google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

यूपी विधानमंडल ने रचा इतिहास, महिला सशक्तिकरण के लिए जाना जाएगा 22 सितंबर का दिन


लखनऊ, 22 सितंबर 2022 : उत्तर प्रदेश विधानमंडल नेगुरुवार को इतिहासरच दिया। मानसूनसत्र के दौराननारी शक्ति कोसमर्पित दोनों सदनों मेंमहिला सदस्यों नेप्रखरता के साथअपने अपने मुद्दोंको रखा। विधायकअनुपमा जायसवाल ने इसकदम को महिलासशक्तिकरण के उन्नयनकी मिसाल बताया।उन्होंने कहा किनारी सम्मान कीजो गाथा आजउत्तर प्रदेश की 18वीं विधानसभा लिखनेजा रही है, उसका पूरे देशमें इससे पूर्वकोई उदाहरण नहींमिलेगा।

इस गूंजकी धमक बरसोंतक याद कीजाएगी

अनुपमा जायसवाल नेकहा कि 'हारेनहीं जब हौसलेतो कम हुएकुछ फासले, दूरीनहीं कोई हमेसमर्पण चाहिये, कुछ करगुजरने के लिएमौसम नहीं मनचाहिए।' उन्होंने कहा किवैसे तो उत्तरप्रदेश में मुख्यमंत्रीके नेतृत्व मेंबहुत सारे क्षेत्रोंमें नंबर वनबनने के कीर्तिमानस्थापित किये गयेहै, लेकिन आजमहिला सशक्तिकरण औरमहिला विधायक केसम्मान में विशेषसत्र के आयोजनमें नंबर वनबनना, पूरे देशमें पहली बारहोने जा रहाहै। यह बाकीप्रदेशों के लिएअनुकरणीय बनेगा। यहां सेजो गूंज आजजाएगी उसकी धमकबरसों बरस तकयाद की जाएगी।इसके लिए सबसेज्यादा बधाई केपात्र विधानसभा अध्यक्षहैं।

आज काहर पल स्वर्णिमइतिहास बनने कीओर

अनुपमा जायसवाल नेकहा कि विधानसभाअध्यक्ष के प्रयाससे आज काबीता हुआ एक-एक पलबहुत ही सुदंर, स्वर्णिम इतिहास बनने कीओर है। उन्होंनेकहा कि आजकोई महिला दिवसनहीं था किमहिलाओं के विषयमें बात करनाजरूरी है, लेकिनफिर भी हममहिला सदस्यों केप्रति आपकी औरपूरे सदन कीसंवेदनशीलता ने यहतय कर दियाहै कि आगेचलकर यह यहींसमाप्त नहीं होगा।यह 22 सितंबर कादिन हर वर्षमहिला सशक्तिकरण केउन्नयन के रूपमें भी जानाजाएगा।

सदन नेमहिला शक्ति कोनमन करके महिलाओंका हौसला बढ़ाया

आज एकदिन सदन नेमहिला शक्ति कोनमन करके महिलाओंका हौसला बढ़ायाहै। दूर दराजगांव में स्वास्थ्यकी देखभाल कररहीं आशा बहनोंका मान बढ़ायाहै। प्रदेश कीएएनएम बहनों, आंगनबाड़ीसेविकाओं की हिम्मतबढ़ाई है। आपनेजोश भरा है 33 हजार बैंक सखियोंमें, आप नेसम्मान दिया हैग्रामीण क्षेत्र में शिक्षाकी अलख जलारहीं शिक्षिकाओं को, आपने संबल दियाहै स्वयं सहायतासमूह की बहनोंको, आप नेऊर्जा प्रदान कीहै डॉक्टर, पुलिस, वकील और गृहणीबहनों को औरबल प्रदान कियाहै इस सचिवालयमें काम करनेवाली प्रत्येक महिलाको।

नेतृत्व का कोईजेंडर नहीं होता

मछलीशहर की सपाविधायक डॉ. रागिनीने शायराना अंदाजमें कहा, ‘दिनकी रौशनी ख्वाबोंको बनाने मेंगुजर गई, रातकी नींद बच्चोंको सुलाने मेंगुजर गई, जिसघर में मेरेनाम की तख्तीभी नहीं, सारीउम्र उस घरको सजाने मेंगुजर गई।' उन्होंनेआगे कहा किआजादी के 75 वर्षोंमें पहली बारदेश की सबसेबड़े सदन उत्तरप्रदेश में सिर्फमहिला विधायकों कोबोलने का अवसरदिया। इस पहलके लिए मैंधन्यवाद देती हूं।नेतृत्व का कोईजेंडर नहीं होताहै। नेतृत्व काहोता है एकविचार और एकसोच, एक विचारधारा जिससे आपखुद से लोगोंको जोड़ते हैं।

देश काविकास तभी जबनारी का विकास

राम मनोहरलोहिया ने कहाथा कि देशका विकास तभीहोगा जब देशमें नारी काविकास होगा। देशकी राजनीति मेंमहिलाओं का नेतृत्वमात्र 9 फीसद हीहै। वहीं विकसितदेश में महिलाओंका नेतृत्व 30 फीसदहै। हमें भीइस पर विचारकरने की जरूरतहै। मैं सदनके माध्यम सेआग्रह करना चाहतीहूं कि महिलाओंको हर क्षेत्रमें आरक्षण दियाजाए। स्वामी विवेकानंदने कहा हैकि अगर एकमकसद के लिएखड़े हों तोएक वृक्ष कीतरह खड़े होंऔर गिरो तोएक बीज कीतरह गिरो ताकिदोबारा उगकर उसीमकसद से दोबाराजंग लड़ सको।

इस मानसूनसत्र ने देशही नहीं दुनियाका मानसून बदला

विधायक अर्चना पांडेयने कहा किप्रदेश में महिलाओंको आत्मनिर्भर, स्वावलंबीऔर सुरक्षा देनेके लिए मुख्यमंत्रीयोगी आदित्यनाथ केनिर्देशन में मिशनशक्ति अभियान चलायाजा रहा है।ये पहला ऐसाकार्यक्रम है जोमिशन और आपरेशनदोनों के रूपमें है। मिशनशक्ति अभियान काफोकस महिलाओं कोउनके अधिकारों केप्रति जागरूक करनाहै। इस दौरानउन्होंने सरकार की ओरसे चलाई जारही योजनाओं कोगिनाते हुए विपक्षपर हमला किया।

महिला सशक्तिकरण कास्वर्णिम अध्याय लिखा जारहा

विधायक डॉ. सुरभिने कहा किमैं ऐसी पार्टीसे चुनकर यहांआई हूं जिसकासंचालन एक महिलाके हाथों मेंहै। मैं उनकाआभार व्यक्त करतीहूं। उन्होंने कहाकि किसी भीराष्ट्र का विकासइस बात परनिर्भर करता हैकि उसकी आधीआबादी को सभीक्षेत्रों में बराबरका हक मिलरहा है किनहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी और मुख्यमंत्रीयोगी आदित्यनाथ केनेतृत्व में महिलासशक्तिकरण का स्वर्णिमअध्याय लिखा जारहा है। विधायकअंजुला ने कहाकि उत्तर प्रदेशकी 18वीं विधानसभाके मानसून सत्रने देश हीनहीं दुनिया काभी मानसून बदलाहै। उन्होंने विपक्षपर हमला बोलतेहुए कहा किविपक्ष का जोरवैया है किविरोध करने केलिए विरोध करनाहै और इसीलिएजनादेश उनके पक्षमें नहीं आयाहै।

आत्मनिर्भरता के लिएसाक्षरता जरूरी

विधायक पूजा सरोजने कहा किमहिलाओं की आत्मनिर्भरताके लिए साक्षरताबहुत जरूरी है।साक्षरता से मतलबकेवल पढ़ने लिखनेसे नहीं हैबल्कि साक्षरता हमारेअधिकारों, कर्तव्यतों के लिएजागरुक करती है।ऐसे में महिलाओंको शत प्रतिशतशिक्षित करने परज्यादा से ज्यादाजोर दिया जाए।

मंत्री गुलाब देवीने महिलाओं केलिए योजनाएं गिनाईं

मंत्री गुलाब देवीने कहा किबेटियों के प्रतिसमाज की सोचको सकारात्मक बनाएरखने के लिएयोगी सरकार नेउनकी शिक्षा औरस्वास्थ्य का पूराध्यान रखते हुएमुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजनाके तहत विभिन्नचरणों में सहायताधनराशि दी जारही है। उन्होंनेप्रदेश की बेटियोंऔर महिलाओं कोआत्मनिर्भर और स्वावलंबीबनाने के लिएसरकार की ओरसे चलाई जारही योजनाएं केबारे में विस्तारसे बताया। वहींविधायक सैयदा खातून, डॉ. मंजू श्रीवास्तव, ऊषा, मनीषा अनुरागी, मुक्तासंजीव राजा, मीनाक्षीसिंह, पूजा पालआदि ने भीअपनी बात रखी।

0 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0