google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

सदस्यता अभियान की समीक्षा करेंगी सोनिया गांधी, 26 मार्च को प्रभारियों की बैठक


नई दिल्ली, 24 मार्च 2022 : पांच राज्यों की हार से पार्टी के गहराए संकट के मद्देनजर सक्रिय हुईं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अब संगठन चुनाव और पार्टी की सदस्यता अभियान की समीक्षा करने का फैसला किया है। इसके लिए 26 मार्च को कांग्रेस महासचिवों और सभी राज्यों के प्रभारियों की विशेष बैठक बुलाई गई है। कांग्रेस का सदस्यता अभियान अपने आखिरी चरण में है और निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार अप्रैल-मई से पार्टी के संगठनात्मक चुनाव शुरू हो जाएंगे।

सदस्यता अभियान में रिकार्ड स्थापित करने का लक्ष्य

राज्यों में पिछले कुछ सालों में पार्टी की लगातार सिकुड़ती जमीन की चुनौती को देखते हुए इस बार सदस्यता अभियान का आंकड़ा रिकार्ड स्तर पर पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। कांग्रेस नेतृत्व के लिए पार्टी के वैचारिक धरातल के आधार को बढ़ाना मौजूदा सियासी संकट के दौर में कहीं ज्यादा अहम हो गया है। इसके मद्देनजर ही महासचिवों तथा राज्यों के प्रभारियों की बैठक में सदस्यता अभियान की अब तक की स्थिति ओर गति दोनों की समीक्षा की जाएगी। यह बैठक पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से बुलाई गई है मगर संकेत हैं कि सोनिया गांधी भी इसमें शिरकत करेंगी।

अगस्त में होंगे नए कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव

कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव अगस्त-सितंबर महीने में प्रस्तावित है और पार्टी के असंतुष्ट खेमे जी 23 के नेता संगठन चुनाव कराने का हाईकमान पर दबाव बनाए हुए हैं। जी 23 के नेता ब्लाक-जिला और प्रदेश से लेकर एआइसीसी सभी स्तरों पर संगठन चुनाव की हिमायत कर रहे हैं। ऐसे में सदस्यता अभियान और राज्यों के संगठन चुनाव की अहमियत काफी बढ़ गई है।

पार्टी कार्यसमिति के सदस्यों का चुनाव होने की मांग

कांग्रेस का असंतुष्ट खेमा अध्यक्ष के साथ ही पार्टी कार्यसमिति के आधे सदस्यों का भी चुनाव कराए जाने की मांग पहले ही उठा चुका है। इस लिहाज से राज्यों से चुने जाने वाले एआइसीसी के डेलीगेट का चुनाव महत्वपूर्ण होगा। एआइसीसी डेलीगेट ही कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव करते हैं। जी 23 के नेताओं गुलाम नबी आजाद, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, आनंद शर्मा, मनीष तिवारी और विवेक तन्खा के साथ पिछले दिनों हुई बातचीत के दौरान कांग्रेस नेतृत्व ने संगठन चुनाव के जरिए पार्टी में बदलाव को अमलीजामा पहनाने का भरोसा दिया था।

पिछले सात सालों में नहीं चलाया सदस्यता अभियान

पार्टी के लिए वर्तमान सदस्यता अभियान इसलिए भी महत्वपूर्ण हो गया है कि पिछले सात साल से कांग्रेस ने अपना राजनीतिक आधार बढ़ाने के लिए सदस्यता का कोई अभियान नहीं चलाया था।

बैठक में कई मुद्दों पर होगी चर्चा

महासचिवों और राज्य प्रभारियों की बैठक में महंगाई, बेरोजगारी से लेकर आम जनता से जुड़े मुद्दों पर कांग्रेस की ओर से राजनीतिक आंदोलन के कार्यक्रमों को लेकर भी चर्चा होगी। कांग्रेस की चुनावी शिकस्त के बाद पार्टी में उठे अंदरूनी सियासी तूफान को शांत करने के प्रयासों में जुटा पार्टी हाईकमान शुक्रवार को हरियाणा के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करेगा। राहुल गांधी के साथ होने वाली इस बैठक में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सैलजा भी मौजूद रहेंगी। हरियाणा के पार्टी दिग्गज जी 23 के प्रमुख सदस्य पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुडडा के साथ राहुल गांधी पिछले हफ्ते ही अलग से बैठक कर सूबे के संगठन को लेकर चर्चा कर चुके हैं।

प्रदेश कांग्रेस की बागडोर चाहते हैं हुड्डा

समझा जाता है कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा प्रदेश कांग्रेस की बागडोर अपने हाथों में लेना चाहते हैं। हुडडा के राजनीतिक प्रभाव और पकड़ को देखते हुए मौजूदा हालातों में पार्टी को एकजुट रखने के लिहाज से नेतृत्व के पास बहुत ज्यादा जोखिम लेने की गुंजाइश भी नहीं है। हरियाणा के नेताओं के साथ राहुल गांधी की बैठक से एक दिन पहले गुरूवार को सूबे की वरिष्ठ कांग्रेस नेता किरण चौधरी ने सोनिया गांधी से मुलाकात की।

18 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0