google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

पीएम मोदी के काफिले में शामिल की गई Maybach S650, चर्चा देश हित में नहीं


नई दिल्ली, 29 दिसबंर 2021 : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के काफिले में शामिल नई मर्सिडीज मेबैक एस 650 कार को लेकर तमाम अटकलों के बीच अब स्थिति स्पष्ट की गई है। सरकार के सूत्रों के हवाले से इसकी कीमतों पर कहा गया है, यह उतनी नहीं है, जितनी मीडिया के तमाम प्लेटफार्म पर कही जा रही है। हकीकत में कार की कीमत मीडिया में आई कीमत की करीब एक तिहाई है। मीडिया रिपोर्ट में नई मेबैक कार की कीमत 12 करोड़ रुपये बतायी जा रही है। प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिहाज से इस तरह की दो गाड़ियां खरीदी गई हैं।

सरकारी सूत्रों ने बुधवार को कहा कि नई कारें अपग्रेड नहीं की गई हैं, बल्कि इन्हें रूटीन के तहत रिप्लेस किया गया है। क्योंकि बीएमडब्ल्यू ने पीएम द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे मॉडल को बनाना बन्द कर दिया है। एसपीजी के सुरक्षा नियमों के तहत सुरक्षा के लिए इस्तेमाल किए गए वाहनों को बदलने के लिए छह साल का मानक तय है और प्रधानमंत्री मोदी के लिए पिछली कारों का इस्तेमाल आठ साल तक किया गया था। ऑडिट होने पर इस पर आपत्ति हुई और यह टिप्पणी की गई कि सुरक्षा हासिल किए जाने वाले के जीवन से समझौता किया जा रहा है।

सुरक्षा विवरण खरीद से सम्बन्धित फैसले सुरक्षा किए जा रहे व्यक्ति की सुरक्षा खतरे की आशंका पर आधारित होते हैं। इन फैसलों को सुरक्षा हासिल करने वाले व्यक्ति के विचारों से इतर, एसपीजी द्वारा स्वतंत्र रूप से लिया जाता है। इसमें उस व्यक्ति की राय नहीं ली जाती है जिसे सुरक्षा दी जा रही है। संरक्षित व्यक्ति की कार की सुरक्षा फीचर्स पर व्यापक चर्चा राष्ट्रीय हित में नहीं है क्योंकि यह सार्वजनिक जीवन में बहुत सारे गैर-जरूरी डिटेल्स पहुंचाता है। इससे सुरक्षा हासिल करने वाले के जीवन को खतरा पहुंच सकता है। सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री ने कभी नहीं कहा कि काफिले में कौन-सी कार शामिल की जाए। वहीं यूपीए सरकार में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रेंज रोवर्स का इस्तेमाल किया था, जो वास्तव में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के लिए खरीदी गई थीं।

4 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0