमें ऊंची उड़ानभरी है, जिसमेंशिक्षा और कौशलविकास भी शामिलहै। सीएम योगीके वन ट्रिलियनडालर अर्थव्यवस्था कालक्ष्य पूरा करनेमें एजुकेशन औरस्किल डेवलपमेंट अहमभूमिका निभाएगा।

नई औद्योगिकपरियोजनाओं के लिएयूपी है सर्वश्रेष्ठ

ईज आफडूइंग बिजनेस केसाथ ही अबप्रदेश सरकार ईज आफस्टार्टिंग बिजनेस पर फोकसकर रही है।नई औद्योगिक परियोजनाओंके लिए यूपीसर्वश्रेष्ठ प्रदेश बन गयाहै। मंगलवार कोनई दिल्ली मेंआयोजित ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिटके कर्टेन रेजरसेरेमनी में मुख्यमंत्रीयोगी आदित्यनाथ नेजिन दो पोर्टलोंकी शुरुआत की, वे इस लिहाजसे बेहद उपयोगीहोने वाले हैं।

निवेश सारथी औरइंसेंटिव मैनेजमेंट पोर्टल सेसहूलियत

निवेशकों से सीधाजुड़ाव के लिए "निवेश सारथी" नाम सेएक नई आनलाइनप्रणाली विकसित की गईहै। साथ हीएक आनलाइन इंसेंटिवमैनेजमेंट सिस्टम भी विकसितकिया गया है।यह पोर्टल निवेशकोंको सहूलियत देनेवाले वन स्टापसाल्यूशन सेंटर जैसे होंगे।प्रदेश में अलग-अलग सेक्टरकी पालिसी केजरिये निवेश परमिलने वाले इंसेंटिवके लिए निवेशकोंको अब विभागोंके चक्कर नहींलगाने होंगे। किसनिवेश पर कितनाइंसेंटिव मिलेगा, इंसेंटिव दिएजाने की प्रक्रियाकहां तक पहुंचीहै, पैसा कितनेदिनों में खातेमें आ जाएगा, इन सारे सवालोंके जवाब औरजानकारियां आनलाइन मिल सकेंगी।एमओयू के बादउसकी प्रगति कीसीधी निगरानी मेंभी आसानी होगी।

निवेश मित्र केजरिये नई परियोजनासे जुड़ी स्वीकृतियांआनलाइन

प्रदेश सरकार कासिंगल विंडो क्लीयरेंससिस्टम "निवेश मित्र" पोर्टलउद्यमियों को नईपरियोजना की शुरुआतमें सबसे बड़ामददगार है। पोर्टलके माध्यम सेराज्य के छोटे, मध्यम और बड़ेउद्यमियों के लिएसंबंधित विभागों से सुरक्षा, कानूनी मेट्रोलाजी, पर्यावरणीय मुद्देकी मंजूरी औरगैर आपत्ति प्रमाणपत्रजैसी 150 से अधिकसेवाएं आसानी से उपलब्धहो रही हैं।

8 views0 comments