google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

ब्रजेश और जितिन के मंत्रालयों में तबादला कांड के बीच खटीक के इस्तीफे से सियासत गर्म


लखनऊ, 20 जुलाई 2022 : योगी सरकार के दूसरे कार्यकाल के 100 दिन पूरे होने पर योगी सरकार के जलशक्ति राज्यमंत्री दिनेश खटीक द्वारा इस्तीफा देने के बाद यूपी के राजनीतिक गलियारों में खलबली मच गई है। डिप्‍टी सीएम और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ब्रजेश पाठक के विभाग में तबादलों में गड़बड़ी पर मुख्‍यमंत्री योगी ने जांच बैठा दी है। जिसमें रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई तय मानी जा रही है।

जितिन प्रसाद के मंत्रालय लोक निर्माण विभाग में हुए इंजी‍नि‍यर्स के तबादलों में धांधली पाए जाने पर मुख्‍यमंत्री योगी ने मंगलवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए प्रमुख अभियंता (विकास) एवं विभागाध्यक्ष लोक निर्माण मनोज कुमार गुप्ता और प्रमुख अभियंता (परिकल्प एवं नियोजन) राकेश कुमार सक्सेना समेत पांच कार्मिकों को निलंबित करते हुए उनके विरुद्ध अनुशासनिक कार्रवाई शुरू कर दी है। मनोज कुमार गुप्ता से पहले राकेश कुमार सक्सेना लोक निर्माण के कार्यवाहक विभागाध्यक्ष की भूमिका निभा चुके हैं। प्रदेश सरकार के जल शक्ति राज्यमंत्री दिनेश खटीक के इस्तीफे की चर्चाओं के बीच मंगलवार देर रात उनके गंगानगर अंतर्गत राजेंद्रपुरम व तिरुपति गार्डन स्थित आवास पर सन्नाटा पसरा था। उनके तीनों मोबाइल फोन स्विच आफ थे। सगे-संबंधी व आसपास के लोग इस बाबत चुप्पी साधे हुए थे। हालांकि आज सुबह वह दिल्‍ली रवाना हुए थे। दिल्‍ली जाने की खबरों के बीच उनके इस्‍तीफे का पत्र वायरल हो गया।

बता दें क‍ि जलशक्ति विभाग में अंदरखाने मची खींचतान की बात भी सामने आ रही थी। योगी सरकार के जलशक्ति राज्यमंत्री दिनेश खटीक द्वारा इस्तीफा दिए जाने की चर्चा मंगलवार देर रात से ही चल रही थी। बताया गया था कि वह विभागीय अफसरों द्वारा उपेक्षा किए जाने से नाराज थे। वरिष्ठ मंत्री के साथ अधिकारों के टकराव की बात भी कही जा रही थी।

मेरठ की हस्तिनापुर सीट से लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए दिनेश खटीक को योगी सरकार 1.0 की तरह ही इस सरकार में भी राज्यमंत्री बनाया गया था। उन्हें कैबिनेट मंत्री स्वतंत्र देव सिंह के साथ जलशक्ति विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। मंगलवार शाम को इंटरनेट मीडिया और चैनलों पर दिनेश खटीक द्वारा त्याग-पत्र सौंपे जाने की खबर सुर्खियां बन गई थी।

सूत्रों के अनुसार, वह अधिकारियों द्वारा बात न सुने जाने से नाराज थे। साथियों पर भी गंभीर आरोप लगाए थे। इस संबंध में मंत्री को फोन किया गया, लेकिन मोबाइल स्विच आफ था। मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा इस्तीफे की पुष्टि नहीं की गई और स्वतंत्र देव सिंह ने भी ऐसी किसी जानकारी से स्पष्ट इन्कार कर दिया था। हालांकि, दोपहर में जब सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी मंत्रियों के साथ बैठक की तो उसमें भी खटीक नहीं दिखे। पता चला है कि सोमवार को राजधानी के किसान भवन में ग्रामीण जलापूर्ति विभाग के अधिकारियों के साथ जलशक्ति मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह ने बैठक की। उसमें राज्यमंत्री खटीक पहुंचे तो थे, लेकिन बैठक बीच में ही छोड़कर चले गए। चर्चा है कि तबादलों को लेकर भी कुछ खींचतान हुई थी, जिसमें उनकी बात नहीं मानी गई।

0 views0 comments

Comments


bottom of page