google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

अखिलेश ने फिर की अग्निवीर योजना की आलोचना, बोले- देश की सेवा करने वाला नहीं होगा शामिल


लखनऊ, 23 नवंबर 2022 : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को सेना में युवाओं की नई भर्ती योजना ‘अग्निवीर योजना’ की आलोचना करते हुए कहा कि जो देश की सेवा करना चाहता है वो कभी अग्निवीर नहीं बनना चाहेगा। उन्होंने बुधवार को मैनपुरी में पूर्व सैनिकों को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी संविधान के टुकड़े-टुकड़े कर रही है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मैनपुरी के समाजवादी पार्टी कार्यालय में पूर्व सैनिक सम्मेलन को सम्बोधित किया और मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशी डिम्पल यादव को विजयी बनाने के लिए जनसम्पर्क किया। उन्होंने कहा कि फर्रुखाबाद में सेना भर्ती का आयोजन हुआ लेकिन नौकरी किसी को नहीं मिली। सरकार कह रही है कि इन योजनाओं से बजट बचा रही है, लेकिन जब देश ही नहीं बचेगा तो बजट कैसे बचेगा।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि मैनपुरी की जनता ने नेताजी को बहुत सम्मान दिया है। उन्होंने भूतपूर्व सैनिकों से कहा कि अगर आप लोग अपने बूथ को मजबूत करेंगे, तो इस चुनाव में हमारी सबसे बड़ी जीत होगी। आपके लोग हर जगह हैं। भूतपूर्व सैनिकों की बात पर जनता भरोसा करती है। सबसे ज्यादा सेवानिवृत्त फौजी मैनपुरी, एटा, इटावा में हैं। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी पूरी मेहनत कर रही है, पूर्व सैनिक भी साथ दे देंगे तो पार्टी को जीतने से कोई रोक नहीं सकता।

अखिलेश ने सपा सरंक्षक मुलायम सिंह यादव को याद करते हुए कहा कि उन्होंने कभी किसी फैसले का मन बनाया तो उन्हें कोई रोक नहीं पाया। नेताजी जब रक्षा मंत्री थे तो सियाचिन में गए, बताया गया कि वहां बहुत ठंड होती है, आप धोती कुर्ते में नहीं जा सकते, लेकिन किसी की परवाह किए बिना वे धोती कुर्ते में ही गए।

उन्होंने कहा कि नेताजी रूस भी धोती कुर्ते में गए थे। रूस के राष्ट्रपति ने भी प्रोटोकाल तोड़कर नेताजी का स्वागत किया था। नेताजी के कारण ही आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे जल्दी बन पाया। 26 नवंबर, 2016 को सुखोई और मिराज उतारकर उद्घाटन किया गया। हमने समाजवादी सरकार में एक्सप्रेस-वे के दोनों ओर किसानों की सुविधा के लिए मंडियां स्थापित की थीं लेकिन भाजपा ने उसे बर्बाद कर दिया।

इस अवसर पर पूर्व सांसद उदय प्रताप सिंह ने कहा कि नेताजी ने ही शहीद जवानों का पार्थिव शरीर उनके घर तक पहुंचाने की व्यवस्था करके सम्मान दिलाया। पहले तो सिर्फ टोपी और बेल्ट भेजी जाती थी। नेताजी किसानों के नेता थे और वे कहते थे कि किसान का बेटा ही फौज में जाता है। जब वे रक्षामंत्री थे तो तब हमारी सेना ने चीन को खदेड़ने का काम किया था। नेताजी ने हमेशा जवानों का मनोबल बढ़ाने का काम किया।


0 views0 comments