google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

खट्टर के बजट में कोई बदलाव नहीं, राहतों व तोहफों की झड़ी, सुषमा पुरस्कार का ऐलान


नई दिल्ली, 8 मार्च 2022 : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल वित्‍तमंत्री के तौर पर राज्‍य विधानसभा पेश कर रहे हैं। बजट में राहतों और तोहफों की भरमार है। इसमें कोई नया टैक्‍स नहीं लगाया है। वह प्रदेश की भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार का तीसरा आम बजट पेश कर रहे हैं। मुख्‍यमंत्री ने कोरोना काल की चर्चा करते हुए कहा कि हमने कोरोना की तीनों लहर के दौरान अच्‍छा काम किया और इससे उबरें हैं। हमने पिछले बजट के बाद कई कार्य किए और कई उपाय किए। उन्‍होंने महिला दिवस के मद्देनजर कई घोषणाएं की। उन्‍होंने राज्‍यस्‍तरीय सुषमा स्‍वराज पुरस्‍कार की घोषणा की। इसके तहत प्रशस्ति पत्र और पांच लाख रुपये दिए जाएंगे। उन्‍होंने महिला उद्यमियों के लिए भी पुरस्‍कार की घोषणा की।

लघुउद्यमिता समर्थन निधि योजनाशुरू होगी

मनोहरलाल ने कहाकि लघु उद्यमितासमर्थन निधि योजनाशुरू करने काप्रस्ताव है। वित्तीयसंस्थानों के लिएअधिकतर तीन लाखरुपये के ऋणपर पांच प्रतिशतकी दर सेब्याज सहायता दीजाएगी।

सड़कव परिवहन क्षेत्र

उन्‍होंने कहा किराज्‍य मेंइस साल 300 किलोमीटरलंबी नई सड़केंबनेंगी और छहहजार किलोमीटर सड़कोंका सुधारीकरण होगा। 22 अतिरिक्त आरओबी वीयूपी काकार्य शुरू करनेका प्रस्ताव भीहै। अंबाला वभिवानी शहरों के लिएरिंग रोड तथाहिसार, करनाल, कुरुक्षेत्र औरजींद शहरों केलिए बाईपास कीयोजनाओं को पंखलगेंगे।

सिंचाईके लिए घोषणाएं

मनोहरलाल ने कहाकि पांच हजाररिचार्ज बोरवेल के निर्माणका लक्ष्य है।सरकार सिंचाई केलिए मानसून केपानी का उपयोगकरने का एकनया विजन लेकरआई है। एकहजार पुलियों कानिर्माण अगले चीनसाल में करेंगे।शिवालिक और अरावलीकी पहाड़ियों मेंचैक डैम बनानेकी योजना है।गुरुग्राम व झज्जरजिलों में सिंचाईउद्देश्यों के लिएउपचारित अपशिष्ट जल उपलब्धकराने को गुरुग्रामके धनवापुर एसटीपीसे चैनल क्षमताको बढ़ाया जाएगा।नूंह और गुरुग्रामजिलों के लिए 200 क्सूसिक क्षमता की मेवातफीडर नहर कानिर्माण होगा।गुरुग्राम जलापूर्ति चैनल कीवर्तमान 175 क्यूसिक की क्षमताको बढ़ाकर 475 क्यूसिककरने के लिएइसकी रीमाडलिंग शुरूहोगी।

बिजलीक्षेत्र, हर गांवमें 24 घंटे बिजलीदेंगे

मनोहरने कहा किराज्‍य मेंइस साल तकहर गांव में 24 घंटे बिजली आपूर्ति कीजाएगी। सभी लंबितआवेदनों के कनेक्शनजारी होंगे। औद्योगिकक्षेत्रों में बिजलीके बुनियादी ढांचेमें सुधार केलिए एक हजारकरोड़ रुपये खर्चहोंगे। जैव ऊर्जासंयंत्रों की स्थापनाके लिए एकमैचिंग ग्रांट स्कीम शुरूहोगी।

महिलाओंके लिए कईघोषणाएं

उन्‍होंने महिलाओं केउत्थान के कार्योंके लिए सुषमास्वराज पुरस्कार की घोषणाकी। इसके साथही हरियाणा मातृशक्तिउद्यमिता योजना शुरू होगी।ऐसी महिलाएं जिनकीआय पांच लाखरुपये से कमहैं, लेकिन वहउद्यमिताके क्षेत्र में कामकरना चाहती हैं, उन्हें सात प्रतिशतकी दर सेतीन लाख रुपयेतक का कर्जदिया जाएगा।उन्‍होंनेकहा कि फरीदाबाद, गुरुग्राम व पंचकूलामें कामकाजी महिलाओंके लिए हास्टलबनेंगे। भिवानी के कुडलव छापर वसोनीपत के गन्नौरमें तीन नएसरकारी महिला कालेज खुलेंगे।इस साल 10 हजारनए स्वत: सहायतासमूह खुलेंगे।

खेलक्षेत्र के लिएभी कई ऐलान

उन्‍होंने कहा किकरनाल, हिसार, रोहतक औरगुरुग्राम में स्पोर्ट्सइंजरी रिहेबिलिटेशन केंद्रखुलेंगे। पंचकूला में हरियाणाराज्य खेल संस्थानस्थापित करने कीयोजना है। एशियाईऔर राष्टमंडल खेलोंमें भाग लेनेवाले पात्र खिलाड़ियोंको कुल पुरस्कारराशि का एकतिहाई एडवांस मिलेगा, जिससे वे तैयारीकर सकेंगे। राज्य में नई 1100 खेल नर्सरियां खुलेंगी। 500 नर्सरीसरकार चलाएगी और 600 पीपीपी मोड परचलेंगी। इससे 25 हजार युवाओंको लाभ मिलेगा। 10 डे बार्डिंग औरआठ आवासीय अकादमियांशुरू करने कीयोजना है।

उद्योगोंको कई राहतें

उन्‍होंने कहा किऔद्योगिक माडल टाउनशिपमेंबुनियादी ढांचे में सुधारके लिए एचएसआइआइडीसीदवारा एक हजारकरोड़ रुपये कीराशि अलग सेरखी जाएगी। सोहनामें एक इलेक्ट्रानिकविनिर्माण कलस्टर की स्थापनाहोगी, जिस पर 662 करोड़ रुपये खर्च होंगे।दो साल कीअवधि के लिएएमएसएमई क्षेत्र के उद्योगोंसे प्राकृतिक गैसपर एकत्र वैटपर 50 प्रतिशत प्रतिपूर्तिमिलेगी। एनसीआर में स्थितएमएसएमई क्षेत्र के उद्योगोंको सहायता प्रदानकरने के लिएबायलरों को कोयलेया डीजल सेस्वच्छ ईंजन मेंबदलने के लिएपूंजीगत व्यय के 30 प्रितशत की सीमाको अधिकतर 15 लाखरुपये तक लेजाया जाएगा ।पानीपत में एचएसआइआइडीसीपानीपत में कपड़ाउद्योग के लिएसांझा बुनियादी ढांचेके रूप मेंभाग बुनियादी ढांचेको बढ़ावा देगी।औद्योगिक निर्यात के लिएमाल ढुलाई सब्सिडीयोजना शुरू होगी। फैक्टरियोंमें अग्नि सुरक्षानिरीक्षण तीन सालमें एक बारही होगा।

हिसारमें एकीकृत विमाननहब विकसित होगा

हिसारमें एक एकीकृतविमानन हब विकसितकरने का प्रस्तावहै। हिसार में 7200 एकड से अधिकभूमि को अमृतसरकोलकाता इंडस्टरियल कारिोर योजनाके एक भागके रूप मेंएकीकृत विनिर्माण कलस्टर केरूप में विकसितकिया जाएगा। यहकार्य नेशनल इंडस्टरियलकारिडोर डेवलपमेंट कारपोरेशन केसहयोग से कियाजाएगा। राज्य में लघुपुनरुत्थान योजना कोष कीस्थापना होगी। मातृवंदना योजना मेंदूसरा बच्‍चाहोने पर हीपांच हजार रुपयेकी सहायता


मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल नेकहा कि प्रधानमंत्रीमातृ वंदना योजनामें दूसरा बच्चाहोने पर भीपांच हजार रुपयेकी राशि मिलेगी।श्री विश्वकर्मा कौशलविश्वविद्यालय गुरु-शिष्यकौशल प्रशिक्षण तंक्षकी स्थापना करेगा।प्रमाणित शिल्पकारों को गुरुके रूप मेंनामित किया जाएगा।हरियाणा में 200 नए रोजगारमेले लगेंगे। अगलेदो साल मेंएक लाख युवाओंको प्रशिक्षण वप्लेसमेंट दिया जाएगा।जींद में छहनई औद्योगिक स्वच्छताप्रयोगशालाएं स्थापित होंगी।

उन्‍होंने कहा कि हिसार, रोहतक, सोनीपत, अंबाला, करनाल और पंचकूलामें छह नए 100 बिस्तरों वाले अस्पतालतथा करनाल, रोहतक, झाड़ली, गन्नौर, मुलाना, घरौंडा, फर्रुखनगर, कोसली, साहा, छछरौली, पटौदी, भूना, चरखी दादरीव उकलाना मंडीमें 14 नए ईएसआईऔषधालय बनेंगे। बाल मजदूरीव प्रवासी पुनर्वासके मुद्देको बलकरने के लिएगुरुग्राम और फरीदाबादमें बाल श्रमपुरन्वास केंद्र तथा प्रवासीबच्चोंके लिए गुरुग्राम, मानेसर, फरीदाबाद और पानीपतमें चार नएस्कूल खुलेंगे।


एचआइवीपीडि़त को 2250 प्रति माहसहायता, राज्‍यमें इस साल 20 हजार नए मकानबनेंगे

उन्‍होंने कहा किसरकार अंबाला मेंमानसिक रूप सेदिव्यांग व्यक्तियों के लिएएक आजीवन देखभालगृह की स्थापनाकरेगी। एचआइवी पीड़ित 21 हजारलोगों को 2250 रुपयेप्रति माह वित्तीयसहायता मिलेगी। इस सालसरकार 20 हजार नएमकानों का निर्माणकरेगी। परिवार पहचान पत्रोंमें जो व्यक्तिगरीब हैं औरउनके पास मकाननहीं है, उन्हेंसरकार मकान देगी। चारलाख परिवारों कोनए राशनकार्ड मिलेंगे

पर्यावरणविददर्शनलाल जैन केनाम पर विशेषपुरस्‍कार

उन्‍होंने कहा किहरियाणा में 100 वायु गुणवत्तानिगरानी केंद्र बनेंगे। प्रख्यातपर्यावरणविद दर्शन लाल जैनके नाम परतीन लाख औरएक लाख रुपयेका पुरस्कार शुरूहोगा। हरियाणा में 10 हाइटेक नर्सरियां बनेंगी। ईको-टूरिज्म पालिसी तैयारहोगी। वृक्ष गणनाऔर जिटोटैग शुरूहोगा। कालका सेकलेसर तक डेढ़सौ किलोमीटर लंबीनेचर टरेल स्थापितहोगी।

कृषिक्षेत्र के लिएकई ऐलान

मनोहरलालने कहा कि 30 नवंबर 2022 तक फसलीऋण या अन्यलघु या मध्यमअवधि के ऋणकी मूल राशिका भुगतान करनेपर ब्याज कीपूरी राशि माफकिया जाएगा। पर्यावरणसंरक्षण के तहतहाट स्पाट कीपहचान कर उन्हेंग्रीन स्पाट मेंबदला जाएगा।


उन्‍होंने कहा किप्रगतिशील किसानों के सहयोगसे प्रगतिशील किसानकृषि दर्शन योजनाशुरू होगी।किसानों केटूर और प्रशिक्षणका खर्च हरियाणासरकार देगी। एकलाख अंत्योदय परिवारोंको पशुपालन केलिए प्रेरित कियाजाएगा। उन्‍होंनेकहा कि हरियाणासरकार ने प्राकृतिकखेती को बढ़ावादिया। प्राकृतिकव जैविक खेतीको बढ़ावा देनेके लिए तीनसाल का उत्पादनआधारित प्रोत्साहन कार्यक्रम 100 कलस्टर्समें प्रति कलस्टरकी कम सेकम 25 एकड भूमिपर शुरू कियाजाएगा। बाजरे की कटाईके उपरांत ब्रांडिंगव उचित प्रबंधनके लिए 50 करोड़रुपये का प्रविधानकिया गया है।बाजरा व मोटेअनाज के अनुसंधानके लिए भिवानीमें क्षेत्रीय अनुसंधानकेंद्र खुलेगा।जल संरक्षण कोबढ़ावा देने केलिए फतेहाबाद वसिरसा में सूक्ष्मसिंचाई को प्रोत्साहनदेंगे। हरियाणा में 25 लाखमृदा नमूने लेकरकिसानों को जमीनकी उर्वरा शक्तिबढ़ाने को कहाजाएगा।


मक्‍की कीखरीद के लिएएमएसपी की घोषणाहोगी


उन्‍होंने कहा किमक्की की खरीदके लिए न्यूनतमसमर्थन मूल्य दिया जाएगा।कृषि विपणन बोर्डद्वारा बनाई जानेवाली गांवों कीसड़कों के लिए 200 करोड़ रुपये का अनुदानमिलेगा। हरियाणामें बागवानी केलिए 100 पैक हाउसबनेंगे। 22 हजार एकड़क्षेत्र को धानसे हटाकर बागवानीकी तरफ लायाजाएगा। एफपीओ के पंजीकरणकी प्रक्रिया कोसरल किया जाएगा।इस साल सौनए एफपीओ बनेंगे।एफपीओ में किसानोंकी हिस्सेदारी समानरूप से होगी।


उन्‍होंने कहा किसार्वजनिक बुनियादी ढांचा औरसुविधाएं प्रदान करने केलिए 2,000 करोड़ रुपये कीराशि का प्रविधानकिया गया है।राजकोषीय अपव्यय से बचनेके लिए तीनसमर्पित कोष स्थापितहोंगे। स्टार्ट-अप कीसहायता के लिए 'उद्यम पूंजी कोष', हरित विकासउद्देश्यों के लिए 'जलवायु एवं सततविकास कोष', वैज्ञानिक गतिविधि औरछात्रवृत्ति को बढ़ावादेने के लिए'अनुसंधान एवं नवाचारकोष' स्‍थापितहोंगे।

उन्‍होंने कहा किसरकारी संस्थाओं को पोर्टफोलियोप्रबंधन और कमलागत वाली कार्यशीलपूंजी आवश्यकताओं केलिए एक गैर-बैंकिंग वित्त कंपनीके रूप मेंहरियाणा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड' की स्थापना कीजाएगी। यह बजटआर्थिक विकास और मानवविकास को बढ़ाने, ईज ऑफ लीविंग, गरीबों व वंचितसमूहों के उत्थानऔर नई प्रौद्योगिकीको अपनाकर उत्पादकताबढ़ाने के साथही रोजगार वउद्यमिता को प्रोत्साहनदेने के लिए 'वज्र मॉडल' प्रस्तुत करता है।


पांचविकासात्‍मक शक्तियां


उन्‍होंने कहा किइसमें पांच विकासात्मकशक्तियों की परिकल्पनाकी गई। बजटकी 5 शक्तियां हैं-


• अंत्योदय-गरीब सेगरीब व्यक्ति काउत्थान


• समर्थहरियाणा-सूचना प्रौद्योगिकी काउपयोग कर


संरचनात्मकऔर संस्थागत सुधार


• सततविकास-सस्टेनेबल डेवेलपमेंट


. संतुलितपर्यावरण-पर्यावरणीय स्थिरता,


• सहभागिता-सार्वजनिक व निजीभागीदारी (जीसीपी)।


मनोहरलालने कहा किएक लाख रुपयेसे कम आयवाले 1.5 लाख लोगोंकी आय बढ़ानेके लिए हमनेकाम किया। अंत्योदयउत्थान मेलों के आयोजनका दूसरा चरणशुरू हो चुकाहै, हर गरीबव्यक्ति की आयबढ़ने तक यहमेले लगते रहेंगे। अंत्योदयमेलों में उत्थानऋण दिया गया।इससे लाभार्थियों कोस्थायी रोजगार प्रदान होनेतक योजना जारीरहेगी। आखिरी लाभार्थी कीआय में वृदि्धहोने तक जारीरहेगी। सतत विकासलक्ष्यों को हासिलकरने में हरियाणागतिशील राज्य है। हमनिजी क्षेत्र केसाथ भी भागीदारीकरेंगे। परिवार पहचान पत्रके बाद अंत्योदयपरिवारों को राशनलेने या किसीभी सेवा केलिए कार्यालयों मेंनहीं जाना पड़ेगा।सरकार खुद उनतक पहुंचेगी।


उन्‍होंने कहा किभिवानी में इंटीग्रेटे़डएकवा पार्क सेंटरआफ एक्सीलेंस कीस्थापना होगी। गुरुग्राम मेंपीपीपी मोड परजलीय पौधों, मछलियोंव जंतुओं काएक्वेरियम स्थापित करने काप्रस्ताव है। गुड़का उपयोग बढ़ावादेने को हैफेडराज्य में इकाइयांस्थापित करने मेंसहयोग करेगी। हरहितके तहत राज्यमें दो हजारनए हरहित स्टोरखुलेंगे। जींद औरसिरसा में दोदुग्ध संयंत्रों केनवीनीकरण की योजनाहै।

शिक्षाक्षेत्र


मनोहरलालने कहा कि 2022 तक नई राष्टीयशिक्षा नीति होगी।इसके लिए सभीकालेजों में कमसे कम 10 स्मार्टक्लाररूम होंगे। लड़कियों केलिए सुरक्षित एवंसुलभ परिवहन पहलके लिए साथीयोजना शुरू होगीऔर यह अप्रैलसे शुरू‍ होगी।स्कूलोंमें पढ़ने वाले 25 लाख बच्चों की सालमें दो बारस्वास्थ्य जांच होगी।हरियाणा में 500 संस्कृति माडलस्कूल खुलेंगे। 50 एसटीईएमलैब की स्थापनाहोगी। आठवींसे 12वीं तकके बच्चों केलिए ओलंपियाड शुरूहोंगे। भौतिकीव गणित मेंउच्च स्थान हासिलकरने वाले बच्चोंको नासा वइसरो की सैरकराई जाएगी। 10वींसे 12वीं तकके बच्चों कोटैब मिलेंगे।सरकारी स्कूलोंमें आडियो-विजुअलकक्षाओं की शुरुआतहोगी।


चिकित्‍सा वस्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्रके लिए कईघोषणाएं


उन्‍होंने कहा किशोघ को बढ़ावादेने के लिएइंस्टीट्यूट आफ एमर्जिंगटेक्नोलाजी स्थापित होगी। प्राथमिकस्वास्थ्य केंद्रों को वेलनेससेंटर के रूपमें विकसित कियाजाएगा। आयुष. पोषण वभोजन से संबंधितसभी सुविधाएं एकवेलनेस सेंटर की छतके नीचे होगी।सभी उप मंडलीयअस्पतालों में समुचितआक्सीजन की व्यवस्थारहेगी। हर वर्गके 1.80 लाख रुपयेसे कम आयवालों को आयुष्मानयोजना का लाभमिलेगा। डाक्टरों का विशेषज्ञकैडर बनेगा। ऐसेडाक्टर केवल क्लीनिकलड्यूटी करेंगे। राजकीय चिकित्सामहाविद्यालयों के स्नातकोत्तरचिकित्सा पाठ्यक्रमों में 40 प्रतिशतसीटें सरकारी सेवाके डाक्टरों केलिए आरक्षित करनेका निर्णय कियागया है।


उन्‍होंने कहा किनागरिक अस्पतालों में ईलाजके लिए वरिष्ठनागरिकों को प्राथमिकतामिलेगी। अस्पतालोंव मेडिकल कालेजोंमें रेस्तरां सुविधाएंमिलेंगी। जो डाक्टरनगर पालिकाओं वालेछोटे शहरों औरमहाग्रामों में अपनेनए अस्पताल नर्सिंगहोम या क्लीनिकस्थापित करना चाहतेहैं, उन्हें वित्तीयसंस्थानों से लिएजाने वाले ऋणपर ब्याज कीराशि का भुगतानसरकार तीन सालतक करेगी। रक्तसंग्रह के लिएब़े स्तर परमोबाइल इकाइयां शुरू होंगी।टीबी का पतालगाने के लिएहर खंड मेंमालिक्यूलर टेस्टिंग की सुविधादेंगे।


रोहतकपीजीआइ में किडनीप्रत्‍यारोपण सुविधा


उन्‍होंने कहाकि रोहतकपीजीआइ में किडनीप्रत्यारोपण की सुविधाशुरू‍ की जाएगी।महेंद्रगढ़, भिवानी, जींद औरगुरुग्राम जिलों में नएमेडिकल कालेज और शहीदहसन खान मेवातीराजकीय मेडिकल कालेज नूंहमें एक डेंटलकालेज की स्थापनाहोगी। इन पर 2600 करोड़ खर्च होंगे।कैथल, सिरसा औरयमुनानगर जिलों में नएमेडिकल कालेज खुलेंगे। फरीदाबाद जिले मेंअटल बिहारी वाजपेयीराजकीय मेडिकल कालेज इससाल संचालित होगा।करनाल के कल्पना चावला राजकीयमेडिकल कालेज की क्षमताका विस्तार होगा। पलवल, चरखी दादरी, पंचकूलाऔर फतेहाबाद मेंजल्द ही मेडिकलकालेज खुलेंगे। इनचारों जिलों मेंकोई मेडिकल कालेजनहीं है।


साल 2025 तक मेडिकल कालेजों मेंस्नातक की सीटोंकी संख्या 700 सेबढ़कर 3035 होगी। फरीदाबाद, रेवाड़ी, कैथल, कुरुक्षेत्र औरपंचकूला जिलों में नर्सिंगकालेज स्थापित होंगे।

मनोहरलालने कहा कियह बजट आनेवाले 25 सालों में विकासकी दिशा निश्चितकरेगा। यह बजटहरियाणा के विकासके वज्र माडलको पेश करताहै। पांच विकासात्मकशक्तियों की परिकल्पनाहै। समर्थ हरियाणा, संस्थागत सुधार हमारा लक्ष्‍य है।बजट अनुमान 2020-21 केदौरान जीएसडीपी केप्रतिशत के रूपमें राजस्व घाटा 2.10 प्रतिशत अनुमानित रहा जबकिसंशोधित अनुमान 2021-22 में ये 1.40 प्रतिशत अनुमानित है।


उन्‍होंने कहा किबजट अनुमान 2022-23 मेंये जीएसडीपी के 0.98 प्रतिशत तक औरकम होने काअनुमान है। संशोधितअनुमान 2021-22 में ऋणऔर जीएसडीपी काअनुपात 24.98 फीसदी, जबकि 15 वित्तआयोग द्वारा निर्धारितसीमा का 32.61 फ़ीसदीबजट अनुमान 2022-23 केलिए यह जीएसडीपीका 24.51 फीसदी, जबकि 15 वेंवित्त आयोग नेइसकी सीमा जीएसडीपीके 33.33 फीसदी तय की।पूंजीगत व्यय काआर्थिक विकास पर सीधाप्रभाव होता है।हम कुल व्ययमें पूंजीगत व्ययके अनुपात कोबढ़ाने के लिएप्रतिबद्ध है। हम वर्ष 2020-21 में 37,093.83 करोड़ रुपये केपूंजीगत व्यय कीतुलना में, संशोधितअनुमान 2021-22 में इसेबढ़ाकर 48,265.49 करोड़ रुपये करनेमें सक्षम हैं।


उन्‍होंने कहा कि हमनेपोस्ट कोविड अर्थव्यवस्थाको गति देनेके लिए उपायकिए। देश कीअर्थव्यवस्था में हरियाणाका योगदान 3.4 प्रतिशतहै और इसे 4 फीसदी करके प्रधानमंत्रीनरेन्द्र मोदी के 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्थाके लक्ष्य कोप्राप्त करने मेंबड़ा योगदान करेंगे।इस लक्ष्य कीप्राप्ति के लिएतीन प्रमुख उद्देश्य- अंत्योदय की भावनासे सबसे गरीबव्यक्ति का कल्याण, प्रभावी आय पुनःवितरणनीतियों के साथउत्पादकता में वृद्धिऔर रोजगार वउद्यमिता सृजन रखेहैं।


उन्‍होंने कहा किवर्ष 2022-23 के लिए 1,77,255.99 करोड़ रुपये के बजटका प्रस्ताव, जो 2021-22 के 1,53,384.40 करोड़ रुपये से 15.6 प्रतिशत अधिक है। जीएसडीपी 2014 के 370535 करोड़ के मुकाबले 2021-22 में 588771 करोड़ हुआ, जो 15.6 फीसदी अधिक है।इस बजट मेंपरिव्यय 61,057.35 करोड़ है। हरितविकास उद्देश्य कोप्राप्त करने केलिए जलवायु कोषबनाया गया है।विश्‍वश्वविद्यालयों वसार्वजनिक व निजीक्षेत्र में अनुसंंधानकोष होगा। उद्यमिता को बढ़ावादेने के लिएउद्यम पूंजीकोष बनेंगे।उन्‍होंने कहाकि 132 योजनाओं को युक्तिसंगतबनाया गया है। हमनेविकासात्मक आवंटनों को बढ़ायाहै। इन सुधारोंको निरंतरा मिलेगी


उन्‍होंने राज्‍यमें शुरू कीगई परियोजनाओं काचर्चा की। उन्‍होंने कहा किबजट तैयार करनेसे पहले हमनेसांसदों, विधायकों और विभिन्‍न क्षेत्रके विशेषज्ञों वप्रमुख लोगों से चर्चाकी। हमने बजटबनाने में हरवर्ग के सुझावलिए। साल 2022 -23 केलिए मुख्यमंत्री ने 177255 .99 करोड रुपए काबजट पेश किया।जो कि संशोधितअनुमान एक लाख 53 हजार करोड़ के15.6 प्रतिशतबढ़ोतरी है।


उन्‍होंने कहा किहरियाणा सरकार ने पूंजीगतखर्च बढ़ाया औरराजस्व खर्च कमकिया। इस बारपूंजीगत खर्च 34.4 प्रतिशत होगा, जो कि पिछलेसालों में मात्र 25 प्रतिशत होता था।बाजार की उधारीकम रही है।हमने मजबूत वित्तीयप्रबंधन किया है।राजस्व घाटा इसबार 1.4 प्रतिशत है, जोकि .98 प्रतिशत तक कमहोने का अनुमानहै।

3 views0 comments