google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

सीएम योगी से मिले मंत्री दिनेश खटीक, बोले- मैंने अपनी बात रखी तो हो गया समाधान


लखनऊ, 21 जुलाई 2022 : उत्तर प्रदेश की राजनीति में बीते दो दिन तक खलबली मचाने वाले प्रकरण का अब पटाक्षेप हो गया है। प्रदेश के जल शक्ति राज्य मंत्री दिनेश खटीक ने गुरुवार को सीएम योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर भेंट की। इस दौरान उनके विभाग के कैबिनेट मंत्री तथा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह भी थे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा स्वतंत्र देव सिंह के साथ करीब 20 मिनट की मुलाकात के बाद सीएम आवास से बाहर निकले दिनेश खटीक ने कहा कि मुख्यमंत्री ने उनकी बात सुनी है। मुख्यमंत्री अब उस पर काम कर रहे हैं। मेरे पास जो विषय थे, मैंने उनको मुख्यमंत्री के सामने रखा है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी पर कार्रवाई होगी। दिनेश खटीक ने कहा कि मेरी समस्या का समाधान तो हो गया है। मुख्यमंत्री से सामने मैंने अपने सभी विषय रख दिए हैं। उधर दिनेश खटीक के इस्तीफे पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि कोई इस्तीफा नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि दिनेश खटीक जी या फिर किसी भी जनप्रतिनिधि की बात नहीं सुनने वालों पर एक्शन होगा। यह तो तय है कि जो अफसर बात नहीं सुनेंगे उनके खिलाफ कार्रवाई तो जरूर ही होगी।

इससे पहले इससे पहले उपेक्षा तथा अनदेखी का आरोप लगाकर केन्द्र सरकार के गृह मंत्री अमित शाह को संबोधित इस्तीफा का पत्र देने वाले राज्यमंत्री दिनेश खटीक लखनऊ वापस आ गए। नई दिल्ली में दो दिन के प्रवास के दौरान दिनेश खटीक ने अमित शाह तथा भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश (जेपी) नड्डा से भेंट की। लखनऊ में आज दिनेश खटीक के साथ ही जल शक्ति विभाग के कैबिनेट मंत्री तथा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने भी सीएम आवास पर मुख्यमंत्री से भेंट की। लखनऊ में उनकी शाम को ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात संभावित थी।

भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से भेंट करने के बाद राज्यमंत्री दिनेश खटीक की नाराजगी का उबाल थमने लगा है। दो दिनों तक नई दिल्ली में भाजपा की केन्द्र इकाई के दिग्गजों के साथ मुलाकात के बाद दिनेश गुरुवार शाम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने लखनऊ पहुंचे। उत्तर प्रदेश में बीते दिनों स्वास्थ्य, पीडब्ल्यूडी तथा अन्य विभागों में तबादलों में भ्रष्टाचार के मामले उठने पर राजनीतिक पारा काफी गरम हो गया था। इसी दौरान जलशक्ति राज्यमंत्री दिनेश खटीक ने विभाग के कई बड़े अधिकारियों पर तबादलों में भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए। मेरठ के हस्तिनापुर क्षेत्र से विधायक व जलशक्ति राज्य मंत्री दिनेश का 19 जुलाई को इस्तीफे का पत्र वायरल हुआ था। इसमें सिंचाई विभाग के अधिकारियों पर न सिर्फ वित्तीय अनियमितता एवं पैसे लेकर तबादले की बात कही गई, बल्कि दलित मंत्री के साथ भेदभाव के बाद गंभीर आरोप भी थे। अधिकारियों की मनमानी का दर्द बयां करने के साथ ही पत्र में खटीक ने 14 बार स्वयं को दलित बताकर भावनात्मक कार्ड भी खेला। पत्र में दिनेश ने यह भी लिखा कि राज्यमंत्री की कोई सुनवाई नहीं। मंत्री पद सिर्फ गाड़ी और प्रोटोकाल की चमक दमक तक सीमित है। इस बीच दिनेश खटीक मेरठ से रवाना होकर नई दिल्ली में ही डेरा डाले रहे।

कर्मवीर ने कराई जेपी नड्डा व बीएल संतोष से भेंट

दिनेश खटीक ने प्रदेश संगठन सह-महामंत्री संगठन कर्मवीर के साथ नई दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की। इसके बाद राजनीतिक परिस्थितियां तेजी से बदलीं। केंद्रीय संगठन ने प्रदेश सरकार के साथ वार्ता कर समन्वय का आधार बनाया, जिसके बाद दिनेश का मलाल कम हुआ। दिनेश खटीक ने गुरुवार दोपहर लखनऊ के लिए उड़ान भरी। माना जा रहा है कि आज उनकी सीएम योगी आदित्यनाथ व कैबिनेट मंत्री स्वतंत्र देव सिंह से मुलाकात हो सकती है। इतना ही नही ऐसा भी माना जा रहा है कि दिनेश खटीक अपना इस्तीफा वापस भी लेंगे।

0 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0