google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

भाजपा सरकार लोकतंत्र की हत्यारी, 19 को विधानभवन तक पैदल मार्च करेंगे सपा विधायक


लखनऊ, 14 सितंबर 2022 : समाजवादी पार्टी ने 18 सितंबरतक होने वालाक्रमिक अनशन स्थगितकर दिया है।अब 19 सितंबर कोसपा अध्यक्ष अखिलेशयादव के नेतृत्वमें सभी विधायकव एमएलसी पार्टीकार्यालय से विधानभवनतक पैदल मार्चकरेंगे।

सपा अध्यक्षअखिलेश यादव नेकहा कि भाजपासरकार लोकतंत्र कीहत्यारी है। सरकारका रवैया पूरीतरह अलोकतांत्रिक औरतानाशाहीपूर्ण है। जनताकी समस्याओं औरजनहित के मुद्दोंको लेकर शांतिपूर्णधरना प्रदर्शन विपक्षका लोकतांत्रिक अधिकारहै। इसे भीछीना जा रहाहै। प्रदेश मेंआपातकाल जैसे हालातहै। जनता औरविपक्ष की आवाजकुचलने का षड्यंत्रहै।

सपा केमुख्य सचेतक मनोजकुमार पाण्डेय नेपत्रकार वार्ता में कहाकि भाजपा सरकारतानाशाही पर उतरआई है। अघोषितइमरजेंसी लगाकर हमें रोकागया। उन्होंने कहाकि सपा आमजनता की आवाजसड़क से लेकरसदन तक उठाएगी। 19 सितंबर से शुरूहो रहे विधानमंडलसत्र के पहलेदिन सभी विधायकपार्टी कार्यालय से विधानभवनतक पैदल मार्चकरेंगे।

यह पैदलमार्च उत्तर प्रदेशकी ध्वस्त कानूनव्यवस्था, बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, बहन-बेटियोंकी हत्या, दुष्कर्म, सपा नेताओं वकार्यकर्ताओं के खिलाफझूठे मुकदमें, उत्पीड़न, गरीबों के घरोंपर चलाए जारहे बुलडोजर, किसानोंका बकाया गन्नाभुगतान, किसानों की आत्महत्या, प्रदेश में सूखासंकट समेत अन्यमुद्दों को लेकरहो रहा है।

बता देंकि महंगाई, बेरोजगारीव किसानों केमुद्दे पर बुधवारको विधानभवन स्थितचौधरी चरण सिंहकी प्रतिमा परक्रमिक धरना देनेजा रहे सपाविधायकों व कार्यकर्ताओंको पुलिस नेगिरफ्तार कर लिया।इसके बाद इन्हेंईको-गार्डेन स्थितधरना स्थल लेजाया गया, जहांविधायक व कार्यकर्ताओंने दोपहर दोबजे तक धरनादिया। बाद मेंपुलिस ने इन्हेंरिहा कर दिया।

समाजवादी पार्टी ने 14 सितंबर से 18 सितंबर तकप्रतिदिन प्रदेश सरकार केखिलाफ विधान भवनमें क्रमिक धरनादेने का निर्णयलिया था। महंगाई, बेरोजगारी, कानून व्यवस्था, किसानोंआदि की समस्याओंको लेकर सपाने अपने अलग-अलग विधायकोंको क्रमिक धरनाकी जिम्मेदारी सौंपीथी।

पार्टी की इसघोषणा के बादमंगलवार देर रातसे ही सपाविधायकों को नजरबंदकरते हुए उनकेघरों के बाहरपुलिस का पहरालगा दिया गया।सपा प्रदेश कार्यालयके बाहर भीबैरीकेडिंग कर बड़ीसंख्या में पुलिसबल लगाया गयाथा। प्रदेश अध्यक्षनरेश उत्तम पटेल, पूर्व मंत्री अरविन्दसिंह गोप एवंविधायक रविदास मेहरोत्रा कोउनके घरों मेंनजरबंद कर दियागया।

इतनी सख्तीके बावजूद कुछविधायक व कार्यकर्तासपा मुख्यालय पहुंचगए। यह जबविधानभवन के लिएपार्टी कार्यालय से बाहरनिकले तो उन्हेंपुलिस ने आगेजाने नहीं दिया।पुलिस की विधायकोंव कार्यकर्ताओं सेधक्का-मुक्की वझड़प भी हुई।बाद में इन्हेंगिरफ्तार कर ईकोगार्डेन ले जायागया।

गिरफ्तारी देने वालोंमें ऊंचाहार केविधायक मनोज कुमारपाण्डेय, बिलारी के विधायकमोहम्मद फहीम, गौरीगंज केविधायक राकेश प्रताप सिंह, फतेहपुर के विधायकचन्द्र प्रकाश लोधी, भदोहीके विधायक जाहिदबेग, हरचन्द्रपुर केविधायक राहुल लोधी, गोसाईगंजके विधायक अभयसिंह, बाराबंकी केगौरव रावत, अमरोहाके समर पालसिंह, हुसैनगंज कीविधायक ऊषा मौर्या, बस्ती के विधायकराजेन्द्र प्रसाद चौधरी, बाराबंकीके विधायक धर्मराजयादव उर्फ सुरेशयादव, मेजा केविधायक संदीप पटेल, बस्तीके विधायक महेन्द्रयादव, इसौली सुलतानपुरके मोहम्मद ताहिर, पूर्व विधायक बैजनाथदुबे, पूर्व विधायकमुनीन्द्र शुक्ला, पूर्व एमएलसीसंतोष यादव सनी, राजेश यादव, आनंदभदौरिया, उदयवीर सिंह डा. राजपाल कश्यप आदि प्रमुखथे।

1 view0 comments