google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

अतीक व मुख्तार ने भी कराया था शिया वक्फ संपत्तियों पर कब्जा


लखनऊ, 9 मई 2023 : शिया वक्फ बोर्ड की संपत्तियों पर माफिया मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद ने भी कब्जा करा लिया था। यह खुलासा उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन अली जैदी ने सोमवार को किया। उन्होंने बताया कि प्रयागराज के इमामबाड़े की वक्फ संपत्ति को मुतवल्ली की मिलीभगत से अतीक अहमद ने अवैध तरीके से कब्जा कर लिया था।

अली जैदी ने सोमवार को पत्रकार वार्ता में बताया कि माफिया मुख्तार अंसारी की पत्नी के नाम गलत तरीके से पूर्व की सरकारों और पूर्व चेयरमैन की मिलीभगत से लखनऊ में करोड़ों रुपये की संपत्ति दर्ज करा दी गई थी। इन मामलों की जानकारी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को देकर सीबीआई जांच की मांग की गई है। जांच होने पर कई और मामले भी खुल सकते हैं।

उन्होंने बताया कि उनके पास दो शिकायतें आईं, जिसमें एक प्रयागराज के गुलाम हैदर इमामबाड़े की थी, इसमें माफिया अतीक अहमद ने इमामबाड़े को तोड़कर कांप्लेक्स बनवा लिया था। दूसरी शिकायत लखनऊ में थाना सहादतगंज अंतर्गत वक्फ दारोगा मीर अली की संपत्ति की थी।

इसमें मुख्तार अंसारी ने कब्जा कर अपनी पत्नी के नाम से प्लाटिंग कर दी थी। अली जैदी ने कहा कि पूर्व चेयरमैन और वहां के पूर्व मुतवल्ली की मिलीभगत से माफिया को कब्जा दिलाया गया। उन्होंने कहा कि वक्फ संपत्तियां माफिया के लिए सबसे आसान रहती हैं। कई जगहों पर इन माफिया का अवैध निर्माण में भी पैसा लगा है।

उन्होंने कहा कि शिया वक्फ बोर्ड ने इन सब शिकायतों को मुख्यमंत्री और शासन को पत्र के माध्यम से अवगत करा दिया है और उन्हें शक है कि इस तरह की संपत्तियों पर कब्जे के कई और खुलासे हो सकते हैं। चेयरमैन ने बताया कि नवंबर 2021 में शिया वक्फ बोर्ड का निर्विरोध चुनाव जीतने के बाद आज तक बोर्ड की आय में चार गुणा की वृद्धि हो चुकी है। अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि वक्फ संपत्तियों पर अवैध निर्माण पूरी तरह रोक दिया गया है। वक्फ जमीनों की अवैध बिक्री पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है। भ्रष्टाचार में लिप्त मुतवल्लियों को वक्फ बोर्ड ने हटा दिया है।

0 views0 comments

Comments


bottom of page