google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

बजरंग दल याद है आपको - राममंदिर आंदोलन की वो सेना

याचना नहीं अब रण होगा, जीवन जय या मरण होगा



अयोध्या यानी राम जन्मभूमि स्थान उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सिर्फ 130 किलोमीटर की दूरी पर है। राम मंदिर आंदोलन के दौरान लखनऊ ना सिर्फ प्रशासनिक और सरकारी फैसलों का गवाह रहा बल्कि आंदोलन को प्राण वायु देने का काम भी यहीं से हुआ।

विश्व हिंदू परिषद अगर मंदिर आंदोलन का अगुआ बना तो बजरंग दल उसकी हर योजना को अंजाम तक पहुंचाने का जरिया।


राम लला हम आएंगें

80-90 के उस दौर में बजरंग दल युवाओं की ऐसी फौज थी जिसने मंदिर आंदोलन से जुड़ी हर योजना को मूर्त रुप देने में अपनी पूरी शक्ति लगा दी। उस दौर में बजरंग दल के संयोजक थे लखनऊ के युवा और तेज तर्रार अनूप अवस्थी।


मंदिर वहीं बनाएंगें

जब विहिप द्वारा देशभर में अयोध्या में राममंदिर आंदोलन को धार देने के लिए रामजानकी यात्राओं का आयोजन किया और फिर 6 दिसंबर 1991 को जब ढांचा गिराया गया तब अयोध्या में उपस्थित लोगों में करीब 90 प्रतिशत लोग बजरंग दल के सक्रिय कार्यकर्ता थे जिन्होंने इस काम मे अपना अहम किरदार निभाया था।


गांव गांव जाएंगे, मंदिर की अलख जगाएंगे

बजरंगदल के संयोजक होने के नाते अनूप अवस्थी ने इस पूरे महाअभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अब जब 5 अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में भूमि पूजन के साथ ही मंदिर निर्माण की प्रक्रिया को गति देने वाले हैं तो बीते दौर की बहुत सारी यादें ताजा कर दीं अनूप अवस्थी जी ने।


जब लहर उठी थी रोम रोम में राम राम

आइये तस्वीरों के जरिए राममंदिर आंदोलन के उस दौर की यादों को एक बार फिर ताजा करते हैं जिसे राम भक्त हनुमान के नाम पर बने बजरंगदल ने चरम तक पहुंचाया था।


राममंदिर आंदोलन में बजरंगदल की भूमिका की आज यादों के झरोखे से पहली किश्त --


बोल सियापति रामचंद्र की जय

वर्ष 1989 में यह चित्र सदर क्षेत्र के चित्रकार भगवान शरण सिंह ने बनाया था।

जिसे बजरंग दल के कार्यकर्ता हजरतगंज की सडकों पर निडर होकर क्षेत्र में भ्रमण करते हुए और आज यह चित्र विश्व पटल पर है।


प्रणेता जिन्होंने रखी थी असली नींव

नागपंचमी वर्ष 88 गंगा प्रसाद मेमोरियल हाल अमीनाबाद में एक कार्यक्रम। विषय था साम्प्रदायिकता क्या और साम्प्रदायिक कौन?

जिसमें स्वर्गीय महंत अवैद्यनाथ जी मुख्य अतिथि थे और सभी राजनैतिक दलों के व सभी पंथो के प्रमुख उपस्थिति हुए थे।


मां साध्वी ऋतंभरा जी की ओजवाणी

श्री राम रोड के ऐतिहासिक कवि सम्मेलन में साध्वी ॠतंभरा ने आर-पार की भीड़ में जोश भर दिया था।


बच्चा बच्चा राम का जन्मभूमि के काम का

जब मुलायम ने कहा अयोध्या में परिन्दा भी पर नहीं मार पायेगा !

तब ऐतिहासिक फोटो खींचने वाले थापा जी का अभिनन्दन!


सौगंध राम की खाते हैं

वर्ष 87 में लखनऊ बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की पहली गिरफ्तारी!

लखनऊ पुलिस लाइन में!


मंदिर वहीं बनाएंगे

मंदिर आंदोलन के अगुवा राम चन्द्र दास परमहंस जी के साथ बजरंग दल की सेना


चलो अयोध्या.....जय श्री राम....जय जय श्री राम

अयोध्या जी में राम जन्मभूमि की ओर कूच करते हुए!


नाम रहे ना रहे , काम अमर अमिट है

सुप्रीम कोर्ट के दाखिल मुकदमे की लिस्ट में नाम जिसे क्यों हटवाया गया इस पर सोंचना !


हम हिंदू जगाने आएं हैं

राम विलास वेदान्ती जी के साथ!


हम हिंदू जगाकर जाएंगे

आचार्य धर्मेन्द्र जी के साथ!


एक धक्का और दो

आचार्य गिरिराज किशोर जी के साथ


बाबरी ढांचा तोड़ दो

वर्ष 90 में हजरतगंज में गिरफ्तार!


अयोध्या,मथुरा,विश्वनाथ - तीनों लेंगे एक साथ

वीररस के ओजस्वी कवि वेदव्रत बाजपेई जिनका एक एक शब्द लोगों में जोश पैदा करता है ।


टीम स्टेट टुडे



77 views0 comments