google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

19 साल बाद दो महीने का होगा श्रावण मास


नई दिल्ली, 5 जून 2023 : श्रावण मास में बाबा अमरनाथ के दर्शन को लेकर श्रद्धालुओं में खासा उत्साह है। इस बार 19 साल बाद अधिकमास होने से श्रावण मास दो महीने का होगा। तीन जुलाई से 31 अगस्त तक श्रावण मास होने से इस बार अमरनाथ के दर्शन भी 45 दिनों के बजाय दो महीने होंगे। एक जुलाई से 30 अगस्त तक दर्शन की सुविधा होगी।

इस साल लखनऊ से 15 से 20 हजार दर्शनार्थियों के जाने की उम्मीद है। आचार्य आनंद दुबे ने बताया कि श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा की शुरुआत तीन जुलाई शाम 5:08 बजे से हो रही है। चार जुलाई से श्रावण मास की शुरुआत होगी और श्रावण का पहला सोमवार 10 जुलाई को पड़ेगा।

आचार्य एसएस नागपाल ने बताया कि इस वर्ष अधिकमास लग रहा है, जिस वजह से सावन का महीना 59 दिनों का होगा। ऐसा योग 19 वर्षों के बाद बनने जा रहा है।

22 को रवाना होगा पहला भंडारा

अमीनाबाद के श्री अमरनाथ सेवा संस्थान के महामंत्री ओम प्रकाश निगम ओमी ने बताया कि 22 जून को मनीगाम 30 साल से लगने वाले भंडारे के लिए सेवादारों और सामग्री की रवानगी होगी। 30 जून से 30 अगस्त तक भंडारा चलेगा। मनीगाम में डीसी श्यामबीर की मदद से भंडारा लगने में कोई दिक्कत नहीं होती।

आलमबाग से नंदी श्री गौरी शंकर अमरनाथ सेवा संस्थान के अध्यक्ष शिव कुमार के संयोजन में 25 जून को भंडारे के लिए सामग्री रवाना होगी और 26 को 50 सेवादारों का दल रवाना होगा। पहलगाम में दो महीने भंडारा चलेगा।

जानकारी करने में जुटे श्रद्धालु

नंदी श्री गौरी शंकर अमरनाथ सेवा संस्थान के सेवादार मनोज कुमार ने बताया कि इस बार श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने की उम्मीद है, उनके पास भी शिवभक्तों के फोन अभी से आने लगे हैं।

वह अमरनाथ यात्रा को लेकर रजिस्ट्रेशन, यात्रा की तैयारी, दर्शन आदि के बारे में जानकारी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि पहली बार जाने वाले भक्तों की भी संख्या इस बार बढ़ने की उम्मीद है। युवा भक्तों में खूब उत्साह दिख रहा है। यात्रा में किन-किन स्थानों पर शिविर लगते हैं, क्या-क्या सुविधाएं हैं? इसके बारे में भी जानकारी कर रहे हैं।

ऐसे होगा पंजीकरण

यात्रा कार्ड जारी होने से पहले स्वास्थ्य प्रमाण पत्र बलरामपुर अस्पताल, लोकबंधु अस्पताल, रानी लक्ष्मीबाई और सिविल से लेना होगा। श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड की ओर से अस्पताल का निर्धारण किया जाता है। वेबसाइट shriamarnathjishrine.com पर पंजीयन करा सकते हैं। बैंक से परमिट के पहले श्रद्धालुओं को अपना चिकित्सा प्रमाण पत्र दिखाना पड़ता है। इसके बाद ही पंजीयन होगा। जम्मू-कश्मीर बैंक अमीनाबाद और पंजाब नेशनल बैंक की महानगर में पंजीयन हो रहा है।


0 views0 comments

Comments


bottom of page