google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

एडवोकेट कमिश्नर ने रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कोर्ट से समय मांगा


वाराणसी, 17 मई 2022 : श्रीकाशी विश्वनाथ कारिडोर के प्रांगण में ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे का तीन दिन का काम सोमवार को पूरा हो गया है। इस रिपोर्ट को मंगलवार को वाराणसी की कोर्ट में प्रस्तुत करने का समय था, लेकिन विस्तृत सर्वे रिपोर्ट को कंपाइल करने में थोड़ा समय लगेगा। एडवोकेट कमिश्नर ने कमीशन की कार्यवाही की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए अदालत से समय मांगा है। सिविल जज (सीनियर डिवीजन) की एडवोकेट कमिश्नर की अपील पर दो बजे सुनवाई की जाएगी।

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद परिसर की सर्वे रिपोर्ट आज सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार दिवाकर की अदालत में पेश नहीं हो सकेगी। अभी तक रिपोर्ट पूरी तरह से तैयार नहीं हो सकी है। काम अधिक व समय कम होने से माना जा रहा है कि रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कमीशन टीम अदालत से और समय मांग सकती है। चार दिन चली इस प्रक्रिया में करीब 13 घंटे के वीडियो फुटेज बनाए गए तो 15 सौ तस्वीरें खींची गईं। सर्वेक्षण के दौरान एचडी कैमरे का उपयोग किया गया। कार्य पूरा होने पर फुटेज व फोटो सुरक्षित कर लिए गए हैं। साक्ष्य के तौर पर फुटेज व फोटो रिपोर्ट में शामिल किए जाएंगे।

कमीशन की कार्रवाई के लिए अदालत की ओर से नियुक्त असिस्टेंट एडवोकेट कमिश्नर अजय सिंह ने कहा कि आज सर्वे रिपोर्ट जमा करने का आदेश कोर्ट ने दिया था, लेकिन एडवोकेट कमिश्नर की ओर से अभी पूरी रिपोर्ट नहीं तैयार हो सकी है। हम लोग आज कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर दूसरे दिन की तारीख देने का अनुरोध करेंगे। कोर्ट से जो तारीख मिलेगी उस दिन रिपोर्ट पेश करेंगे। ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के दौरान सैकड़ों फोटो और कई घंटे के वीडियो हैं। उन्हें देख-समझ कर रिपोर्ट को तैयार करने में समय लगेगा।

असिस्टेंट कोर्ट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह ने बताया कि सर्वे तीन दिन यानी 14 से 16 मई तक चला। अभी तक इसकी 50 प्रतिशत रिपोर्ट ही तैयार हो सकी है। रिपोर्ट अभी पूरी नहीं हुई है, इसलिए हम आज इसे अदालत के समक्ष पेश नहीं कर पाएंगे। हम कोर्ट से विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए तीन से चार दिन का समय मांगेंगे।ज्ञानवापी परिसर के सर्वे की शुरुआत 14 मई को हुई थी। तीन दिन के सर्वे के आखिरी दिन हिंदू पक्ष ने सोमवार को ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में शिवलिंग मिलने का दावा किया था। हिंदू पक्ष के दावे पर अदालत के आदेश से उस जगह को सील कर दिया गया है।

मुस्लिम पक्ष ने हिंदू पक्ष के दावे का खंडन करते हुए उसे फव्वारा बताया है। इसके साथ ही यह भी कहा है कि वह जिला अदालत के आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील करेंगे। वहां पर सर्वे के बाद शांति और कानून व्यवस्था को लेकर पुलिस और प्रशासनिक महकमा अतिरिक्त सतर्कता बरत रहा है। मिश्रित आबादी वाले इलाकों में पुलिस और पीएसी के जवान तैनात हैं।

19 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0