google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

80 लाख के फूलों से सजेगा काशी विश्वनाथ धाम, 10 लाख दीयों से जगमग होंगे घाट


वाराणसी, 04 नवम्बर 2022 : विश्वनाथ धाम कालोकार्पण होने केबाद वाराणसी मेंपर्यटकों की संख्यामें अप्रत्याशित वृद्धिहुई है। ऐसेमें देव दीपावलीपर काशी आनेवाले सैलानियों कीसंख्या लाखों में होनेका अनुमान है।योगी सरकार जहांवाराणसी के सभीघाटों को 10 लाखदीयों से रौशनकरके नया रिकॉर्डबनाने जा रहीहै, वहीं नव्य-भव्य श्रीकाशी विश्वनाथ धामको दिव्य औरअलौकिक रूप देनेके लिए फूलोंसे सजाने कीतैयारी है। सरकारकी ओर सेइसके लिए 80 लाखरुपये खर्च कियेजाएंगे। इसमें पूरे विश्वनाथधाम परिसर कीदो दिन तकसजावट की जाएगी।

सीएम योगीआदित्यनाथ ने दिएये निर्देश

काशी कीदेव दीपावली पूरीदुनिया में विख्यातहै। कार्तिक माहकी पूर्णिमा कोमनाये जाने वालेइस महा उत्सवके दौरान बनारसके सभी घाटोंको लाखों दीयोंसे रौशन कियाजाता है, जिसेदेखने देश-विदेशसे बड़ी संख्यामें पर्यटक वाराणसीपहुंचते हैं। काशीआने वाले पर्यटकश्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर भीजरूर जाते हैं।सीएम योगी आदित्यनाथकी मंशा हैकि देव दीपावलीपर वाराणसी आनेवाले पर्यटक काशीविश्वनाथ धाम कीअलौकिक छटा केसाक्षी बनें। इसके लिएपूरे धाम परिसरको लोकार्पण कीतर्ज पर सजानेसंवारने का निर्देशदिया गया है।

विशाखापट्टनम के डेकोरेटरकरेंगे सजावट

वाराणसी के मंडलायुक्तकौशल राज शर्माके अनुसार देवदीपावली पर काशीमें लाखों कीसंख्या में पर्यटकआते हैं, जोकिदर्शन-पूजन केलिए काशी विश्वनाथमंदिर भी जातेहैं। ऐसे मेंमंदिर आने वालेपर्यटकों को नयाअनुभव मिले, इसकेलिए धाम परिसरकी भव्य सजावटकी जाएगी। उन्होंनेबताया कि विशाखापट्टनमके एक नामीडेकोरेटर श्री काशीविश्वनाथ धाम केलिए वॉलेंटियर केतौर पर सजावटका कार्य करनेके लिए इच्छुकहैं। उन्हीं केद्वारा काशी विश्वनाथधाम परिसर कीसजावट फूलों सेकरायी जाएगी। इसमें 80 लाख रुपए काखर्च आएगा।

चंद्र ग्रहण केकारण 7 नवंबर देव दीपावली

मंडलायुक्त के अनुसार 8 नवंबर को चंद्रग्रहण के कारणइस बार 7 नवंबरको ही काशीमें देव दीपावलीका पर्व मनायाजाएगा। उन्होंने बताया किधाम के लोकार्पणके बाद इससाल पहली देवदीपावली है। विश्वनाथधाम को पहलीबार देव दीपावलीपर इतने भव्यरूप में सजायाजा रहा है।हमारा प्रयास हैकि इसे एकपरंपरा का रूपदेते हुए हरसाल बाबा केदरबार को अलौकिकरूप से सजायाजाए, जिसमें यहांके दानदाताओं औरव्यापारियों का भीसहयोग हो। काशीविश्वनाथ धाम बननेके बाद वाराणसीमें पर्यटकों कीसंख्या बढ़ी है, जिससे यहां व्यापारमें भी वृद्धिहुई है औररोजगार के अवसरभी सृजित हुएहैं।

10 views0 comments
bottom of page