google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

उद्धव को अखर रहा विधायकों का जाना, कहा- शिवसेना को दोबारा बनाएंगे मजबूत पार्टी


औरंगाबाद, 5 जुलाई 2022 : अपनी पार्टी से विधायकों की बगावत को लेकर उद्धव ठाकरे दुखी हैं। अपनी भावनाओं का इजहार करते हुए उन्होंने कहा है कि जिन्हें पार्टी में सबकुछ मिला उन्होंने ही साथ छोड़ दिया और जिन्हें कुछ नहीं, वो अब भी साथ हैं। हिंगोली में मंगलवार को जिला में पार्टी कार्यकर्ताओं ने बैठक की। इस दौरान पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने सबसे फोन पर बात की और कहा कि पार्टी से विधायकों का बागी रुख तकलीफदेह है लेकिन वे हार नहीं मानेंगे। उन्होंने कहा कि शिवसेना को दोबारा मजबूत पार्टी बनाएंगे।

विधायकों का बागी हो जाना तकलीफदेह

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने मंगलवार को इस बात को माना कि पार्टी में कुछ लोगों की गतिविधियों से उन्हें तकलीफ हुई है। उन्होंने कहा कि पार्टी में फायदा मिलने के बावजूद कुछ लोगों ने धोखा दिया है जिससे उन्हें बुरा लगा। शिवसेना अध्यक्ष ने कहा वे जल्द ही मराठवाड़ा में हिंगोली का दौरा करेंगे। फ्लोर टेस्ट के पहले ही शिवसेना विधायक संतोष बांगर (Santosh Bangar) ने जाकर एकनाथ शिंदे के गुट से हाथ मिला लिया। यह वही विधायक हैं जो कुछ दिन पहले बागियों से सेना में वापसी की गुजारिश कर रहे थे। बता दें कि बांगर हिंगोली जिले के कलमनुरी से विधायक हैं। शिंदे गुट में शामिल होने के बाद सोमवार को बांगर ने विश्वास मत के पक्ष में वोट डाला था। इसके बाद आज हिंगोली में सरकारी गेस्ट हाउस में शिवसेना के नेताओं ने बैठक की। इस दौरान उद्धव ठाकरे ने पार्टी वर्करों से फोन पर बात की। उन्होंने बताया कि उद्धव जल्द ही हिंगोली का दौरा करेंगे। ठाकरे ने सेना वर्करों से कहा कि यह देखना काफी तकलीफदेह है कि जिन्हें शिवसेना के कारण जीत मिली और पार्टी में पद भी प्राप्त था उन्होंने ही साथ छोड़ दिया। लेकिन जिन्हें कुछ नहीं मिला वो मेरे साथ हैं। मैं लडूंगा और सेना को दोबारा खड़ा करूंगा। आपसे मिलने जल्द ही मैं आउंगा।' इस मीटिंग का वीडियो वायरल हो रहा है।

बांगर के आने से शिंदे गुट भी हैरान

वहीं एकनाथ शिंदे ने भी बांगर के अपने गुट में शामिल होने पर हैरानी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि अंतिम समय में बांगर का शिंदे गुट में शामिल होना हैरानी वाला कदम है। बांगर का एक वीडियो देखा गया जिसमें सुबकते हुए विधायक ने बोला है कि राज्य में माहौल खराब हो गया है और शिंदे के साथ गए सभी पार्टी सदस्यों की पार्टी में जरूर वापसी होगी और इन्हें उद्धव ठाकरे माफ भी कर देंगे। छत्रपति शिवाजी महाराज और बाल ठाकरे के फालोअर्स होने के नाते उन्होंने शिवसेना की तारीफ भी की और कहा कि सभी का यह कर्त्वय है कि हिंदुत्व का केसरिया ध्वज बिना किसी धब्बे या दाग के ऊंचे पर लहराए। सोमवार को शिंदे ने राज्य विधानसभा में फ्लोर टेस्ट को पास कर लिया। 288 सदस्यीय सदन में 164 विधायकों ने विश्वास मत के लिए वोट डाला वहीं इसके खिलाफ 99 वोट पड़े। बांगर के चले जाने से शिंदे कैंप में शिवसेना विधायकों का आंकड़ा 40 हो गया है।

0 views0 comments

Kommentare


bottom of page