google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

मायावती के बेहद करीबी गिरीश जाटव बने लोकसभा में पार्टी के नेता


लखनऊ, 15 मार्च 2022 : उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में मिली करारी हार के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने पार्टी में फेरबदल करना शुरु कर दिया है। बता दें कि विधानसभा चुनाव में सभी 403 सीट पर लडनें के बाद भी सिर्फ एक पर जीत दर्ज करने वाली बहुजन समाज पार्टी ने लोकसभा सदस्यों के कार्यभार में बदलाव किया है। अम्बेडकर नगर से सांसद रितेश पाण्डेय को लोकसभा में पार्टी के नेता के पद से हटा दिया गया है।

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा बसपा संसदीय दल की चेयर पर्सन मायावती ने लोकसभा के बजट सत्र के दौरान ही नेताओं के पदभार में बदलाव किए हैं। लोकसभा सदस्य रितेश पाण्डेय के स्थान पर अब गिरीश चंद्र जाटव को लोकसभा में पार्टी का नेता बनाया गया है। गिरीश चंद्र जाटव बिजनौर के नगीना से लोकसभा सदस्य हैं। इसके साथ ही राम शिरोमणि वर्मा लोकसभा में उप नेता के पद पर बरकरार रहेंगे जबकि संगीता आजाद को चीफ व्हिप बनाया गया है। पहले गिरीश चंद्र जाटव पार्टी के चीफ व्हिप थे।

बसपा सुप्रीमो के बेहद करीबी माने जाते हैं गिरीश चंद्र

बिजनौर जिले की नगीना लोकसभा सीट से वर्तमान में बसपा से गिरीश चंद्र सांसद हैं। पिता का नाम मान सिंह और माता दाहादो देवी हैं। गिरीश चंद्र मूल रूप से जिला मुरादाबाद के मझौली देहात के गांव खुशहालपुर निवासी हैं। 15 जनवरी 1964 को जन्मे गिरीश चंद्र ने रुहेलखंड विश्वविद्यालय बरेली के हरीशचंद्र महाविद्यालय से बीए की शिक्षा प्राप्त की है।

सांसद गिरीश चंद्र बसपा सुप्रीमो मायावती के करीबी माने जाते हैं। पार्टी में कई अहम पदों पर रहते हुए उन्होंने वर्ष 2014 में नगीना लोकसभा से चुनाव लड़ा। यह नई लोकसभा सीट 2009 में बनी थी, तब सपा के यशवीर सिंह सांसद थे। इसके बाद 2014 में भाजपा की लहर के बीच डा. यशवंत सिंह यहां से सांसद बने लेकिन 2019 में हुए चुनाव में गिरीश चंद्र ने भाजपा के यशवंत सिंह को एक लाख 66 हजार 832 वोटों से हराया। गिरीश चंद्र ने पांच लाख 68 हजार 378 वोट हासिल किए थे।

इससे पहले वह 1991 में सहकारी सहमति में निर्विरोध डायरेक्टर चुने गए। 1993 में सभापति निर्विरोध चुने गए। 1995 में मुरादाबाद नगर निगम में पार्षद चुने गए, साथ ही वाइस चेयरमैन एक्जीक्यूटिव कमेटी भी रहे। वर्ष 2000 में जिलाध्यक्ष बहुजन समाज पार्टी मुरादाबाद बनाया गया। 2006 में मंडल अध्यक्ष रहे। जिसके बाद 2007 मे चंदौसी से बसपा के विधायक बने। 2012 में चंदौसी से हार गए थे।

गिरीश चंद्र 24 जुलाई 2019 को अनुसूचित जातियों तथा अनुसूचित जनजातियों के कल्याण संबंधी समिति के सदस्य बने। जिसके बाद 13 सितंबर 2019 को उन्हें पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस संबंधी स्थायी समिति का सदस्य भी बनाया गया। वह सामजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की परामर्शदात्री समिति के सदस्य भी रहे। इस बार के विधानसभा चुनावों में सपा से धामपुर के मूलचंद चौहान का टिकट कटने पर उन्हें बसपा में शामिल कराने और टिकट दिलाने में भी सांसद गिरीश चंद्र की अहम भूमिका रही। हालांकि मूलचंद चौहान चुनाव हार गए हैं।
10 views0 comments
bottom of page