google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

पार्टी मेरे लिए मां है, अखिलेश यादव की राजनीति लगभग समाप्त: केशव


लखनऊ, 16 सितंबर 2022 : उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्रीकेशव प्रसाद मौर्यने जागरण डायलॅागके खास प्रोग्राममें स्मृति रस्तोगीसे खास बातचीतकी। इस इंटरव्यूके दौरान उन्होंनेमौजूदा उत्तर प्रदेश कीराजनीति सहित कईमुद्दों पर चर्चाकी। इस इंटरव्यूमें उन्होंने बड़ीबेबाकी से हरसवालों का जवाबदिया है। उन्होंनेकहा, 'समाजवादी पार्टी, समाप्तवादी पार्टी है! उसपार्टी में भगदड़मची हुई है!' साथ ही उन्होंनेआगामी लोकसभा 2024 चुनावको लेकर पूछेगए सवालो काभी जवाब दियाहै।

सवाल- समाजवादी पार्टीके 100 विधायक आपके (केशवप्रसाद मौर्य) के संपर्कमें हैं, क्याइस बात मेंवाकई कोई सच्चाईहै?

जवाब- 'समाजवादी पार्टी, समाप्तवादी पार्टी है।' उसपार्टी में भगदड़मची हुई है।समाजवादी पार्टी के अधिकांशविधायक अखिलेश यादव केसाथ नहीं रहनाचाहते हैं। उनकेस्वेंय चाचा, उनके (अखिलेशयादव) साथ नहींरहना चाहते हैं।लोगों के नरेंद्रमोदी की नेतृत्वमें भारत कीभविष्य दिखाई देती है।जो उत्तर-प्रदेशके हित मेंकाम करना चाहतेहैं वो भाजपाकी ओर आशाभरी नजरों सेदेखते हैं। हालांकि, हमें सपा केविधायक को लेनेकी जरुरत नहींहै, हमारी गठबंधनके साथ प्रचंडबहुमत है।

हमारी सरकार योगीआदित्यनाथ की अगुवाईमें शानदार चलरही है। लेकिनअखिलेश यादव केअंदर बेचैनी हैं, सदन में वोकभी आपा खोबैठते हैं। वोबसपा और कांग्रेससे भी समझौताकर लेते हैं।माना जा सकताहै कि 2022 केविधानसभा चुनाव में अखिलेशयादव की राजनीतिका पूर्ण विरामलग गया है।साल 2024 में उत्तरप्रदेश में शायदसपा का खाताभी न खुले।

इस विस्तृतइंटरव्यू को आपजागरण यूट्यूब परभी देख सकतेहैं।

सवाल- अखिलेशयादव ने कहाहै, आप मुख्यमंत्रीबनना चाहते हैं।सुनने में आयाहै कि मुख्यमंत्रीबनने के लिएआपको अखिलेश यादवने न्योता भीदिया है?

जवाब- मैनें कहान कि अखिलेशयादव की मानसिकस्थिति थोड़ी ठीक नहींहै। वह यहजानते हैं किकेशव प्रसाद उसपार्टी का कार्यकर्ताहै जो राष्ट्रीयस्वंय सेवक कीयात्रा से शुरूकरके राजनीति कीक्षेत्र में विश्वकी सबसे बड़ीपार्टी में कार्यकर्ताके रूप मेंभारतीय जनता पार्टीमें मैनें कामकिया। साथ हीदूसरी बार मैनेंउत्तर प्रदेश केउपमुख्यमंत्री का पदसंभाला है। पार्टीहमारे लिए मांहोती। केशव प्रसादमौर्य कभी भीअपनी मां कोनहीं छोड़ सकताहै।

सवाल- सरकार औरसंगठन के बीचआप अच्छे सेतालमेल बना करचलते हैं। इसपरआप क्या कहनाचाहते हैं?

जवाब- जो भीसरकार में होतेहैं वो संगठनकी यात्रा करकेआते हैं, सरकारमें आने कायह मतलब नहींकी संगठन पीछेछूट जाएगा। संगठनऔर सरकार एकरथ के दोपहिये हैं। संगठनहमारे लिए सर्वोपरिहै। इस बातका ध्यान रखतेहुए हम सबकाम करते हैं।

सवाल- डबल इंजनसरकार होने कितनाफायदा मिल रहाहै?

जवाब- माननीय नरेंद्रमोदी ने गुजरातका मॅाडल खड़ाकिया था। उससेपहले विकास केमुद्दे की राजनीतिही नहीं होतीथी। प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी ने जबसे गुजात सेविकास की राजनीतिशुरू की औरउन्हें जब राष्ट्रका नेतृत्व करनेका मौका मिलातो उन्हेंने महिलासशक्तिकरण के क्षेत्रमें एक कीर्तिमानकाम किया। हमाराप्रयास है किहर गरीब परिवारमें किसी एकसदस्य को रोजगारमिले। हमारी कोशिशहै कि गरीबोंकी आय मेंबढ़ोतरी हो। उन्होंनेआगे कहा किजब चुनाव लड़तेहैं तो जनताभी प्रधानमंत्री मोदीको देश कानेतृत्व सौंपने के लिएजनता भी चुनावलड़ती है।

सवाल - महांगठबंधन केखिलाफ भाजपा कीक्या रणनीति?

जवाब- बिहार कीराजनीति के बारेमें ज्यादा बोलनेकी जरुरत नहीहैं। नीतीश कुमारजब भाजपा केखिलाफ साल 2014 मेंचुनाव लड़े तोउनकी पार्टी केसिर्फ दो सांसदोंको जीत मिली।जब नरेंद्र मोदीके चेहरे परचुनाव लड़ा गयातो उनके सांसदोंकी संख्या बढ़गई। भाजपा औरनरेंद्र मोदी कीइस देश मेंलहर है। मोदीजी ने लोगोंका भरोसा जीताहै। उन्होंने विकासके लिए कामकिया।

जवाब- इस बारसभी 80 सीटों को भाजपाजीत सकती है।हमने जनकल्याण काकाम किया है।हमने 23 लाख करोड़रूपये गरीबों तकपहुंचाए हैं।

3 views0 comments

Comments


bottom of page