google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

अब्बास ने मऊ कोर्ट में किया आत्मसमर्पण, मुचलके पर अदालत ने दी जमानत


मऊ, 21 अक्टूबर 2022 : मऊ जिला न्‍यायालय में शुक्रवारकी दोपहर फरारचल रहे मऊसदर विधायक औरमुख्‍तार अंसारीके बेटे अब्‍बास अंसारीने आत्‍मसमर्पणकर दिया। लंबेसमय से पुलिसको उनकी तलाशथी। मगर, काफीप्रयास के बादभी अब्‍बासअंसारी को पुलिसपकड़कने में नाकामयाबहो रही थी।आखिरकार अब्बास अंसारी केसाथ ही मंसूरऔर उमर अंसारीने भी न्यायालयमें आत्मसमर्पण करदिया। उनके आत्‍मसमर्पण की जानकारीहोने के बादपरिसर में काफीगहमागहमी हो गई।उन पर आचारसंहिता के दौरानहेट स्‍पीचका मामला दर्जकिया गया था।

अब्‍बासअंसारी के साथही मंसूर औरउमर अंसारी नेभी उनके साथमऊ जिला न्‍यायालय में आत्‍मसमर्पण किया तोउनके समर्थक भीइस दौरान परिसरमें मौजूद रहे।अपने अधिवक्‍ताके साथ अदालतमें गुपचुप तरीकेसे वह पहुंचेऔर अदालत मेंआत्‍मसमर्पण कीअर्जी उनके अधिवक्‍ता नेअदालत में पेशकी। इसके बादअदालत में उनकेआत्‍मसमर्पण कीप्रकिया शुरू करदी है। इसदौरान वह अपनेअधिवक्‍ता सेबातचीत करते औरविधिक प्रक्रिया मेंव्‍यस्‍तनजर आए। अब्‍बास कोमऊ जिले कीपुलिस के अलावाकई अन्‍यमामलों में लखनऊपुलिस को भीतलाश थी। इसकेलिए पंजाब केअलावा दिल्‍लीऔर गाजीपुर सहितआजमगढ़ जिले मेंभी कई बारपुलिस टीमें पड़तालकर चुकी हैं।

मुचलके पर रिहाकरने का आदेश

यूपी विधानसभाचुनाव के दौरानबतौर सुभासपा प्रत्याशीमऊ सदर सीटपर प्रचार केदौरान हेट स्पीचदेने के मामलेमें सदर विधायकअब्बास अंसारी सहित तीनवांछित आरोपितों ने एमपीएमएलए मजिस्ट्रेट श्वेताचौधरी की अदालतमें आत्मसमर्पण करदिया। उक्त आरोपियोंकी तरफ सेआत्म समर्पण वजमानत अर्जी परसुनवाई करते हुएएम पी एमएल ए मजिस्ट्रेटने उन्हें न्यायिकहिरासत में लेलिया और उन्हेंजमानत देते हुएमुचलके पर रिहाकरने का आदेशदिया। इस मामलेमें चार्जशीट अदालतमें दाखिल होचुकी है।

गैरजमानती वारंट हुआथा जारी

आरोपितों के तारीखपर अनुपस्थित रहनेके कारण गैरजमानतीवारंट जारी कियागया था। मामलेके अनुसार उत्‍तर प्रदेशमें विधानसभा चुनावके दौरान एकजनसभा में बतौरप्रत्याशी अब्बास अंसारी नेजिले के आलाअधिकारियों को चेतावनीदी थी किउनकी सरकार आरही है औरवे सभी काहिसाब किताब करनेके बाद अन्यजगह स्थानांतरण करवायेंगे।इस मामले मेंमुकदमा दर्ज होनेके बाद फरारहोने के बादसे ही पुलिसउनकी तलाश मेंजुटी हुई थी।अब्बास अंसारी के अधिवक्तादारोगा सिंह, गाजीपुर सेलियाकत अली वइफ्तेखार अहमद नेउनके आवेदन परअदालत में बहसकी।

चुनाव में हेटस्‍पीच केबाद मुकदमा

बीते विधानसभाचुनाव के दौरानबतौर सुभासपा प्रत्याशीअब्बास अंसारी ने अपनेछोटे भाई उमरके साथ चारमार्च को पहाड़पुराके मैदान मेंजनसभा के दौरानखुले मंच सेप्रशासनिक अधिकारियों को खुलीचेतावनी दी थी।अब्बास अंसारी ने अखिलेशयादव का नामलेकर कहा थाकि भैया सेबात हो गईहै। सपा कीसरकार बनने परयहां के अधिकारियोंका छह महीनेतक ट्रांसफर नहींहोगा। पहले सभीका हिसाब-किताबहोगा। इस मामलेमें अब्बास सहिततीन लोगों केविरुद्ध मुकदमा दर्ज हुआथा। सदर विधानसभासीट से विधायकनिर्वाचित होने केबाद पुलिस कोइनकी तलाश थी।

लखनऊ पुलिसभी कर रहीथी तलाश

इसी बीचलखनऊ में अवैधअसलहे के मामलेमें भी अब्बासअंसारी को पुलिसखोजने लगी। विधायकफरार चल रहेथे। देश केविभिन्न हिस्सों में गिरफ्तारीके लिए पुलिसकी टीमें छापेमारीकर रही थीपर शुक्रवार कोअचानक गुपचुप तरीकेसे मऊ कोर्टमें पहुंचकर अब्बासअंसारी ने सभीको चौंका दिया।पुलिस अभी खोजपाती कि विधायकके अधिवक्ता नेएमपी- एमएलए कोर्टमें आत्मसमर्पण किएजाने की अर्जीदे दी। इधरमजिस्ट्रेट ने अब्बासअंसारी, छोटे भाईउमर अंसारी वमंसूर अंसारी कोन्यायिक हिरासत में लेतेहुए मुचलके परजमानत दे दी।

2 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0