google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

राहुल गांधी ने ट्वीट किया “M” - फिर बीजेपी ने क्या किया ?



अंग्रेजी का अक्षर एम इस समय भारतीय राजनीति के केंद्र में आ गया है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक ट्वीट किया। ट्वीट में अंग्रेजी के एम अक्षर का जिक्र आते ही सियासत तेज हो गई।


राहुल ने ट्वीट में कहा कि दुनिया में कई तानाशाहों के नाम 'एम' से क्यों शुरू होते हैं? राहुल ने उदाहरण के लिए मार्कोस, मुसोलिनी, मिलोसेविक, हुस्नी मुबारक, मोबुतू, मिकोमबेरो, मुशर्रफ के नाम भी दिए।



राहुल के इस ट्वीट के बाद बारी बीजेपी की थी। बगैर देर किए भाजपा ने काफी जोरदार पलटवार किया ।




केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट कर लिखा,एम से मोहन दास भी थे - साबरमती के संत, बापू। भारत की मिट्टी की बात ही अलग है, ये तानाशाह नहीं बुद्ध और महावीर की वसुधा है। छोड़िये आप नहीं समझेंगे राहुल जी।'



M से Mohandas भी थे - साबरमती के संत, बापू – the greatest apostle of truth and non-violence.


भारत की मिट्टी की बात ही अलग है, ये तानाशाह नहीं बुद्ध और महावीर की वसुधा है।


छोड़िये आप नहीं समझेंगे @RahulGandhi ji... https://t.co/wtUn1vI54F" rel="nofollow



राहुल गांधी के तानाशाह वाले ट्वीट पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष, जे.पी. नड्डा ने कहा कि क्या जरुरी है कि राहुल गांधी को गंभीरता से लिया जाए? उनका भारतीय राजनीति को लेकर क्या दृष्टिकोण रहा है यह सब जानते हैं।




राहुल गांधी के बयान पर हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि अंजान राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि अधिकतर तानाशाहों के नाम एम से शुरू होते हैं। मैंने उनसे पूछा है कि मोहनदास करमचंद गांधी अहिंसा के पुजारी थे जो सारे विश्व में जाने जाते हैं। उनका नाम भी M शब्द से शुरू होता है। उनके बारे में उनकी क्या राय है?'


कांग्रेस नेता राहुल गांधी के ट्वीट पर छिड़ी घमासान में ट्विटर यूजर भी कूद पड़े।



ADVT.
ADVT.

एक यूजर ने लिखा है कि एम से ही मनमोहन सिंह और मोतीलाल नेहरू का भी नाम शुरू होता है। पंकज शंकर नाम के एक यूजर ने लिखा है कि एम से ही मनमोहन सिंह, मोतीलाल नेहरु, एम के स्टलीन औऱ ममता बनर्जी का भी नाम है।


दरअसल राहुल गांधी कृषि कानूनों को लेकर लगातार केंद्र की भाजपा सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते आ रहे हैं। इससे पहले मंगलवार को भी राहुल गांधी ने दिल्ली की सीमाओं पर किसान आंदोलन के चलते दिल्ली पुलिस की ओर से किए गए बैरिकेडिंग और सड़कों पर कीलें गाड़ने को लेकर मोदी सरकार को नसीहत दी थी। उन्होंने कहा था कि भारत सरकार को पुल बनाने चाहिए, दीवारें नहीं।


टीम स्टेट टुडे

{{count, number}} view{{count, number}} comment
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0