google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

वीवो और एमआई फोन से बचना – साइबर सेल ने खोला बड़ा फर्जीवाड़ा – एक IMEI नंबर 13 हजार लोगों के पास



अगर आप वीवो और एमआई समेत चाइना की कम्पनियों के मोबाइलों पर ही भरोसा करते हैं तो सावधान हो जाइए। अगर आपने अभी भी चीनी कंपनियों से सामान खरीदना नहीं बंद किया है तो इस खुलासे के बाद जरूर बंद कर देंगे। चीन के सिर्फ एक कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को तबाही की कगार पर खड़ा कर दिया। अब इसी धोखेबाज़ ड्रैगन चीन के निशाने पर आपका वो मोबाइल है जिसने लॉक डाउन में आपका सबसे ज्यादा साथ निभाया है।


मोबाइल की पहचान होती है उसके आईएमईआई नंबर से।


आईएमईआई के जरिये ही एजेंसियां आपका मोबाइल ट्रैक करती है आपकी हर कॉल, मैसेज और लोकेशन की सारी जानकारी भी यही IMEI ही देता है।


क्या आप सोच सकते हैं सिर्फ एक आईएमईआई देशभर के करीब साढ़े 13 हजार मोबाइलों में चल रहा होगा।

ये सच है। यूपी पुलिस के मेरठ जोन की साइबर क्राइम सेल की जांच में यह हैरतंगेज खुलासा हो चुका है।


जिस वीवो कम्पनी के मोबाइल की सेल्फी आपको लुभाती होगी उस पर बाकायदा मुकदमा भी करा दिया गया है। एक ही आईएमईआई पर हजारों मोबाइलों का चलना देश की आंतरिक सुरक्षा संग बड़ा खिलवाड़ है।


अब आपको बताते हैं आखिर चीनी कंपनियों के इस बड़े खेल का खुलासा आखिर हुआ कैसे।


एडीजी मेरठ के कार्यालय में तैनात सब इंस्पेक्टर आशाराम के पास वीवो कंपनी का मोबाइल था। स्क्रीन टूटी तो उन्होंने 24 सितंबर 2019 को मेरठ में ही वीवो के सर्विस सेंटर पर मोबाइल को मरम्मत के लिए दे दिया । बैट्री, स्क्रीन और एफएम बदलकर सर्विस सेंटर ने उन्हें मोबाइल दे भी दिया। कुछ दिन बाद डिस्प्ले पर एरर आना शुरू हो गयी।


यूपी पुलिस की साइबर सेल को कुछ शक हुआ तो जांच शुरु हई। जांच में पाया गया कि आशाराम के मोबाइल बॉक्स पर जो आईएमईआई लिखा हुआ है, वह वर्तमान में मोबाइल में मौजूद आईएमईआई से बिलकुल अलग है।


16 जनवरी 2020 को सर्विस सेंटर मैनेजर ने जवाब दिया कि आईएमईआई नहीं बदली गई। चूंकि उस मोबाइल में जिओ कंपनी का सिम था इसलिए साइबर सेल ने उक्त आईएमईआई टेलीकॉम कंपनी को भेजकर डाटा मांगा। वहां से रिपोर्ट आई कि 24 सितंबर 2019 को सुबह 11 से 11.30 बजे तक देश के अलग-अलग राज्यों के 13557 मोबाइलों में यही आईएमईआई रन कर रहा है।


ये सुनते ही यूपी पुलिस के अफसरों के भी होश फाख्ता हो गए। फिलहाल साइबर सेल ने वीवो इंडिया के नोडल अधिकारी हरमनजीत सिंह को 91 सीआरपीसी के तहत नोटिस दिया।


टीम स्टेट टुडे



47 views0 comments

Comments


bottom of page