google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

जौहर यूनिवर्सिटी मामले में बढ़ेंगी आजम खां की मुश्‍क‍िलें


लखनऊ, 8 अक्टूबर 2023 : मौलाना मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट में सरकारी धन लगाए जाने के मामले में आयकर विभाग ने सपा के राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व मंत्री आजम खां के करीबी रहे अधिकारियों की भूमिका की छानबीन तेज की है। इस कड़ी में आयकर विभाग ने आजम के करीबी एक पूर्व आइएएस अधिकारी से पूछताछ की है। आजम जब सपा सरकार में मंत्री थे, तब यह पूर्व आइएएस अधिकारी नगर विकास व अल्पसंख्यक विभाग में सचिव के पद पर तैनात थे। उन्हें पूछताछ के लिए नोटिस जारी किया गया था।

सूत्रों का कहना है कि अन्य विभागों में भी तैनात रहे आजम के करीबी रहे कुछ अन्य अधिकारियों से भी जल्द पूछताछ की तैयारी है। आयकर विभाग ने 13 सितंबर को आजम खां के आवास समेत उनके करीबियों के रामपुर, सीतापुर, लखनऊ, मेरठ, सहारनपुर व गाजियाबाद के अलावा मध्य प्रदेश स्थित 30 से अधिक ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की थी।

इस दौरान जौहर ट्रस्ट से जुड़े कई लोगों के ठिकानों को भी खंगाला गया और कई दस्तावेज कब्जे में लिए गए थे। आयकर विभाग इस बात की जांच कर रहा है कि सरकारी धन जौहर ट्रस्ट में किस आधार पर जमा किया गया। आयकर विभाग ने सिंचाई विभाग, नगर विकास विभाग, संस्कृति विभाग, ग्राम विकास विभाग, पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग, सीएंडडीएस, लोक निर्माण विभाग व जल निगम से जौहर विश्वविद्यालय में सरकारी धन से कराए गए अवस्थापना कार्यों का ब्यौरा भी मांगा था।

जौहर विश्वविद्यालय में 150 करोड़ रुपये से अधिक सरकारी धन के दुरुपयोग का अनुमान है। इसी कड़ी में पूर्व आइएएस अधिकारी के बयान दर्ज किए गए। हालांकि पूर्व आइएएस अधिकारी ने सेवाकाल पूरा होने के बाद आजम से दूरी बना ली थी।
0 views0 comments
bottom of page