google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

सीएम ने डूबते सूर्य को दिया अर्घ्य, भोजपुरी में कहा-सब पर बनल रहे छठी मइया की कृपा


लखनऊ, 29 अक्टूबर 2022 : मुख्यमंत्रीयोगी आदित्यनाथ नेरविवार को छठघाट पर अस्ताचलगामीसूर्य देव कोअर्घ्य दिया। अखिल भारतीयभोजपुरी समाज कीओर से आयोजितकार्यक्रम में आएमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथने कहा किछठ पर्व प्रकृतिशुद्धता के साथआत्म शुद्धि कापर्व है। सामाजिकसमरसता के प्रतीकपर्व हमें एकताऔर प्रकृति केप्रति जिम्मेदारी काबोध कराते हैं।

सूर्य देव कीकृपा सभी परबनी रहे, यहपर्व यही संदेशदेता है। भगवानसभी को समानरूप से फलदेते हैं बसकितना आप ग्रहणऔर कैसे लेसकते हैं, यहआस्था से तयहोता है। मुख्यमंत्रीने भोजपुरी मेंसब पर बनलरहे छठी मइयाकी कृपा काआशीर्वाद दिया तोपूरा परिसर तालियोंसे गुंजायमान होउठा।

उत्तर प्रदेश केमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथने पूजा सेपहले सफाई अभियानके लिए भोजपुरीसमाज के साथही उप मुख्यमंत्रीब्रजेश पाठक, महापौर सयुक्ताभाटिया व डीएमसूर्यपाल गंगवार समेत प्रशासनकी तारीफ की।मुख्यमंत्री ने समापनके बाद भीसफाई अभियान चलानेका आह्वान किया।

घाटों पर बिखरीछठ की छटा, अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्यदेने के लिएउमड़ा सैलाब : विविधतामें एकता केरंग से सराबोररविवार को छठपर्व पर अस्ताचलगामीसूर्य की उपासनाके लिए गोमतीघाटों पर उमड़ाजन सैलाब हमारीआस्था और विश्वासको और समृद्धिप्रदान कर रहाथा। समृद्धि केदेव भगवान सूर्यकी उपासना केलिए शाम सेही सिर परटोकरी में विविधप्रकार के पूजनसामग्री के साथपुरुषों के अंदरजहां पूजन कीउत्सुकता नजर आरही थी तोनिर्जला व्रती महिलाएं छठमइया को समर्पितगीतों का गुलदस्तापेशकर माहौल कोछठ के रंगमें रंगने काकार्य कर रहीथीं।

अंधेरे में समृद्धिके उजाले कीकामना का नजारादेखते ही बनरहा था। यहनजारा अकेले लक्ष्मणमेला घाट परही नहीं लखनऊके अधिकतर घाटोंपर देखने कोमिला। लक्ष्मण मेलास्थल के छठघाट पर आयोजितहुए मुख्य समारोहमें दोपहर बादसे हर लोगोंके आने काक्रम शुरू होगया था।

सुनहरी रोशनी सेनहाए टेंट मेंजहां गायक अपनीगायकी का जलवाबिखेर रहे थेतो दूसरी ओरघाटों पर बनीसुशोभिता (छठ मइयाके प्रतीक) केपास महिलाओं कीटोली गीतों संगछठी मइया सेपति की दीर्घायुऔर संतान सुखकी कामना कररही थीं। सोमवारको महिलाएं सुबहउदीयमान सूर्य को अर्घ्यदेकर व्रत कापारण करेंगी।

पहले कियास्नान फिर कियाध्यान : साथी महिलाओंके संग घाटपर आई व्रतीमहिलाओं ने घाटपर पहले स्नानकिया और फिरपानी में खड़ेहोकर डूबते सूर्यको अर्घ्य देकरसंतान सुख कीकामना की। सिंघाड़ा, नारियल, फलों केसाथ ही सूप, कच्ची हल्दी, मूलीव गन्ना समेतपूजन सामग्री कोमिट्टी की बनीसुशोभिता पर चढ़ायाऔर विधि विधानसे पूजन करछठी मइया केगीत गाए।

केरवा फरेला घवदसे ओहे पेसुगा मंडराय..., देवीमइया सुन लोअरजिया हमार औरकांचहि बांस कीबहंगिया... जैसे छठगीतों से माहौलछठ मइया कीभक्ति से सराबोरहो उठा। सूर्यअस्त होने सेपहले पहुंचने कीउत्सुकता देखते ही बनरही थी। बैंडबाजे की धुनपर लोग थिरकतेहुए न केवलघाट पर छठकी छटा बिखेरीबल्कि आतिशबाजी संगडूबते सूर्य कीआराधना के साथआतिशबाजी की। कुछव्रती रातभर घाटपर रुके हुएथे और देररात तक छठीमइया के गीतोंका लुफ्त उठातेनजर आए।

यहां भीबिखरी छठ कीछटा : कृष्णा नगरके मानस नगरके नई पानीकी टंकी स्थितसंकट मोचन हनुमानमंदिर परिसर मेंभी गड्ढा खोदकरमहिलाओं ने पूजनकिया। उदय सिंहव अखिलेश सिंहके संयोजन मेंआयोजित पूजन मेंशंकरी सिंह, विनयदीक्षित, राजा भइयाके अलावा रंजनासिंह, विद्यावती, कलावतीव पार्वती देवीसमेत कई महिलाओंने पूजा अर्चनाकी।

खदरा केशिव मंदिर घाटपर धनंजय द्विवेदीके संयोजन मेंगायक संतोष रायने गीतों कागुलदस्ता पेश कियाऔर महिलाओं नेपूजन किया। मनकामेश्वरउपवन घाट मेंमहंत देव्यागिरि केसानिध्य में महिलाओंने सूर्य कोअर्घ्य दिया। महंत नेसमाज के कल्याणके लिए व्रतरखकर अर्घ्य दिया।

तकरोही के दीनदयालपुरम पार्क मेंपिछले 18 वर्षों से आयोजितपूजन में महिलाओंने सूर्य कोअर्घ्य दिया। पंचमुखी हनुमानमंदिर के पासघाट पर भीमहिलाओं ने पूजनकिया। झूलेलाल घाट, कुड़िया घाट, महानगरमवैया समेत रेलवेकालोनियों में भीपूजन हुआ। आदिलनगरमें रंजना सिंहव एलडीए कालोनीमें सुनीता रायने भी पूजनकिया।

2 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0