google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

अयोध्‍या में मतांतरण के लिए किशोरी को पिलाते थे कथित आब-ए-जमजम


अयोध्या, 17 अगस्त 2023 : मतांतरण के लिए किशोरी को कथित आब-ए-जमजम पीने के लिए दिया गया था। फतेहगंज स्थित एक मजार पर ले जाकर यह ढोंग रचा जा रहा था। उसे सिर्फ जमजम का पानी ही नहीं, बल्कि एक कागज पर उर्दू के कुछ शब्द लिख कर उसे पानी की बोतल में डाल कर दिया गया था। यह पानी उसे सुबह, दोपहर और शाम को पीना था।

सामूहिक दुष्कर्म के बाद किशोरी के मतांतरण के प्रयास का मामला

किशोरी को मतांतरण के लिए मजार पर ले जाने वाले तीन मुस्लिम युवकों को भी गिरफ्तार किया गया है, जिनसे पूछताछ में यह सच्चाई सामने आई है। गिरफ्तार किए गए लोगों में पठान टोलिया निवासी जीशान, नियावां निवासी रज्जाक, दिल्ली दरवाजा निवासी नौशाद शामिल हैं। गत 14 जुलाई को सामूहिक दुष्कर्म के बाद किशोरी के मतांतरण के प्रयास का प्रकरण प्रकाश में आया था। इसकी प्राथमिकी महिला थाने में पंजीकृत है। इस मामले में मुख्य आरोपी खालिद अंसारी व शुभम जेल में हैं।

शादी का झांसा देकर मतांतरण का दबाव बनाया

तीन अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तार किया गया है। एक सहेली के माध्यम से किशोरी की मुलाकात शुभम से हुई। शुभम ने खालिद से किशोरी को मिलाया। खालिद ने किशोरी को अपने जाल में फंसाया। इसके बाद उसके साथ दुष्कर्म हुआ। खालिद ने किशोरी को शादी का झांसा दिया, लेकिन इससे पहले उस पर मतांतरण का दबाव बनाया गया। उसे कई धर्मस्थलों पर ले जाया गया। खालिद का एक गिरोह है, जो हिंदू लड़कियों का मतांतरण करा कर उन्हें बाहर भेजता है। इसी गिरोह के सदस्य जीशान, रज्जाक और नौशाद बताए गए हैं। क्षेत्राधिकारी नगर शैलेंद्र सिंह ने बताया कि तीन और अभियुक्तों की गिरफ्तारी की गई है।

रामनगरी में तेजी से फैल रहा मतांतरण का जाल

धोखे और दबाव में मतांतरण की साजिश रामनगरी में तेजी से पांव फैला रही है। लव जिहाद तो कहीं प्रार्थना सभा के नाम पर हिंदुओं को लक्ष्य बनाया जा रहा है। रामनगरी में दो माह के भीतर मतांतरण के तीन ऐसे मामले सामने आ चुके हैं। रामनगरी में इस प्रकार की बढ़ती घटनाएं गंभीर मानी जा रही हैं, क्योंकि यहां हिंदू आस्था और विश्वास की जड़ें गहरी हैं।

गत वर्ष दो अक्टूबर को शहर के पुरानी सब्जी मंडी क्षेत्र से पीएफआइ के सक्रिय सदस्य मो. जैद व पहले 29 सितंबर को बीकापुर के कुढ़ा गांव से पीएफआइ सदस्य अरकम को गिरफ्तार किया गया था। इनके पास से मिले अभिलेखों में भारत को मुस्लिम राष्ट्र बनाने सहित अन्य साजिशों के बारे में उल्लेख था। ऐसे में मतांतरण की बढ़ती घटनाएं ऐसी ही साजिश का हिस्सा होने की आशंका है।

गत 14 जुलाई को शहर की एक किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद उसके मतांतरण का प्रयास, महराजगंज थाना में प्रर्थनासभा के बहाने ईसाई धर्म स्वीकार कराने की साजिश तथा अब बीकापुर में धर्म छिपा कर हिंदू विधवा से विवाह कर मतांतरण का षड़यंत्र राष्ट्र विरोधी गतिविधियों का संकेत हैं। एसएसपी राजकरन नय्यर ने बताया कि ऐसे लोगों पर कार्रवाई का निर्देश दिया है, जो धर्म बदलने के लिए लोगों को बाध्य कर रहे हैं।

1 view0 comments

Comments


bottom of page