google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

CM योगी के मुंबई दौरे का दूसरा दिन, बॉलीवुड निर्माता निर्देशकों से भी करेंगे मुलाकात


नई दिल्ली, 05 जनवरी 2023 : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दो दिनी मुंबई दौरे का आज दूसरा दिन है, जहां सुबह 9 बजे उन्होंने मुंबई स्थित होटल ताज में अलग-अलग बैंकों के अधिकारीगणों से मुलाकात की। इसके बाद दोपहर 12 बजे ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट-2023 के रोड शो में शामिल हुए। कार्यक्रम के मुताबिक, आज शाम 6 बजे वह फिल्म इंडस्ट्री के निर्माता और निर्देशकों संग मुलाकात करेंगे, यह मुलाकात भी होटल ताज में ही होगी। इससे पहले बुधवार शाम को वह UP DIASPORA के सत्र में सम्मिलित हुए थे, जहां कई विषयों पर बात हुई थी। यहां उन्होंने उत्तर प्रदेश मूल के उद्यमियों को अपने मूल प्रदेश में निवेश के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि अब उत्तर प्रदेश के शासन प्रशासन में निवेशकों का भरोसा बढ़ा है। दुनियाभर से निवेशक उत्तर प्रदेश की ओर आ रहे हैं। इसलिए आप भी अपने मूल प्रदेश में निवेश करके देश को पांच खरब की अर्थव्यवस्था बनाने में योगदान कीजिए।

सीएम योगी फरवरी के दूसरे सप्ताह में यूपी सरकार द्वारा आयोजित किए जा रहे ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (जीआइएस) में निवेशकों को आमंत्रित करने बुधवार को अपने दो दिवसीय दौरे पर मुंबई पहुंचे। उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत यह कहते हुए की कि हम धर्म के प्रदेश के अर्थ के प्रदेश में निवेश आमंत्रित करने आए हैं। यह समिट 10 से 12 फरवरी तक लखनऊ में होगी जिसमें देश-विदेश के निवेशक हिस्सा लेंगे। देसी निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए देश के विभिन्न शहरों में हो रहे रोड शो की शुरुआत मुंबई से करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में भारत को दो ऐसे अवसर प्राप्त हुए हैं, जो इस ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट को और विशेष बना सकते हैं। एक तो यह कि जिस देश में भारत पर 200 वर्षों तक राज किया, आज हम उसी को पछाड़कर दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुके हैं। दूसरा, आज भारत को जी-20 के देशों के नेतृत्व का अवसर प्राप्त हुआ है। ये दुनिया के वे 20 बड़े देश हैं, जहां दुनिया की 60 प्रतिशत आबादी निवास करती है। इनका दुनिया के 85 प्रतिशत जीडीपी पर अधिकार है। इनका दुनिया के 90 प्रतिशत पेटेंट पर भी अधिकार है।

योगी ने यह भी याद दिलाया कि उनकी सरकार बनने के दो वर्ष बाद ही दुनिया में कोरोना जैसी महामारी की शुरुआत हो गई थी। इसके बावजूद जब दुनिया रुकी हुई थी, तो उप्र अपने यहां निवेश करवा रहा था। मुंबई में यूपी मूल के लोगों की आबादी 35 लाख से अधिक है। इनमें बड़ी संख्या प्रवासी श्रमिकों की भी है। सीएम योगी ने कि कहा कि हम संकट के साथी हैं। हम चुनौतियों से भागने वाले नहीं है। कोरोना महामारी के दौरान जब सब तरफ पलायन हो रहा था, तो उत्तर प्रदेश ने न सिर्फ अपने यहां से पलायन रोका। बल्कि देश के विभिन्न हिस्सों से यूपी लौटे करीब 40 लाख प्रवासियों को भी आश्रय दिया। उन्होंने कहा कि अब निवेशकों को उत्तर प्रदेश के शासन प्रशासन पर भरोसा है कि यहां कोई फाइल अटकेगी नहीं। उन्हें अब यूपी की सुरक्षा व्यवस्था पर भी भरोसा है कि कोई उन्हें परेशान नहीं कर सकेगा। उन्होंने कहा कि मैं आपको आश्वस्त करने आया हूं कि किसी की तरफ से कोई शिकायत आई तो उसकी जवाब देही तय की जाएगी। मुख्यमंत्री ने उप्र मूल के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि एक समय उत्तर प्रदेश के लोगों को पहचान का संकट था। उन्हे खुद को उत्तर प्रदेश का बताने में झिझक होती थी, लेकिन अब परिस्थिति बदल चुकी है। अब उत्तर प्रदेश के लोग गर्व से बताते हैं कि वे किस प्रदेश के हैं।

1 view0 comments