google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

UP TET 2021 : पेपर लीक का मास्टरमाइंड अरविंद राणा उर्फ गुरुजी बागपत से गिरफ्तार


मेरठ, 2 अप्रैल 2022 : प्रदेश में बीते वर्ष 28 नवंबर को यूपी टीईटी पेपर लीक होने का मास्टर माइंड अब उत्तर प्रदेश एसटीएफ के गिरफ्त में है। इस केस के मास्टरमाइंड अरविंद राणा उर्फ गुरुजी को एसटीएफ ने बागपत से गिरफ्तार किया है। यूपी टीईटी पेपर लीक मामले में सरकार की काफी बदनामी हुई थी और इस मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी को गिरफ्तार किया गया। इसके साथ तीन दर्जन लोगों को गिरफ्तार करने के साथ कई बड़ों के खिलाफ कार्रवाई की गई थी और मामले की जांच एसटीएफ को सौंपी गई थी।

योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले कार्यकाल के यूपी टीईटी 2021 पेपर लीक के मुख्य आरोपित मास्टर माइंड अरविंद राणा उर्फ गुरुजी को उत्तर प्रदेश एसटीएफ की टीम ने बागपत से पकड़ा है। एसटीएफ के एएसपी बृजेश सिंह ने बताया कि मूल रूप से शामली के झिंझाना का निवासी अरविंद राणा प्रदेश का बड़ा नकल माफिया है। उसके तार उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और उत्तराखंड से जुड़े हैं। उन्होंने बताया कि आरोपित राणा साल्वर गिरोह चलाता है। आरोपित का गिरोह एसएससी सहित कई प्रतियोगी परीक्षाओं में सेंधमारी करते हुए पेपर लीक कराता था। उत्तर प्रदेश टीईटी 2021 सहित कई प्रतियोगी परीक्षाओं में वह अपने साल्वर बैठाकर पैसे लेकर हजारों अपात्र लोगों फर्जी तरीके से नौकरी दिलवा चुका है।

एसपी ने बताया कि आरोपित के खिलाफ चार मुकदमे दर्ज हैं। वह कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र के वांछित चल रहा था। इन दिनों आरोपित अरविंद राणा पल्लवपुरम के एक आलीशान मकान में रह रहा था। नवंबर में एसटीएफ ने यूपी टीईटी पेपर लीक मामले में शामली से तीन आरोपियों रवि, धर्मेंद्र, मनीष, बबलू को गिरफ्तार किया है। तब से अरविंद राणा फरार चल रहा था। उसी समय से राणा एसटीएफ के रडार पर था।

यूपी टीईटी प्रश्नपत्र लीक केस की जांच कर रही एसटीएफ के हाथ पेपर लीक होने के अगले ही दिन यानी 29 नवंबर 2021 को ही अहम सुराग लगे थे। प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ के कड़े निर्देशों के बाद एसटीएफ की जांच पेपर लीक करने वालों पर केंद्रित हो थी। एसटीएफ ने पेपर लीक मामले की जांच के साथ ही इस मामले में आरोपितों के विरुद्ध दर्ज मुकमदों की विवेचना भी शुरू कर दी थी। एसटीएफ की अलग-अलग टीमों ने लखनऊ, मथुरा, कौशाम्बी, प्रयागराज, अयोध्या व अन्य जिलों में 15 से अधिक संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। बिहार के नालंदा निवासी साल्वर गिरोह के सरगना राजन को भी खोजा गया। प्रयागराज स्थित परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय से कई जानकारियां जुटाई गई। एटीएफ पूर्व में हुई अन्य परीक्षाओं के दौरान पकड़े गए कई साल्वर गिरोह के सक्रिय सदस्यों की तलाश की। एसटीएफ ने आरोपितों के मोबाइल नंबरों के जरिए उन लोगों के बारे में भी छानबीन कर की, जिनके वे अधिक संपर्क में थे।
2 views0 comments

Comments


bottom of page