google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

सही दिमाग और सटीक कामयाबी की गारंटी देते हैं डॉ. आशुतोष श्रीवास्तव – नंबर लगाइये


कोरोना का कहर जारी है। 19 मार्च के बाद पूरे भारत में लॉकडाउन के चार दौर निकल गए। अब अनलॉक 1 जारी है। लोग घर से निकल रहे हैं। सरकारी दफ्तर हों या निजी संस्थान, दुकानें हो या प्रतिष्ठान कामकाज का सिलसिला शुरु हुआ है। बावजूद इसके वो आत्मविश्वास , वो भरोसा अब भी नहीं लौटा है जो मार्च की 19 तारीख से पहले था। इस बीच बहुत सारे लोगों की नौकरी चलीं गई। कुछ कंपनियों ने छटनी कर दी। बहुत सारे श्रमिक, कामगार अपने गांव, शहर वापस लौट आए हैं।


अब सबके सामने बड़ा सवाल है कि जिन्दगी नए सिरे से शुरु कैसे की जाए वो भी तब जब कोरोना संक्रमण का खतरा बरकरार है और इसकी अब तक दवा नहीं बनी है।


कोरोना के डर के बीच जिंदा बचने की जद्दोजहद और बची हुई जिंदगी को आगे बढ़ाने के लिए स्वस्थ तन मन के साथ सबसे बड़ा सवाल है कि, किया क्या जाए।


उलझन भरे इस दौर में स्टेट टुडे की टीम की मुलाकात हुई डाक्टर आशुतोष श्रीवास्तव से। जो एक नैदानिक एवं परामर्श मनोवैज्ञानिक हैं। डा. आशुतोष भारतीय काउंसलिंग सॉयकलॉजी एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं।

डाक्टर आशुतोष से मुलाकात के बाद इतना तो पक्का हो गया कि हमारे आपके जैसे बहुत सारे लोग पढ़ लिख कर राजा बेटा बन कर परंपरागत तरीके से नौकरी तलाशने और फिर नौकरी करने में अपना पूरा जीवन खपाते ही चले आए हैं। नौकरी मिलने, नौकरी करने और नौकरी बचाने से आगे हमारी जिंदगी में कुछ रह ही नहीं गया। सिर्फ इतना ही नहीं हम और आप में ऐसे बहुत सारे लोग होंगे जो ये भी नहीं जानते कि उनकी डिग्री या उनके भीतर की प्रतिभा उन्हें नौकरी में ही किन किन आयामों की तरफ ले जा सकती है। ये भी नहीं जानते कि अपने चुने हुए क्षेत्र में ही बदलती विधाओं ने किस तरह से नए मौकों को जन्म दे दिया है।


यकीन जानिए आप अपने बारे में, अपनी पढ़ाई के विस्तृत क्षेत्रों के बारे में, अपनी भीतर की प्रतिभाओं के बारे में शायद जानते ही नहीं है। ये हम इसलिए नहीं कह रहे कि आप की कामयाबी पर हमें कोई शक है बल्कि हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि आपकी कामयाबी का जो पैमाना नए दौर में चुपचाप तैयार हो गया उससे आप अनजान रह गए हैं।


क्या आपके इर्द गिर्द ऐसे लोग नहीं हैं जो आपके देखते देखते ही मालामाल हो गए। वो क्या करते हैं कैसे करते हैं ये आपके लिए रहस्य ही बना रह गया। ऐसे नव धनाड्य अक्सर आपको देश विदेश घूमते दिख जाएंगे, ऐसे लोग अपने परिवार को भी खूब समय देते हैं। ऐसे लोगों का स्टॉफ भी लंबा चौड़ा होता चला जाता है। तो सवाल उठता है कि वो करते क्या हैं।



डाक्टर आशुतोष इसके लिए सबसे जरुरी बताते हैं सही सलाह और जब आप खुद को ना पहचान पा रहे हों तो आपको पहचानने के लिए अनुभवी पारखी नजर वाले की सलाह जो बदलती दुनिया के वर्तमान और भविष्य दोनों पर निगाह रखता हो।


डाक्टर आशुतोष मानसिक स्वास्थ्य को प्रमोट करने के लिए काफी काम कर रहे हैं। स्वस्थ मन से किया काम सफलता की गारंटी देता है। साइयूनी इंडिया के जरिए करियर मार्गदर्शन के क्षेत्र में बेजोड़ काम हो रहा है। मानसिक चिकित्सा, प्रशिक्षण, जनजागरुकता, करियर चिंता, हेल्थ आदि क्षेत्रों में डॉक्टर आशुतोष और उनकी टीम प्रशिक्षण के साथ चिकित्सकीय परामर्श देती आ रही है।


डाक्टर आशुतोष भारत में काउंसलिंग साइकॉलाजी को प्रोफेशनल पहचान दिलाने के लिए काफी बेहतरीन काम कर रहे हैं ताकि ये क्षेत्र ना सिर्फ नए करियर के रुप में जगह बनाए बल्कि आत्मनिर्भर भारत बनाने की दिशा में युवाओं को सही और नई राह भी दिखा सकें।


अगर आप भी कोरोनाकाल के इस दौर में मानसिक रुप से परेशान हैं, अपने करियर या कारोबार को लेकर चिंतित हैं तो आप को डा. आशुतोष से बात जरुर करनी चाहिए। आपकी सुविधा के लिए डाक्टर आशुतोष का मोबाइल नंबर उनकी इजाजत से हम आपको दे रहे हैं ताकि आपकी कामयाबी और सोच के बीच कोई दीवार ना रह जाए।


डाक्टर आशुतोष का मोबाइल नंबर है 7068390099।

आप ashutosh@psyuni.com पर ईमेल भी कर सकते हैं।

बात करेंगें तो बात बनेगी ये स्टेट टुडे की टीम का आपसे वादा है।

टीम स्टेट टुडे


187 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0