google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

बीजेपी नेता अभिताज मिश्र सोमवार को इस शिवालय में करेंगे जलाभिषेक


लखनऊ, 28 मई 2022 : उत्तर प्रदेश के वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद मामले के बाद अब लखनऊ में भी टीले वाली मस्जिद को लेकर विवाद शुरू हो गया है। वहीं अब इस मामले पर बीजेपी युवा मोर्चा के नेता अभिजात मिश्र ने बड़ा बयान दिया है। बीजेपी नेता ने अपने बयान में राजधानी लखनऊ में एक शिवालय वाली मस्जिद होने का दावा किया है। इसके साथ ही लोगों से अपील की है कि सोमवार 30 तारीख को हुसैनगंज थाना क्षेत्र के अंतर्गत विकास दीप पर इकठा हो और उसके बाद शिवालय पर जाकर जलाभिषेक करेंगे।

बीजेपी युवा मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव रहे अभिजात मिश्र ने कहा पूरे भारतवर्ष में लगभग 50 हजार से ज्यादा ऐसे मंदिर थे, जिन्हें ध्वस्त करके महज जिद्द के रूप में मस्जिद बनाई गई। उन्होंने कहा हुसैनगंज थाना क्षेत्र के अंतर्गत एक शिवालय वाली मस्जिद भी है। जहां शिवाला आज भी मौजूद है और उसे अवैध रूप से कब्जा करके मुस्लिम समाज के लोगों ने वहां पर मस्जिद बना दिया है।

पहले पूजा पाठ करने जाते थे लोग

बीजेपी नेता ने मुताबिक अगर उसका रूप देखेंगे, तो शिवाला भी निकला हुआ है और मस्जिद भी उसके अंदर बना दी गई है। पहले वहां पर लोग जाकर पूजा-पाठ करते थे। लेकिन अब उन लोगों का जाना निषेद कर दिया गया है। अभिजात मिश्र की मानें, तो अब उसके अंदर हिंदू समाज का कोई भी व्यक्ति नहीं जा सकता है।

टीले वाली मस्जिद से हिंदू परिवारों को भगाया

लखनऊ के खदरा पुल के पास स्थित टीले वाली मस्जिद को लेकर बीजेपी नेता अभिजात मिश्र ने बताया कि लगभग 20 साल पुरानी बात है, मस्जिद में ही एक छोटा सा मंदिर बना हुआ था। वहां पर करीब 8-10 हिंदू परिवार रहा करते थे। टीले वाली मस्जिद में जुम्मे की नमाज के बाद से वहां पर रह रहे हिंदू परिवार को मार कर भगाया गया। साथ ही उनके घरों को भी गिरा दिया गया।

खुदाई हुई तो मंदिर के अवशेष मिलेंगे

बीजेपी अभिजात ने दावा किया कि टीले वाली मस्जिद के पास छोटा सा जो शिवालय बचा हुआ था उसे उखाड़ कर गोमती नदी में बहा दिया गया। इसी तरह पीपल के पेड़ को भी हटा दिया गया। सब कुछ वहां पर बहुत तेजी हटाया गया है। उन्होंने कहा कि अगर आज भी वहां पर खुदाई हो जाए, तो उसके नीचे विराट मंदिर के अवशेष मिलेंगे।

टीले वाली मस्जिद को लेकर हिंदू संगठनों का दावा

हिंदू सगठनों का भी दावा है कि जहां पर टीले वाली मस्जिद है, वहां पर हिंदुओं का धर्म स्थल लक्ष्मण टीला हुआ करता था। इसको मुगल शासकों ने गिरवाकर मस्जिद का निर्माण कराया था। इसको लेकर हिंदू महासभा की ओर से कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया है। कोर्ट में 2013 से मामला चल रहा है। इसके माध्यम से हिंदू महासभा ने टीले वाली मस्जिद का मालिकाना हक और उसके अंदर दर्शन पूजन की अनुमति दिए जाने की मांग की है। वहीं अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शिशिर चतुर्वेदी ने कहा कि इस मामले में सबूतों के आधार पर और संविधान के दायरे के अंदर कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी।


3 views0 comments